Hindi News »Madhya Pradesh »Indore »News» 55 Year Old Woman Became The Saint Indore Mp

दो बेटियों की दीक्षा के सालभर बाद मां भी बनी साध्वी, एक झलक पाने लगी होड़

शुद्धि प्रसन्नाश्रीजी नाम मिला, आचार्य दौलतसागर और अन्य संतों की मौजूदगी में हुआ महोत्सव, सैकड़ों लोग हुए शामिल।

dainikbhaksar.com | Last Modified - Jan 28, 2018, 02:08 PM IST

  • दो बेटियों की दीक्षा के सालभर बाद मां भी बनी साध्वी, एक झलक पाने लगी होड़
    +8और स्लाइड देखें
    55 साल की पुष्पा छजलानी ने दीक्षा लेकर सांसारिक मोह माया को त्याग दिया।

    इंदौर। गुमाश्ता नगर में 55 साल की पुष्पा छजलानी ने दीक्षा लेकर सांसारिक मोह माया को त्याग दिया। रिंगरोड स्थित विरति मंडपम् में जैन आचार्य दौलतसागर सूरीश्वर और अन्य संतों के सान्निध्य में दीक्षा के बाद उन्हें नया नाम शुद्धि प्रसन्नाश्रीजी मिला। सालभर पहले उनकी दो बेटियां भी दीक्षा ले चुकी हैं।

    - गुमाश्ता नगर नाकोड़ा जैन मंदिर ट्रस्ट की मेजबानी में हुए महोत्सव में सुबह 9 बजे दीक्षार्थी अपने घर से वर्षीदान करते हुए निकलीं तो हजारों श्रद्धालुओं ने जयघोष किया। दीक्षार्थी ने संतों को प्रणाम के बाद समवशरण की अंतिम पूजा एवं प्रदक्षिणा की। उन्हें पिच्छी व आसन देकर आचार्यों ने सुरक्षा कवच प्रदान किया। पिच्छी लेकर उन्होंने समवशरण की परिक्रमा नृत्य करते हुए की। चैत्य वंदन, नंदीसूत्र के वाचन एवं श्रीसंघ से अनुमति के बाद उन्होंने साध्वी वेश लिया। उनकी एक झलक पाने के लिए जनसैलाब उमड़ पड़ा।


    - मंच पर पहुंचने के बाद अन्य साध्वी, जिनमें उनके संसारी जीवन की दोनों बेटियां भी शामिल थीं, उन्हें साध्वी शुद्धि प्रसन्नाश्रीजी नाम प्रदान किया। साध्वी परिवेश के बाद उन्होंने नाकोड़ा पार्श्वनाथ मंदिर में सत्तरभेदी पूजा भी की। धर्मसभा को आचार्य दौलतसागर, हर्षसागर, तीर्थरत्न सागर ने भी संबोधित किया। नाकोड़ा जैन मंदिर गुमाश्ता नगर के सुरेंद्र छाजेड़ एवं भूपेंद्र कटारिया ने बताया रविवार सुबह 8 बजे साध्वी आचार्यों के साथ नाकोड़ा मंदिर से छजलानी निवास के लिए पदार्पण करेंगे।


    मेरा स्वप्न साकार हो गया : दीक्षार्थी
    दीक्षार्थी पुष्पा ने कहा मेरा दीक्षा लेने का स्वप्न साकार हो रहा है। संयम का मार्ग त्याग का है और संसार का राग का। जहां त्याग होता है, वहां अभय और जहां राग होता है वहां भय होता है। संयम का मार्ग जीवन के सभी भय हटाकर अभय बनाने वाला है। जिसके पास जीने की दृष्टि नहीं, उसका कोई लक्ष्य सफल नहीं हो सकता। गुरु भगवंतों ने जो दृष्टि उन्हें दी, वह मोक्ष मार्ग के मिशन को सफल बनाने वाली वाली है।



  • दो बेटियों की दीक्षा के सालभर बाद मां भी बनी साध्वी, एक झलक पाने लगी होड़
    +8और स्लाइड देखें
    गुमाश्ता नगर में हुई दीक्षा।
  • दो बेटियों की दीक्षा के सालभर बाद मां भी बनी साध्वी, एक झलक पाने लगी होड़
    +8और स्लाइड देखें
    दीक्षा ग्रहण करने के पहले पुष्पा।
  • दो बेटियों की दीक्षा के सालभर बाद मां भी बनी साध्वी, एक झलक पाने लगी होड़
    +8और स्लाइड देखें
    शुद्धि प्रसन्नाश्रीजी नाम मिला।
  • दो बेटियों की दीक्षा के सालभर बाद मां भी बनी साध्वी, एक झलक पाने लगी होड़
    +8और स्लाइड देखें
    गोद में उठाकर पहुंचे दीक्षा स्थल।
  • दो बेटियों की दीक्षा के सालभर बाद मां भी बनी साध्वी, एक झलक पाने लगी होड़
    +8और स्लाइड देखें
    हजारों लोग दीक्षा में पहुंचे।
  • दो बेटियों की दीक्षा के सालभर बाद मां भी बनी साध्वी, एक झलक पाने लगी होड़
    +8और स्लाइड देखें
  • दो बेटियों की दीक्षा के सालभर बाद मां भी बनी साध्वी, एक झलक पाने लगी होड़
    +8और स्लाइड देखें
  • दो बेटियों की दीक्षा के सालभर बाद मां भी बनी साध्वी, एक झलक पाने लगी होड़
    +8और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Indore News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: 55 Year Old Woman Became The Saint Indore Mp
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×