--Advertisement--

इंदौर

इंदौर

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 02:05 AM IST
इंदौर
राज्य सरकार के कार्यों और उपलब्धियों से जनता को अवगत कराना जनसंपर्क विभाग का काम है। इसके माध्यम से जारी विज्ञापनों को विश्वसनीय माना जाता है। एचपी गैस सिलेंडर के फरवरी के बिल जनसंपर्क विभाग की लापरवाही उजागर कर रहे हैं। इन बिलों में प्रदेश सरकार की योजनाओं से संबंधित तीन विज्ञापन दिए गए हैं।

इनमें कई जानकारियां गलत हैं। सबसे बड़ी चूक तो इंदौर को लेकर की गई है। ‘स्वच्छता से समृद्धि’ शीर्षक से जारी विज्ञापन में स्वच्छता में इंदौर का देश में दूसरा स्थान बताया गया है, जबकि बच्चे-बच्चे को पता है कि इंदौर नंबर-1 है। हकीकत यह है कि साफ-सफाई में नंबर-2 भोपाल शहर है। हाल ही में केंद्रीय दल स्वच्छता में इंदौर को पूरे 100 नंबर देकर गया है। यानी इस बार भी इंदौर के ही नंबर-1 रहने की संभावना है।