--Advertisement--

कलेक्टर और याचिकाकर्ता ने देखी कान्ह की सफाई में आ रही बाधाएं

कान्ह-सरस्वती नदी के शुद्धिकरण को लेकर गुरुवार को नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) में सुनवाई होगी। इससे पहले...

Danik Bhaskar | Feb 01, 2018, 02:05 PM IST
कान्ह-सरस्वती नदी के शुद्धिकरण को लेकर गुरुवार को नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) में सुनवाई होगी। इससे पहले बुधवार को कलेक्टर निशांत वरवड़े और याचिकाकर्ता किशोर कोडवानी ने कान्ह शुद्धिकरण में आ रही बाधाएं देखी। उन्होंने सुबह सवा 10 से 12 बजे तक आजाद नगर नाले के पहले मोदी का भट्‌ठा से दौरा शुरू कर श्यामाचरण शुक्ल नगर तक की स्थिति देखी।

कोडवानी ने कलेक्टर को बताया आजाद नगर के पहले 6 एमएलडी क्षमता का सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट राधास्वामी सत्संग स्थल के पीछे लगा है जो काफी छोटा है। अब निगम चिड़ियाघर के पीछे 25 एमएलडी का प्लांट लगा रहा। यहां इतना पानी कैसे आएगा, यह सोचना होगा।

सीवरेज रोकने की मांग

कोडवानी ने आजाद नगर श्मशान के पास बने मकानों का सीवरेज नाले में मिलने से रोकने तथा यहां के नाले किनारे हुए अतिक्रमण हटाने की मांग की। वहीं चिड़ियाघर के पास बनी रिटेनिंग वाॅल के पास खाली जगह छोड़ने और श्यामाचरण शुक्ल नगर में सामुदायिक भवन को नाले से दूर बनाने की भी मांग की।

कोडवानी ने कहा निगम ने टेंडर कर दिए लेकिन अभी भी वह नदी के कैचमेंट में है। कलेक्टर ने शुद्धिकरण में आ रही समस्याएं समय पर निपटान करने का आश्वस्त किया।