इंदौर

--Advertisement--

एनजीटी में सदस्य नहीं, कान्ह-सरस्वती नदी सफाई की सुनवाई अटकी

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल की बेंच से एक सदस्य को दिल्ली बुलाए जाने की वजह से गुरुवार को कान्ह, सरस्वती नदी की सफाई को...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 03:30 AM IST
नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल की बेंच से एक सदस्य को दिल्ली बुलाए जाने की वजह से गुरुवार को कान्ह, सरस्वती नदी की सफाई को लेकर दायर याचिका पर सुनवाई नहीं हो पाई। फरवरी और मार्च में भी सुनवाई के आसार नहीं हैं। एनजीटी ने पिछली सुनवाई में दोनों नदियों की सफाई और विकास कार्यों के लिए संयुक्त कमेटी बनाकर निरीक्षण करने और रिपोर्ट देने को कहा था। गुरुवार को याचिकाकर्ता किशोर कोडवानी और निगम की वकील स्वाति मेहता भोपाल पहुंचे तो पता चला कि बोर्ड के एक सदस्य को सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर दिल्ली बुलाया है। उनके चले जाने के कारण बोर्ड पूरा नहीं पाएगा। एक जज सुनवाई कर फैसला भी नहीं दे सकते। अप्रैल में सदस्य की वापसी हुुई और बोर्ड पूर्ण हुआ तो ही सुनवाई हो पाएगी।

नदी सफाई का क्या?

नदी सफाई की मॉनिटरिंग एनजीटी ही कर रहा था। अब नगर निगम पर जिम्मेदारी है कि वह इस अभियान पर कितना ध्यान देता है। एनजीटी महीने में दो बार तारीख लगाकर सख्ती से नदी सफाई करा रहा था। अब दो महीने तक सुनवाई के आसार नहीं हैं।

चार मैरिज गार्डन के मामले अधर में

चोइथराम अस्पताल के सामने बंद किए गए चार मैरिज गार्डन फिलहाल बंद ही रहेंगे। एनजीटी के आदेश पर प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, नगर निगम ने मिलकर इन्हें सील किया था। गार्डन संचालकों ने सशर्त संचालन की अनुमति मांगी थी। बोर्ड नहींं होने के कारण ये भी नहीं खुल पाएंगे।

11 मैरिज गार्डन बाल-बाल बचे- कलेक्टर ने नदी किनारों के मैरिज गार्डन, प्रतिष्ठान का सर्वे कराया था। नदी के दायरे में 11 गार्डन, फैक्टरी चलते मिले थे। इन्हें सील करने के लिए नगर निगम ने नोटिस जारी किए थे। इन पर भी एनजीटी में सुनवाई होना थी।

X
Click to listen..