पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • A Case Of Robbery Was Also Registered Against Jeetu Soni, Who Was Absconding, A Reward Of Rs 10,000

फरार जीतू सोनी पर 10 हजार का इनाम पिता-पुत्र पर लूट का भी मामला दर्ज

8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • इंदौर में अखबार मालिक के दफ्तर की तिजोरी से 30 रजिस्ट्री जब्त
  • अमित 6 दिसंबर तक पुलिस की रिमांड पर
  • फरार जीतू की तलाश में लगीं पुलिस की 4 टीमें

इंदौर . इंदौर पुलिस-प्रशासन की छापामार कार्रवाई के बाद संझा लोकस्वामी अखबार के फरार मालिक जीतू सोनी पर पुलिस ने 10 हजार रुपए का इनाम घोषित किया है। उसकी तलाश में पुलिस की चार टीमें लगी हैं और गिरफ्तारी वारंट भी जारी करने की तैयारी है। इसी बीच, पुलिस ने एक शिकायत पर जीतू, उसके बेटे अमित और निखिल सोनी पर मारपीट व लूट का केस दर्ज किया है। पुलिस को सोनी के यहां से 20 से ज्यादा कोरे स्टाम्प मिले हैं, जिन पर लोगों के साइन हैं। इतनी ही नोटरियां भी जब्त की गई हैं। इधर, मानव तस्करी केस में गिरफ्तार अमित को पुलिस ने कोर्ट में पेश कर चार दिन की रिमांड पर लिया है। एसएसपी रुचिवर्धन मिश्र के मुताबिक मानव तस्करी के ही मामले में माय होम होटल मैनेजर जे. वरप्रसाद राव को भी गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस जीतू के खिलाफ थानों पर आई शिकायतों की छंटनी भी करवा रही है।  जीतू-अमित और परिवार के अन्य सदस्यों पर कुल 6 केस दर्ज हो चुके हैं। माय होम से पुलिस ने बाहरी प्रदेशों की जिन 67 महिलाओं और युवतियों को रेस्क्यू किया था, यदि वे नाबालिग निकलीं तो पाॅक्सो एक्ट की धाराएं बढ़ाई जाएंगी। अभी ये सभी जीवन ज्योति आश्रम में हैं। उनके साथ 7 बच्चे भी हैं। 

एक और केस; डांस नहीं देखा तो 20 हजार रु. छीन लिए 
सोमवार रात पलासिया थाने में निर्मल अग्रवाल ने शिकायत की कि 29 नवंबर को वह माय होम में खाना खाने गया था। वहां उसे डांस बार में जाने को कहा गया। इनकार किया तो बाउंसरों ने पकड़ लिया। जीतू, अमित, निखिल ने मारपीट कर 20 हजार रु. छीन लिए। पुलिस ने तीनों पर धारा 394 में केस दर्ज किया।

जांच के लिए टीमें बनाई

  • एसएसपी के मुताबिक जीतू के घर से मिले पेन ड्राइव, सीडी, 30 से ज्यादा रजिस्ट्रियों और अन्य दस्तावेजों की जांच के लिए अलग टीम बनाई है।
  • रजिस्ट्रियों में दर्ज नामों के बयान लिए जाएंगे। पुलिस वसूली के लिए धमकाने, अवैध कब्जों को लेकर आई शिकायतों की भी पड़ताल कर रही है।
  • घर-दफ्तर से मिले पांच बोरे दस्तावेज में कई रजिस्ट्रियों के साथ ही 20 से ज्यादा कोरे स्टाम्प मिले हैं, जिस पर साइन थे। इतनी ही नोटरियां भी मिली हैं।
  • सोनी का मकान नजूल की जमीन होने की आशंका है। माय होम, बेस्ट वेस्टर्न से जब्त 5 सैंपल की जांच भी खाद्य विभाग कर रहा है।

