--Advertisement--

हनुमानजी का प्राकट्य पापियों के संहार के लिए हुआ था : पं द्विवेदी

हनुमानजी का प्राकट्य पापियों के संहार के लिए हुआ था : पं द्विवेदी बागली | हनुमानजी का प्राकट्य रामभक्ति और...

Dainik Bhaskar

Apr 02, 2018, 02:00 AM IST
हनुमानजी का प्राकट्य पापियों के संहार के लिए हुआ था : पं द्विवेदी

बागली |
हनुमानजी का प्राकट्य रामभक्ति और पापियों के संहार के लिए हुआ था। विशेष दैवीय योजना से भगवान शिव, विष्णुजी और पवन देव की युति से वे जन्मे थे। उक्त विचार मुकुंद मुनि पं रामाधार द्विवेदी ने वाग्योग चेतना पीठम पर प्रकट किए। मुख्य बाजार में स्थित श्री छत्रपति हनुमानजी मंदिर पर मध्य रात्रि में अभिषेक पूजन हुआ। पुजारी पं मधुसूदन शर्मा व पं दीपक शर्मा ने महाआरती संपन्न करवाई। वार्ड 12 में स्थित श्रीखेड़ापति हनुमानजी मंदिर पर पुजारी पं शिवनारायण उपाध्याय के सान्निध्य में पं चंद्रशेखर जोशी ने भगवान का पंचामृत रुद्राभिषेक किया। चोलावरण क्रिया के बाद आरती हुई। श्री भूतेश्वर आश्रम पर पं जोशी के आचार्यत्व में यशील सिंह व कुलदीपसिंह सोलंकी ने अभिषेक पूजन किया।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..