Hindi News »Madhya Pradesh »Indore »News» Abhishek Of Mahakala Just By RO Water : Supreme Court

महाकाल पर आधा लीटर आरओ के पानी से ही होगा अभिषेक, सुप्रीम कोर्ट ने दिए आदेश

इसके अलावा दूध और दूसरी पूजन सामग्री सीमित करने को भी मंजूरी दे दी है।

dainikbhaskar.com | Last Modified - May 02, 2018, 02:19 PM IST

महाकाल पर आधा लीटर आरओ के पानी से ही होगा अभिषेक, सुप्रीम कोर्ट ने दिए आदेश

इंदौर।उज्जैन के महाकाल शिवलिंग पर सिर्फ आधा लीटर आरओ का पानी चढ़ाने के आदेश सुप्रीम कोर्ट ने दिए हैं। कोर्ट ने शिवलिंग का क्षरण रोकने के लिए हुई सुनवाई में यह बात कही है। इसके अलावा दूध और दूसरी पूजन सामग्री सीमित करने को भी मंजूरी दे दी है। कोर्ट ने कहा है कि मंदिर प्रशासन जनवरी तक इस व्यवस्था को लागू कर दे। गौरतलब है कि पिछले माह ही कोर्ट ने कहा था कि महाकाल मंदिर में पूजा-अर्चना कैसे होगी, यह तय करना हमारा काम नहीं है। हम केवल शिवलिंग को सुरक्षित रखने के लिए चिंतित हैं।


सुरक्षित रखा था आदेश
शिवलिंग का क्षरण रोकने की याचिका पर सुनवाई करते हुए गत पांच अप्रैल को अदालत ने कहा था कि मंदिर में भस्मारती कैसे होगी, यह हम तय नहीं करेंगे। पूजा के तरीके में हम बदलाव नहीं कर सकते। उस समय कोर्ट ने अपना आदेश सुरक्षित रखा था।

  • बुधवार को अदालत ने कहा कि महाकाल ज्योतिर्लिंग को क्षरण से बचाना बहुत जरूरी है। इसके लिए महाकाल मंदिर कमेटी के फैसले को माना जाए। कोर्ट ने कहा कि शिवलिंग की सुरक्षा के लिए बनी कमेटी के आधार पर मंदिर प्रबंधन समिति ने ये सुझाव दिए थे। मंदिर कमेटी ने कहा कि अलग-अलग पानी से शिवलिंग का क्षरण हो रहा है।
  • अदालत ने कहा कि यह स्थिति ठीक नहीं कही जा सकती, €क्योंकि मंदिर करोड़ों लोगों की आस्था का केंद्र है। शिवलिंग पर फूल-पत्ती, दूध और अन्य चीजें सीमित मात्रा में चढ़ाने की बात कही है।
  • इससे पहले कोर्ट ने पिछले साल अ€टूबर में आदेश दिया था कि शिवलिंग का अभिषेक आरओ के पानी से ही किया जाना चाहिए। अभिषेक के लिए पंचामृत और आरओ के पानी की कितनी मात्रा हो, यह अदालत ने तय नहीं किया था। बुधवार को फैसले में कहा है कि आधा लीटर आरओ पानी से ही अभिषेक होगा।
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×