हाईकोर्ट का आदेश... जीतू ने जो हार्ड डिस्क कोर्ट को दी, एसआईटी उसकी जांच करे

आरोपी मोनिका का वकील बोला-एसआईटी ने लीक किए वीडियो
हाईकोर्ट की डिवीजन बेंच में सोमवार को हनी ट्रैप मामलों से जुड़ी याचिकाओं पर सुनवाई हुई। शनिवार को जीतू सोनी की ओर से एक हार्ड डिस्क सरेंडर की गई थी, उसे हाई कोर्ट ने जांच के लिए एसआईटी को सौंप दिया है। कोर्ट ने एसआईटी को चार सप्ताह में दूसरी स्टेटस रिपोर्ट पेश करने को कहा है। सोमवार को अब तक की जांच रिपोर्ट की जानकारी कोर्ट में सीलबंद पेश कर दी गई। इंजीनियर हरभजन सिंह की ओर से सीनियर एडवोकेट अविनाश सिरपुरकर ने कहा कि अभी केस में जांच बाकी है। इसके पहले इस तरह से डाटा लीक होगा तो केस प्रभावित होगा। आरोपी मोनिका की ओर से सुदर्शन जोशी ने दलील रखी कि एसआईटी डाटा लीक कर रही है, मीडिया रिपोर्टिंग पर रोक लगना चाहिए। कोर्ट ने एसआईटी को अगली तारीख पर रिपोर्ट पेश करने के लिए कहा है। बाकी मामलों में आदेश सुरक्षित रख लिए हैं।

तिजाेरियां खुलीं; ज्यादातर रजिस्ट्रियां जीतू-अमित के नाम  
अखबार के दफ्तर में पुलिस को 3 तिजोरियां मिलीं। एक तिजोरी में सोने की दो अंगूठी और रजिस्ट्रियां मिलीं। रजिस्ट्रियां प्लॉट, जमीन, फ्लैट की हैं। ज्यादातर बाप-बेटे के नाम पर हैं। बताया जा रहा है कि छापे के दौरान करीब पांच बोरे भरकर दस्तावेज मिले थे, लेकिन सिर्फ संपत्ति से जुड़े कागजात जब्त किए गए। 

युवती : तनख्वाह नहीं मिलती, ग्राहकों की टिप में मिलता हिस्सा
 मैं बंगाल से हूं। पिछले डेढ़ साल से माय होम के कमरा नंबर 204 में रहकर गाने गाती हूं। यहां रहने का कोई किराया नहीं लगता, पर खाना अपने खर्च पर कमरे में बनाते हैं। मुझे और यहां रहने वाले साथियों में से किसी को भी तनख्वाह नहीं मिलती। हमारे गाने से कस्टमर खुश होकर जो टिप देते हैं, उसी में से सबको हिस्सा मिलता है। रोज 500 रुपए तक कमा लेती हूं।  (माय होम से रेस्क्यू की गईं 67 युवतियों में से एक ने जैसा भास्कर को बताया)

अमित ने कहा- खुलासे कर रहे थे इसलिए फंसाया, मैं माय होम में हिस्सेदार नहीं
 मुझे गलत तरीके से फंसाया है। पुलिस कागजों की जांच कर ले, मैं न तो माय होम में हिस्सेदार हूं, न ही लोकस्वामी प्रेस में हिस्सा है। अखबार हनी ट्रैप में खुलासे कर रहा था, इसलिए हम पर कार्रवाई की गई। बिना सर्च वारंट के घर आ गए। जब्त कारतूस पिता की रिवॉल्वर के हैं। वे घर पर नहीं थे, इसलिए लाइसेंस नहीं दिखा सके। मेरे पास भी लाइसेंस है, फिर भी आर्म्स एक्ट का केस लगाया। 
- अमित सोनी, भास्कर से बातचीत में

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- धार्मिक संस्थाओं में सेवा संबंधी कार्यों में आपका महत्वपूर्ण योगदान रहेगा। कहीं से मन मुताबिक पेमेंट आने से राहत महसूस होगी। सामाजिक दायरा बढ़ेगा और कई प्रकार की गतिविधियों में आज व्यस्तता बनी...

और पढ़ें