• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Indore News
  • News
  • सभी सहकारी संस्थाओं को अपने खाते जिला सहकारी केंद्रीय बैंकों में ही खुलवाना होंगे
--Advertisement--

सभी सहकारी संस्थाओं को अपने खाते जिला सहकारी केंद्रीय बैंकों में ही खुलवाना होंगे

राज्य सहकारिता मुख्यालय ने सहकारी संस्थाओं के खाते जिला सहकारी केंद्रीय बैंकों में ही खुलवाने के निर्देश दिए...

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 02:35 AM IST
राज्य सहकारिता मुख्यालय ने सहकारी संस्थाओं के खाते जिला सहकारी केंद्रीय बैंकों में ही खुलवाने के निर्देश दिए हैं। मुख्यालय ने कहा है कि यदि किसी कारणवश अन्य बैंक में खाते खुलवाना हों तो उसके लिए मुख्यालय से अनुमति आवश्यक है। निर्देश प्राथमिक कृषि सरकारी साख संस्थाओं, विपणन, क्रेडिट (साख), गृह निर्माण, प्राथमिक उपभोक्ता सहकारी भंडार, दुग्ध उत्पादक सहकारी समितियों, मत्स्य सहकारी सहित सभी सहकारी संस्थाओं को दिए गए हैं।

राज्य सहकारिता आयुक्त कार्यालय ने सभी जिलों के सहकारिता प्रमुखों को निर्देशित करते हुए कहा है कि कई सहकारी संस्थाओं द्वारा अपने खाते व्यवसायिक और वाणिज्यिक बैंक में खुलवाए गए हैं। इस कारण सहकारी बैंकों में उनका लेनदेन नाम मात्र का रह जाता है। यह सहकारिता के मूल सिद्धांत और मूल उद्देश्य के खिलाफ है। इसके कारण जिला सहकारी बैंकों के पास पूंजी की उपलब्धता में बाधा आती है जिसका विपरीत असर सहकारिता आंदोलन पर पड़ता है।

प्रदेश में हैं 38 जिला सहकारी केंद्रीय बैंक

प्रदेश के सभी जिलों में एक-एक जिला सहकारी केंद्रीय बैंक होती है जो शासन की नीतियों के अनुरूप किसानों और सदस्यों को सुविधाएं देती हैं। वर्तमान में प्रदेश में 38 जिला सहकारी केंद्रीय बैंक हैं। इंदौर में जिला सहकारी केंद्रीय बैंक का नाम इंदौर प्रीमियर को- ऑपरेटिव बैंक है। मुख्यालय ने आदेश में कहा है कि सहकारी संस्थाएं प्राथमिकता के आधार पर जिला सहकारी केंद्रीय बैंकों में खाते खुलवाएं। यदि जिला सहकारी केंद्रीय बैंकों के अलावा अपरिहार्य कारण वश अन्य बैंकों में खाते खुलवाए जाते हैं तो उसके लिए मुख्यालय से अनुमति लेना होगी। सहायक आयुक्त सहकारिता सुरेश सांवले का कहना है यह निर्देश प्राप्त हो चुका है और इस पर पालन करवाया जाएगा।