• Home
  • Mp
  • Indore
  • attackers cut throat of women doctors did 35 stitches and save her life indore mp
--Advertisement--

महिला का गला काट रहे थे युवक, डरी चाची और भाई भीतर दुबके रहे, ऐसा था वो मंजर

महिला का गला काट रहे थे युवक, डरी चाची और भाई भीतर दुबके रहे, ऐसा था वो मंजर

Danik Bhaskar | Jan 15, 2018, 10:42 AM IST
घर में दाखिल होते ही बदमाशों न घर में दाखिल होते ही बदमाशों न

इंदौर। चितावद रोड स्थित मिनेश अस्पताल की तीसरी मंजिल पर रहने वाले डॉक्टर डॉ. रवि वर्मा की 36 वर्षीय भतीजी राजश्री वर्मा पर बदमाशों ने धारदार हथियार से हमला कर उनका गला रेत दिया। जिस वक्त बदमाश हमला कर रहे थे, पास के कमरे में रहने वाले डॉक्टर की पत्नी शीला उर्फ सुशीला वर्मा (चाची) और उनका 21 वर्षीय बेटा आदित्य (चचेरा भाई) डर के कारण बाहर नहीं आए। राजश्री ने अस्पताल में फोन किया तो कर्मचारी आए। दरवाजा तोड़कर नीचे प्राथमिक इलाज कराने के बाद देवगुराड़िया स्थित एनर्जी अस्पताल ले गए। गर्दन पर 35 टांके आए हैं। पुलिस ने अस्पताल के चार सीसीटीवी कैमरों की रिकॉर्डिंग जब्त की है। उसमें कोई संदेही नजर नहीं आ रहा।


रात 11.45 से 12 बजे के बीच पाइप के सहारे चढ़े
- सीएसपी संयोगितागंज एसकेएस तोमर ने बताया कि चार मंजिला भवन के तल व दूसरी मंजिल पर अस्पताल है। तीसरी मंजिल पर डॉक्टर की फैमिली रहती है। पास के एक कमरे में 102 वर्षीय मां पार्वती बाई के साथ उनकी भतीजी राजश्री रहती है। डॉक्टर के मुताबिक, 11.45 से 12 बजे के बीच दो बदमाश गली से पाइप के सहारे तीसरी मंजिल पर पहुंचे और भतीजी के कमरे का दरवाजा खटखटाया। उसके दरवाजा खोलते ही एक नकाबपोश बदमाश ने गले पर धारदार हथियार से तीन-चार वार किए, तुरंत भतीजी ने बदमाश को धक्का देकर दरवाजा लगा लिया। इसके बाद बदमाश तीसरी मंजिल की छत से पाइप के सहारे खिड़की के आर्च पर से कूदकर भाग निकले।

चचेरा भाई बोला- पूर्व कर्मी का आया था फोन
- चचेरे भाई आदित्य ने बताया कि रात में दीदी को अस्पताल से निकाले गए एक पूर्व कर्मी का फोन भी आया था। उन्होंने उससे बात नहीं की थी। रात 11.30 बजे एनर्जी अस्पताल का कर्मी गोलू उर्फ अयूब 85 हजार रुपए देने आया था। राजश्री दोनों अस्पतालों का मैनेजमेंट भी देखती है।

गली में मिले पैरों और हाथ में लगे खून के निशान
- अस्पताल की दूसरी मंजिल पर रहने वाली इंचार्ज सरताज बी ने कहा कि रात में कोई भी ऐसा संदिग्ध नहीं दिखा। जिस रास्ते से राजश्री के कमरे में जाते हैं, वहां का दरवाजा अंदर से बंद था। पुलिस को गली के पास पैरों के और हाथ में लगे खून के निशान भी मिले हैं। अभी राजश्री के बयान नहीं हो पाए हैं।

लूटने नहीं आए थे, परिचित पर शक
- सीएसपी के मुताबिक, जिस ढंग से वारदात हुई है, उससे किसी परिचित पर शक है, क्योंकि बदमाश ने सिर्फ गर्दन पर वार किया। उन्होंने घर के किसी सामान को हाथ भी नहीं लगाया। युवती को एनर्जी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है।