पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Abdul Aziz Of Burhanpur, Who Was Injured By Falling Cranes During The Haj In 2015, Sent A Check Of 95 Lakh Rupees By The

2015 में हज के दौरान क्रेन गिरने से घायल हुए थे अब्दुल, सऊदी ने भेजा 95 लाख रुपए का चेक

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सऊदी से मिला यूरो डॉलर का चेक देखता अब्दुल अजीज का परिवार - Dainik Bhaskar
सऊदी से मिला यूरो डॉलर का चेक देखता अब्दुल अजीज का परिवार
  • 4 साल बाद सऊदी सरकार से 1 लाख 33 हजार 333 यूरो डॉलर का चेक सहायता के रूप में मिला
  • दो दिन पहले आई डाक में पत्र के साथ था चेक, अजीज बोले- धार्मिक कार्यों पर खर्च करूंगा

बुरहानपुर. हज के दौरान क्रेन गिरने से घायल हुए हरीरपुरा के अब्दुल अजीज को 4 साल बाद सऊदी सरकार से 1 लाख 33 हजार 333 यूरो डॉलर का चेक सहायता के रूप में मिला है। भारतीय मुद्रा के अनुसार,  यह रकम करीब 95 लाख रुपए है। अजीज ने कहा यह सहायता राशि मैं समाज के धार्मिक कार्यों पर खर्च करूंगा। बच्चों का कारोबार बढ़ाने में भी मदद करूंगा।

वर्ष 2015 में अब्दुल अजीज हज के लिए गए थे। सात दिन में आधे से ज्यादा हज पूरा कर लिया था। तवाफ (परिक्रमा) के दौरान आंधी-बारिश चली थी। इस दौरान बिजली गिरने से क्रेन के टुकड़े हो गए थे। लोहे के बड़े-बड़े टुकड़ों से किसी की गर्दन, हाथ, पैर तो किसी का शरीर कट गया। अब्दुल अजीज के बाएं पैर पर लोहे का एंगल गिरा था। इससे उनके पंजे के बीच में से दो हिस्से हो गए थे। अस्पताल में हफ्तेभर इलाज चला। चौथे दिन अजीज को होश आया। यहां एलान किया गया था कि मृतक और घायलों को सहायता राशि दी जाएगी।

अजीज ने बताया हज के बाद मैं घर लौट आया था। कुछ साल सहायता राशि का इंतजार किया। 4 साल बीतने पर इसकी उम्मीद छोड़ चुके थे। दो दिन पहले एक डाक आई। इसमें अंग्रेजी में लिखा एक पत्र और चेक था। समझ नहीं आया तो बेटे-नवासे को दिखाया। वो बैंक ऑफ बड़ौदा शाखा पहुंचे। बैंककर्मियों ने बताया यह सहायता राशि सऊदी सरकार ने भेजी है। चेक को भारतीय मुद्रा में बदलने के लिए मैनेजर ने महाप्रबंधक से बात की। दो दिन में उन्होंने चेक क्लियर करने के लिए बुलाया है। 

चेक बैंक में जमा करेंगे, इसके बाद यह सऊदी से क्लियर होगा और खाते में राशि आएगी। अजीज बोले जब मुझे बेटे ने बताया कि भारत में यह 95 लाख रुपए होते हैं तो मेरी खुशी का ठिकाना नहीं रहा। घर के आठ पावरलूम चलाकर मैंने परिवार को अब तक पाला। सहायता राशि समाज के धार्मिक कार्यों पर खर्च करूंगा। कुछ राशि से बेटों का कारोबार बढ़ाने में मदद करूंगा।

खबरें और भी हैं...