Hindi News »Madhya Pradesh »Indore »News» Dial 100, In The Son Birthday, Did Not Read Message

डायल 100 का इंचार्ज गया बेटे के बर्थडे में, कांस्टेबल ने पढ़ा ही नहीं लूट का मैसेज

आनंद नगर में एक मोबाइल कंपनी में पदस्थ मैनेजर की मां को बंधक बनाकर हुई लूट में भंवरकुआं पुलिस की गंभीर लापरवाही सामने आई

Bhaskar News | Last Modified - Nov 07, 2017, 05:59 AM IST

डायल 100 का इंचार्ज गया बेटे के बर्थडे में, कांस्टेबल ने पढ़ा ही नहीं लूट का मैसेज
इंदौर .भंवरकुआ के चितावद रोड स्थित आनंद नगर में एक मोबाइल कंपनी में पदस्थ मैनेजर की मां को बंधक बनाकर हुई लूट में भंवरकुआं पुलिस की गंभीर लापरवाही सामने आई है। थाने की डायल-100 की एफआरवी के हेड कांस्टेबल ड्यूटी पर नहीं थे और कांस्टेबल ने भोपाल स्थित डायल-100 के कंट्रोल रूम से भेजे गए मोबाइल व एफआरवी में एमडीटी (मोबाइल डाटा टर्मिनल) के मैसेज देखे ही
नहीं, इसलिए पुलिस घटना स्थल पर साढ़े पांच घंटे लेट पहुंची थी और वरिष्ठ अधिकारियों को घटना की तत्काल जानकारी भी नहीं मिली। सीएसपी ने अपनी जांच में हेड कांस्टेबल और कांस्टेबल दोषी पाया है और वरिष्ठ अधिकारियों को जांच पूरी कर भेज दी है। जल्द ही वरिष्ठ अधिकारी लापरवाह पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई करेंगे।
कंट्रोल रूम ने दिए थे घटनास्थल पर जाने के निर्देश
- सीएसपी जूनी इंदौर बसंत मिश्रा ने बताया कि दो बदमाश रात साढ़े तीन बजे खिड़की की ग्रिल उखाड़कर मैनेजर धीरज शर्मा के घर में घुसे थे। इन्होंने बच्चों के कमरे में चोरी करने के साथ उनकी 68 वर्षीय मां सुशीला देवी की गर्दन पर चाकू रखकर बंधक बनाया।
- एक बदमाश उनके ऊपर बैठा और साड़ी से मुंह दबाकर जान से मारने की धमकी देकर उनके कमरे की अलमारी से जोवर और नकदी ले गए थे। घटना की सूचना धीरज ने सुबह 4.40 बजे पुलिस के डायल 100 को की थी।
- इस पर भोपाल स्थित कंट्रोल रूम ने भंवरकुआं थाने की एफआरवी (डायल-100) वाहन को अलर्ट कर इंचार्ज हेड कांस्टेबल धर्मेंद्र व कांस्टेबल कमलेश चौरे को मोबाइल व एमडीटी डिवाइस पर मैसेज कर मौके पर जाने के निर्देश दिए थे, लेकिन उसने मैसेज नहीं पढ़े। इस कारण सुबह 10 बजे के बाद घटना स्थल पर पहुंची।
कांस्टेबल ने पायलट को दिया था मोबाइल
- एफआरवी में ड्यूटी पर तैनात हेड कांस्टेबल धर्मेंद्र थाने के हेड मोहरियर को 12 बजे तक बच्चे का बर्थ डे मनाकर आने का बोलकर गए थे, जो वापस ड्यूटी पर ही नहीं लौटे। इसके अलावा एफआरवी में तैनात कांस्टेबल कमलेश चौरे ने कंट्रोल रूम से मोबाइल व एमडीटी डिवाइस पर भेजे मैसेज को पढ़ा ही नहीं।
- मोबाइल उसने एफआरवी के चालक (पायलट) नरेंद्र को दे रखा था और पूरी रात ड्यूटी गंभीरता से नहीं की। दोनों की लापरवाही आने पर सीएसपी ने अपनी रिपोर्ट में इसी बात का उल्लेख कर वरिष्ठ अधिकारियों को बताया कि साढ़े पांच घंटे देरी से मौके पर पहुंचने से न सिर्फ पुलिस की छवि खराब हुई, बल्कि डायल 100 के रिस्पांस टाइम में भी लापरवाही हुई है। सीएसपी ने जांच रिपोर्ट वरिष्ठ अधिकारियों को दे दी है।
एचसीएम को तो बताकर गया था
- मामले में भास्कर ने हेड कांस्टेबल धर्मेंद्र से संपर्क किया तो उन्होंने बताया कि मैं थाने के एचसीएम को बताकर ही ड्यूटी से गैरहाजिर था। मेरे घर में सगाई के साथ बेटे का जन्मदिन भी था, इसलिए ड्यूटी पर वापस नहीं आ सका।
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×