--Advertisement--

पैरेन्ट्स ने इसलिए इस शख्स का नाम रखा 'मध्यप्रदेश', आधारकार्ड दिखाने पर ही होता है यकीन

वे फिलहाल झाबुआ पीजी कॉलेज में अतिथि विद्वान हैं और भूगोल पढ़ाते हैं। फिलहाल पीएचडी कर रहे हैं।

Dainik Bhaskar

Apr 02, 2018, 03:17 AM IST
टीतर का आधारकार्ड। टीतर का आधारकार्ड।

धार(इंदौर). शहर से 30 Km दूर मनावर तहसील के गांव भमोरी में एक व्यक्ति रहते हैं मध्यप्रदेश सिंह। वे फिलहाल झाबुआ पीजी कॉलेज में अतिथि विद्वान हैं और भूगोल पढ़ाते हैं। पहली बार नाम सुनने पर हर कोई यकीन नहीं करता था और वे कारण उन्हें आधार कार्ड दिखाने पर ही मानते हैं। ये है नाम रखने का कारण...


- मध्यप्रदेश सिंह बताते हैं-हम 9 भाई-बहन हैं जिसमें वे सबसे छोटे हैं।

- आगे बताया कि मेरे जन्म के वक्त सबसे बड़े भैया राधुसिंह अमलावर (गिरदावर) किशाेरावस्था में थे और वे स्कूल जाते थे। उन्हें वहां पढ़ाया गया कि हम मध्यप्रदेश में रहते हैं।

- उस समय कुछ अलग नाम रखने की उनकी जिद थी, इसलिए उन्होंने मेरा नाम मध्यप्रदेश सिंह रख दिया।

- मध्यप्रदेश सिंह श्योपुर कॉलेज में भी अतिथि विद्वान रह चुके हैं। नवंबर 2017 से झाबुआ के पीजी कॉलेज में पढ़ा रहे हैं।

- एमए, एमफिल कर चुके मध्यप्रदेश सिंह ने एमपी सेट परीक्षा पास की, पीएचडी कर रहे हैं। वे बताते हैं-नाम बताते ही लोग हैरत में पड़ जाते हैं। मानने को ही तैयार नहीं होते।

आधारकार्ड पर लिखा नाम। आधारकार्ड पर लिखा नाम।
X
टीतर का आधारकार्ड।टीतर का आधारकार्ड।
आधारकार्ड पर लिखा नाम।आधारकार्ड पर लिखा नाम।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..