• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Indore
  • News
  • दो स्कूलों की मान्यता का आवेदन न डीईओ ऑफिस पहुंचा न बीआरसी कार्यालय, फिर भी मिल गई मान्यता
--Advertisement--

दो स्कूलों की मान्यता का आवेदन न डीईओ ऑफिस पहुंचा न बीआरसी कार्यालय, फिर भी मिल गई मान्यता

शिक्षा विभाग द्वारा दो ऐसे स्कूलों को मान्यता दे दी गई, जिनका आवेदन न बीआरसी कार्यालय पहुंचा और न ही जिला शिक्षा...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 03:40 AM IST
दो स्कूलों की मान्यता का आवेदन न डीईओ ऑफिस पहुंचा न बीआरसी कार्यालय, फिर भी मिल गई मान्यता
शिक्षा विभाग द्वारा दो ऐसे स्कूलों को मान्यता दे दी गई, जिनका आवेदन न बीआरसी कार्यालय पहुंचा और न ही जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय। जब मामला जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय में उजागर हुआ तो मान्यता निरस्त करने के बजाय डीईओ ने राज्य शिक्षा केंद्र से कार्रवाई के दिशा-निर्देश मांगे। इनमें से एक स्कूल पर लोकायुक्त का प्रकरण पहले से ही चल रहा है।

जिला शिक्षा अधिकारी ने जो पत्र संचालक राज्य शिक्षा केंद्र को भेजा है, उसमें यह भी कहा गया है कि पहले भी डीईओ कार्यालय द्वारा मान्यता जारी नहीं किए जाने के बावजूद बाले-बाले मान्यता जारी हो गई।

ऐसे सामने अाया मामला

बीआरसी राजेंद्र सिंह तंवर ने डीईओ को पत्र लिखकर बताया कि गोसिया रोड चंदन नगर स्थित अप्सरा स्कूल का पीएस नंबर 8243 और डायस कोड 232060100115 है। इस स्कूल का प्रकरण लोकायुक्त में चल रहा है। इस स्कूल ने बीआरसी कार्यालय में मान्यता के लिए आवेदन नहीं दिया है। बावजूद डीईओ कार्यालय से 23 अगस्त 2017 को स्कूल को मान्यता दे दी गई। बीआरसी ने उक्त स्कूल की मान्यता निरस्त करने के साथ ही दोषियों पर अनुशासनात्मक कार्रवाई का निवेदन भी किया।

डीईओ कार्यालय से हुई गड़बड़ी

इस मामले में डीईओ ने 11 दिसंबर 2017 को संचालक राज्य शिक्षा केंद्र के नाम एक पत्र लिखा, जिसमें कहा गया कि अप्सरा कान्वेंट स्कूल की मान्यता का प्रकरण बीआरसी द्वारा नहीं भेजा गया। बावजूद इसके डीईओ कार्यालय से मान्यता जारी कर दी गई है। इससे स्पष्ट है कि मामले में डीईओ कार्यालय से ही गड़बड़ हुई। इसी के साथ पत्र में 3, दशमेश नगर भोला नगर पीपल्याराव स्थित जेम्स शाइन स्कूल का पीएस क्रमांक 61732 और डायस कोड 23260106749 है। इस स्कूल के लिए भी बीआरसी द्वारा डीईओ कार्यालय में मान्यता प्रकरण नहीं भेजा गया, लेकिन डीईओ कार्यालय से उक्त स्कूल को 19 अगस्त 2017 को मान्यता मिल गई।

आईपी एड्रेस में उलझे -प्रभारी डीईओ सुधीर कौशल ने बताया हमने राज्य शिक्षा केंद्र से यह भी पता करने के लिए निवेदन किया है कि उक्त दोनों स्कूलों की मान्यता विभाग के किस कम्प्यूटर से और किस लॉगिन से पोर्टल पर अपलोड की गई है, ताकि संबंधित व्यक्ति पर कार्रवाई की जा सके। दोनों स्कूलों की मान्यता निरस्त करने के लिए मुख्यालय पत्र लिखा है। दिशा निर्देश जारी होते ही कार्रवाई की जाएगी।

X
दो स्कूलों की मान्यता का आवेदन न डीईओ ऑफिस पहुंचा न बीआरसी कार्यालय, फिर भी मिल गई मान्यता
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..