इंदौर

  • Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Indore News
  • News
  • बाजारों में लग रही भीड़, शादियों के लिए चांदी के गहनों की खरीदी कर रहे ग्रामीण
--Advertisement--

बाजारों में लग रही भीड़, शादियों के लिए चांदी के गहनों की खरीदी कर रहे ग्रामीण

भास्कर संवाददाता | आलीराजपुर जिले में आदिवासी समाज में होने वाली शादियों को लेकर बाजार में लग्न की रौनक नजर आने...

Dainik Bhaskar

Apr 02, 2018, 03:40 AM IST
बाजारों में लग रही भीड़, शादियों के लिए चांदी के गहनों की खरीदी कर रहे ग्रामीण
भास्कर संवाददाता | आलीराजपुर

जिले में आदिवासी समाज में होने वाली शादियों को लेकर बाजार में लग्न की रौनक नजर आने लगी है। ग्रामीणों की माने तो इस साल 3 हजार से अधिक शादियां होने की संभावना है। ऐसे में बाजारों में बीते एक पखवाड़े से चांदी के पारंपरिक आभूषण खरीदने के लिए दुल्हा-दुल्हन परिवार के लोग पहुंचने लगे है। जिससे बाजारों में आम दिनों के मुकाबले ज्यादा भीड़ हो रही है। अधिकांश लोगों की भीड़ सराफा दुकानों के साथ ही कपड़ों की पर हो रही है। खरीदारी का यह सिलसिला मई के आखिर तक चलेगा। क्योंकि अप्रैल में लग्नसरा के मुहूर्त के चलते ज्यादा शादियां है तो 18 अप्रैल को अक्षय तृतीया होने से जिले में अन्य समाजों में भी विवाह की तैयारी की जा रही है। ऐसे में दुकानों पर रौनक होने से व्यापारियों के चेहरे भी खिले नजर आ रहे हैं।

जिले में 70 से ज्यादा सराफा दुकानें, कुछ व्यापारी साप्ताहिक हाट में लगाते हैं दुकानें

सराफा एसोसिएशन के मुताबिक जिले में करीब 70 से अधिक सराफा दुकानें है। इनमें आलीराजपुर में 30, जोबट व चंद्रशेखर आजाद नगर में 20-20 और शेष अन्य कस्बों व गांवों में है। वहीं वालपुर, सोंडवा, उमराली, छकतला जैसे स्थानों पर सराफ दुकानें नहीं होने से शहर के सराफ व्यवसायी साप्ताहिक हाट बाजार में पहुंचकर चांदी विक्रय करते हैं।

ढाई से 3 किलो चांदी के आभूषण में कडे, हार, तागली, कंदौरा, पायजेब आदि खरीद रहे

सराफा दुकान पर चांदी के आभुषण पंसद करते हुए महिलाएं व पुरुष।

पिछले साल के मुकाबले इस बार चांदी का भाव 1 हजार रु. ज्यादा

वहीं दूसरी और चांदी के भाव में इस बार इजाफा हुआ है। सराफा व्यवसायियों के अनुसार इस बार चांदी के आभूषण का भाव 35 हजार रु. प्रतिकिलो है। जबकि पिछले साल अप्रैल में भाव 34 हजार रु. प्रतिकिलो था।

इन दुकानदारों का कारोबार हुआ दोगुना : शादियों में सबसे जरूरी होता है किराना सामान। इसके चलते किराना दुकानों में भी भीड़ हो रही है। इसी तरह सराफा व्यापारी प्रतिदिन अच्छा व्यवसाय कर रहे हैं। शादियों के सीजन में हर साल जिले में कपड़े का व्यापार लाखों रुपए का होता है।

परेशानी...

गांवों से खरीदारी करने पहुंचे लोगों ने एमजी रोड पर बेतरतीब ढंग से दोपहिया वाहन पार्क कर दिए। जिससे जाम की स्थिति बनती रही।

भीड़ से बार-बार ट्रैफिक होता रहा बाधित

आलीराजपुर व जोबट दोनों क्षेत्र में 1500-1500 शादियों का अनुमान

चांदी के आभूषण खरीद रहे थोडसिंधी के इंदरसिंह, जागरसिंह और सतलिया ने बताया कि पारंपरिक चांदी के आभूषण खरीदने के दुल्हा व दुल्हन दोनों पक्षों के 25-25 लोग आए हैं। इस दौरान ढाई से तीन किलो चांदी के आभूषण खरीदेंगे। जिसमें कडे, हार, तागली, कंदौरा, पायजेब सहित अन्य आभूषण शामिल है। वहीं गांव बोरकुंआ के अमरसिंह ने बताया कि इस साल जिले में करीब 3 हजार से अधिक शादियांं आदिवासी समाज में होने की संभावना है। जिसमें आलीराजपुर क्षेत्र में 1000 से 1500 और जोबट क्षेत्र में भी इतनी ही शादिया होने का अनुमान है।

रविवार को शहर की विभिन्न सराफा दुकानों पर चांदी के आभूषण खरीदने के लिए बड़ी संख्या में विभिन्न गांवों से लोग दोपहिया वाहनों से पहुंचे। शहर के एमजी रोड पर स्थित सराफा दुकानों के आसपास पर मार्ग के दोनों और बड़ी संख्या में दो पहिया वाहन बेतरतीब ढंग से पार्क कर दिए गए। जिससे दिन में कई बार ट्रैफिक जाम की स्थिति बनती रही।

X
बाजारों में लग रही भीड़, शादियों के लिए चांदी के गहनों की खरीदी कर रहे ग्रामीण
Click to listen..