• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Indore News
  • News
  • 2.50 लाख रुपए में बनाया बगीचा, ग्रुप के सदस्यों ने श्रमदान कर किया सहयोग
--Advertisement--

2.50 लाख रुपए में बनाया बगीचा, ग्रुप के सदस्यों ने श्रमदान कर किया सहयोग

मंदिर परिसर में बगीचे के निर्माण से ईश्वर दर्शन के बाद हरियाली और फूल देखकर श्रद्धालुओं का मन प्रसन्न हो जाता है।...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 02:05 AM IST
मंदिर परिसर में बगीचे के निर्माण से ईश्वर दर्शन के बाद हरियाली और फूल देखकर श्रद्धालुओं का मन प्रसन्न हो जाता है। प्राचीन शिव मंदिर में केशव वाटिका निर्माण में नवयुवकों की सराहनीय सहभागिता रही। यह कार्य हम सभी को करना चाहिए। यह बात शनिवार को स्थानीय तालाब की पाल पर स्थित प्राचीन शंकर मंदिर परिसर में ओम महाशक्ति ग्रुप के संस्थापक सदस्य विपिन शिवहरे द्वारा अपने दादा-दादी की स्मृति में निर्मित केशव वाटिका के लोकार्पण अवसर पर नप अध्यक्ष अमोल राठौर ने कही। शिवहरे ने अपने दादा स्व बाबूलालजी व शांताबाई शिवहरे की स्मृति में जटाशंकर तीर्थ के ब्रह्मलीन संतश्री केशवदासजी त्यागी (फलाहारी बाबा) द्वारा हरियाली फैलाने के संदेश से प्रेरित होकर बगीचा निर्मित किया। बगीचे के निर्माण में करीब 2.50 लाख रु. खर्च हुए, वहीं ग्रुप के सदस्यों ने श्रमदान किया।

 

हरियाली और फूल देखकर श्रद्धालुओं का मन प्रसन्न हो जाता है : नप अध्यक्ष राठौर

बागली. प्रचान शंकर मंदिर परिसर में बनी केशव वाटिका का रात में लिया गया नयनाभिराम दृश्य।

शिवहरे व श्रमदान करने वाले ग्रुप के सदस्यों का किया सम्मान

कार्यक्रम में स्वागत भाषण प्रभाकर शिवहरे दिया। एडवोकेट प्रवीण चौधरी व राजेंद्र ईनाणी, पूर्व नप अध्यक्ष रामचंद्र राठौर ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर बीते एक माह से वाटिका निर्माण में श्रमदान करने वाले सभी सदस्यों प्रमोद शर्मा, मुन्ना झालर, राजेंद्र पाचौरीया, राजू शर्मा, गणेश, भेरू, संदीप बाबा व अन्य साथियों का स्वागत किया गया। गोस्वामी नवयुवक मंडल के देवेन्द्र गिरी गोस्वामी व राजा गोस्वामी ने विपिन शिवहरे का साफा बांधकर सम्मान किया। संचालन वारिस अली ने किया। आभार शिवहरे ने माना।

गोविंददासजी व गोपालदासजी महाराज ने किया लोकार्पण, संतों का किया सम्मान

केशव वाटिका का लोकार्पण रेणुका माता मंदिर के गोविंददासजी महाराज व वृंदावन के गोपालदासजी महाराज ने किया। समारोह में संत समाज का स्वागत रमेशचंद्र शिवहरे, लोकेंद्र शिवहरे, राजेंद्र शिवहरे व हेमेंद्र शिवहरे ने किया। केशव वाटिका बनाने में 2.50 लाख से अधिक की लागत आई है। साथ ही ग्रुप के सदस्यों ने लगभग 50 हजार रुपए से अधिक राशि का श्रमदान कर महत्वपूर्ण सहयोग किया।