Hindi News »Madhya Pradesh »Indore »News» शुक्रवार से है 9वीं की वार्षिक परीक्षा गणित समेत 5 विषयों का कोर्स अधूरा

शुक्रवार से है 9वीं की वार्षिक परीक्षा गणित समेत 5 विषयों का कोर्स अधूरा

शाउमावि में कक्षा 9वीं और 11वीं की वार्षिक परीक्षाएं शुक्रवार से शुरू होंगी। बच्चे वार्षिक परीक्षा में क्या...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 01:30 PM IST

शाउमावि में कक्षा 9वीं और 11वीं की वार्षिक परीक्षाएं शुक्रवार से शुरू होंगी। बच्चे वार्षिक परीक्षा में क्या लिखेंगे जब शिक्षकों ने कोर्स ही पूरा नहीं कराया। बीईओ ने जब स्कूल का निरीक्षण किया तो उन्हें अव्यवस्थाओं की जानकारी लगी। इस पर प्रभारी प्राचार्य समेत शिक्षकों को फटकार लगाई। आठ साल से पीटीई होने के बावजूद एक भी बच्चा बाहर खेलने नहीं गया। तीन दिन में व्यवस्थाएं नहीं सुधरने पर कार्रवाई के लिए वरिष्ठ अधिकारी को लिखने की बात कही।

बच्चों की वार्षिक परीक्षा दो दिन बाद है। पांच विषयों का कोर्स अधूरा है। मंगलवार को 10.15 बजे बीईओ नीरज अब्राहम ने स्कूल का औचक निरीक्षण किया। शिक्षकों से कोर्स की जानकारी ली। कुछ ने कोर्स पूरा नहीं होने तो कुछ ने अधूरा होने के बाद भी पूरा होना बताया। इस पर बीईओ नाराज हुए।

शिक्षकों से कोर्स पूरा होने का प्रमाण पत्र बनवाकर प्रभारी प्राचार्य की सील व हस्ताक्षर के साथ प्रमाणित प्रति बीईओ कार्यालय में जमा कराने को कहा। अतिरिक्त कक्षाएं लगाने के निर्देश दिए। 11.45 बजे प्रभारी प्राचार्य जगन्नाथ वास्केल स्कूल पहुंचे। शिक्षिका गजरा ठाकुर भी देरी से पहुंची। बिना सूचना के छुट्टी पर मिले शिक्षकों की अनुपस्थिति नहीं लगाकर खाली जगह छोड़ रखी थी। बीईओ ने देरी से आए प्रभारी प्राचार्य और शिक्षिका को लताड़ा। देरी से आए शिक्षिका व छुट्टी पर रहे शिक्षकों की अपसेंट लगाकर धरमपुरी कार्यालय पर जाकर स्पष्टीकरण देने को कहा। लिपिक का काम देख रहे अजय जाेशी के भी देरी से आने पर फटकारा। बीईओ ने पीटीआई जितेंद्र ठाकुर से जानकारी ली तो पता चला वे नौवीं के बच्चों को अंग्रेजी पढ़ाते हैं। कितने बच्चे बाहर खेलने गए और गेम्स पीरियड लगता है या नहीं की जानकारी मांगी तो खेल सामग्री नहीं होना बताया।

निरीक्षण में बीईओ को अव्यवस्थाओं की जानकारी मिली

कक्षा नौवीं के छात्र बोले- शिक्षक समय पर नहीं आते

कक्षा नौवीं के छात्रों ने नाम न बताने कि शर्त पर बताया शिक्षक समय पर नहीं आते। इसी के कारण पांच विषयों में कोर्स अब तक पुरा नहीं हुआ। शिकायत करने पर फेल करने की धमकी देते हैं। गणित में 14 अध्याय हैं। शुरू में पांच पढ़ाए। बाद में 12 से पढ़ाना शुरू किया। विज्ञान में 15 पाठ में से पाठ 7,12 छोड़कर पढ़ाया, संस्कृत पढ़ाने वाले अजय जोशी लिपिक का काम देखते हैं। ऐसे में कक्षा में कम ही आ पाते हैं। संस्कृत में 21 में से 9 पाठ, अंग्रेजी में 19 में से 9, और सामाजिक विज्ञान वाली मेडम के मातृत्व अवकाश पर चले जाने से कोर्स अधूरा रह गया। 18 में से 13 ही पाठ पढ़ाए थे।

तीन दिन में सुधार नहीं होने पर कार्रवाई की जाएगी-बीईअो

बीईओ नीरज अब्राहम ने बताया प्रभारी प्राचार्य की जवाबदारी बनती है कि कक्षाओं में जाकर बच्चों से मिलें और कोर्स की जानकारी लें। किंतु यहां प्राचार्य ही देरी से आते हैं। निरीक्षण के दौरान प्रभारी प्राचार्य और एक अन्य अध्यापिका को एक दिन के लिए अवैतनिक किया है। परीक्षाएं नजदीक होने के बाद भी कोर्स पूरा नहीं हुआ है। तीन दिन में सुधार का प्रतिवेदन नहीं आने पर अनुशासनात्मक कार्रवाई करूंगा। वरिष्ठ अधिकारी को भी बताया जाएगा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×