• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Indore News
  • News
  • ई-अटेंडेंस के विरोध में रखी थी बैठक, पता चला सीएम ने उसे निरस्त करने की घोषणा की तो आभार माना
--Advertisement--

ई-अटेंडेंस के विरोध में रखी थी बैठक, पता चला सीएम ने उसे निरस्त करने की घोषणा की तो आभार माना

फतेह क्लब में शिक्षकों को संबोधित करते जिलाध्यक्ष वाघेला। संगठनों के विरोध के बाद सरकार का यू टर्न : बुधवंत ...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 03:40 AM IST
फतेह क्लब में शिक्षकों को संबोधित करते जिलाध्यक्ष वाघेला।

संगठनों के विरोध के बाद सरकार का यू टर्न : बुधवंत

आलीराजपुर | शिक्षक संगठनों के विरोध के बाद ई-अटेंडेंस व्यवस्था अनिवार्य करने पर सरकार ने यू-टर्न लिया है। म.प्र. शासकीय अध्यापक संगठन जिलाध्यक्ष अशोक कुमार बुधवंत ने बताया कि रिटायरमेंट की उम्र 62 वर्ष करने पर कर्मचारी संगठनों ने सीएम का सम्मान किया। इस दौरान सीएम ने नए शिक्षण सत्र में ई-अटेंडेंस की नई व्यवस्था को तत्काल स्थगित करने की घोषणा की। गौरतलब है कि स्कूल शिक्षा विभाग ने सभी कर्मचारियों के लिए ई-अटेंडेंस अनिवार्य कर दिया था। 2 अप्रैल से शुरु हो रहे शैक्षणिक सत्र के पहले ही दिन से शिक्षक और अध्यापकों को एम शिक्षा मित्र एप के माध्यम से हाजिरी लगानी थी। जिसका विरोध शिक्षक कर रहे थे। कर्मचारियों ने सीएम को इस व्यवस्था की कमजोरियां बताई थी। जिसके बाद सीएम ने तत्काल शिक्षकों के लिए शुरू होने वाली ई-अटेंडेंस व्यवस्था पर रोक लगा दी है।