--Advertisement--

अच्छे विचार व संस्कार इंसान में अवश्य होना चाहिए

गायत्री मिशन का मुख्य उद्देश्य व्यक्ति को अपने लिए ही नहीं समाज व देश के लिए भी समयदानी देना चाहिए है। समयदान से...

Danik Bhaskar | Mar 14, 2018, 04:35 AM IST
गायत्री मिशन का मुख्य उद्देश्य व्यक्ति को अपने लिए ही नहीं समाज व देश के लिए भी समयदानी देना चाहिए है। समयदान से पाप कम हो जाते हैं। अच्छे विचार, संस्कार, संयम, सेवा भावना मानव में आवश्यक रुप से होना चाहिए। विदेशों में व्यक्ति अपने लिए आठ घंटे और देशसेवा व समाजसेवा के लिए एक घंटे का समयदान करते हैं। यह बात गायत्री शक्तिपीठ जोबट में प्रदेश प्रतिनिधि डाॅ. शिवनारायण सक्सेना ने जिला एवं तहसील समन्वयकों के लिए आयोजित कार्यशाला में प्रशिक्षण के दौरान कही। शक्तिपीठ द्वारा शीघ्र ही प्लास्टिक थैलियों से पर्यावरण को बचाने के उद्देश्य से कपड़े की थैलियों का निर्माण कर विक्रय किया जाएगा।

जिला समन्वय समिति प्रभारी संतोष वर्मा ने आहार, व्यवहार, विचार सुधारने पर बल देते हुए गायत्री परिवार के विभिन्न आंदोलनों साधना, शिक्षा, स्वास्थ्य व स्वच्छता , स्वावलंबन, पर्यावरण, नारी जागरण, व्यसन मुक्ति, प्रज्ञा मंडल, महिला मंडल, युवा मंडल, नारी जागरण, संस्कृति मंडल, युग साहित्य विस्तार जैसे आंदोलनों की विस्तृत जानकारी देते हुए प्रशिक्षण दिया।

कार्यक्रम का प्रारंभ गायत्री शक्तिपीठ कट्ठीवाड़ा के व्यवस्थापक मोहनसिंह डोडवा ने पंचदेवरी पूजन व दीप प्रज्ज्वलन द्वारा किया। अतिथियों का स्वागत तहसील समन्वयक शिवराम वर्मा व पुष्पा राठौड़ ने किया।

कार्यशाला में विभिन्न आंदोलन के जिला व तहसील समन्वयकों के रूप में रुक्मिणी सोनी, अनिल श्रीवास्तव , सुखदेव टवली, सारिका सक्सेना, सुभाष वाणी, मधुबाला शर्मा, जयंतीलाल वाणी, केशर राठौड़, तृप्ति सोनी, भुरसिंह चौहान उपस्थित रहे। आभार प्रदर्शन सह समन्वयक जयप्रकाश शर्मा तथा शांतिपाठ आशीष सोनी ने किया।

कार्यशाला

गायत्री शक्तिपीठ जोबट में प्रदेश प्रतिनिधि डाॅ. सक्सेना ने जिला एवं तहसील समन्वयकों को प्रशिक्षण के दौरान कहा

गायत्री शक्तिपीठ जोबट में आयोजित कार्यशाला में मौजूद परिजन।