Hindi News »Madhya Pradesh News »Indore News »News» BPS Bus Accident, Cm Arrives Death Of Innocents, Parents Say: Reform This System

माताओं का दर्द, जिनके कलेजे के टुकड़े चले गए, उनका दर्द कौन समझ सकता है

dainikbhaksar.com | Last Modified - Jan 08, 2018, 05:26 PM IST

कृति अग्रवाल की मां बोलीं- देखो मेरी ब्रिलियंट बेटी, स्कूल प्रबंधन की लापरवाही से हमेशा के लिए दूर हो गई।
  • माताओं का दर्द,  जिनके कलेजे के टुकड़े चले गए, उनका दर्द कौन समझ सकता है
    +4और स्लाइड देखें
    मां ने सीएम से कहा श्रुति हमारे खानदान की इकलौती लड़की थी। उसके चले जाने से पूरा घर फिर सूना हो गया है। हम इस दुख से जिंदगी भर उबर नहीं पाएंगे।

    इंदौर। डीपीएस बस हादसे में जान गंवाने वाले चार मासूमों की फैमिली से मिलने रविवार को सीएम शिवराज सिंह चौहान उनके घर पहुंचे। सीएम को देखते ही हरमीत की मां का गुस्सा फूट पड़ा। वहीं बाकि बच्चों के परिवार ने भी सिस्टम पर नाराजगी जताई। सीएम हाथ बांधे बात सुनते रहे। इस बीच 8-9 जनवरी को डीपीएस स्कूल में छुट्‌टी घोषित कर दी गई। देखो... मेरी ब्रिलियंट बेटी ने जीती थीं ये सारी शील्ड...


    किसने क्या कहा...
    - कृति अग्रवाल की मां बोलीं- देखो मेरी ब्रिलियंट बेटी, स्कूल प्रबंधन की लापरवाही से हमेशा के लिए दूर हो गई। शील्ड देख सीएम भावुक हो गए। पति प्रशांत ने कहा कि सर हम तो अपनी बेटी खो चुके हैं। आपसे निवेदन है कि कुछ ऐसा कीजिए, कि एेसा हादसा फिर ना हो। ऐसे नियम बनाइए की कोई गड़बड़ी नहीं कर सके।


    स्कूल में मुंह मांगी फीस दे रहे थे
    - श्रुति लुधियानी के परिजन बोले- हम बस इतना चाहते हैं कि जिम्मेदारों के खिलाफ कठोर कार्रवाई करें। सीएम हाथ जोड़ बोले- ऐसा ही होगा। परिजनों ने कहा कि हम स्कूल में मुंह मांगी फीस दे रहे थे। स्कूलवालों का व्यवहार कैसा था आपने देखा ही। मैनेजमेंट अपनी जिम्मेदारी मानने को तैयार नहीं है। पुलिस ने भी छोटे लोगों पर कार्रवाई कर इतिश्री कर ली। जबकि जिम्मेदारी तो बड़े लोगों की थी।

    जिनके कलेजे के टुकड़े चले गए, उनका दर्द कौन समझ सकता है
    - हरमीत कौर की मां जसप्रीत बोलीं-जानती हूं... 4 दिन का तमाशा है, कुछ नहीं बदलेगा। सीएम ने कहा- सिस्टम सुधारेंगे। जैसे ही सीएम घर पहुंचे हरप्रीत की मां ने बेटी का फोटो उठाकर सीने से लगा लिया। वे बोलीं जिनके कलेजे के टुकड़े चले गए, उनका दर्द कौन समझ सकता है। आपके सारे अधिकारी लापरवाह हैं। महापौर ने कहा पूरा शहर आपके साथ है तो गुस्साई मां बोली मेरी बेटी तो मेरे साथ नहीं है... शहर का क्या करूंगी।

    एक लाख 35 हजार रुपए साल की फीस भरती थी
    - इकलौते बेटे को गंवा चुकी स्वस्तिक की मां मंजुला बोलीं- अब आप एेसा सिस्टम बना दो कि कोई अपना बेटा न गंवाए। सीएम बोले- वाहनों की फिटनेस जांचेंगे। मां ने कहा कि मैं भी टीचर हूं। सब समझती हूं। एक लाख 35 हजार रुपए साल की फीस भरती थी, लेकिन स्कूलवाले हमेशा बेटे की शिकायत ही करते थे। वह शरारती थी, स्कूलवाले कहते थे स्कूल से निकाल देेंगे। एक बार किसी ने उसकी शिकायत की तो मैंने कहा था तीन महीने बाद स्कूल से निकाल लूंगी। मैंने गलती कि उसी दिन स्कूल से निकाल लेती तो आज ये दिन नहीं देखना पड़ता।

  • माताओं का दर्द,  जिनके कलेजे के टुकड़े चले गए, उनका दर्द कौन समझ सकता है
    +4और स्लाइड देखें
    श्रुति लुधियानी के परिजन बोले- हम बस इतना चाहते हैं कि जिम्मेदारों के खिलाफ कठोर कार्रवाई करें।
  • माताओं का दर्द,  जिनके कलेजे के टुकड़े चले गए, उनका दर्द कौन समझ सकता है
    +4और स्लाइड देखें
    इकलौते बेटे को गंवा चुकी मां मंजुला बोलीं- अब आप एेसा सिस्टम बना दो कि कोई अपना बेटा न गंवाए।
  • माताओं का दर्द,  जिनके कलेजे के टुकड़े चले गए, उनका दर्द कौन समझ सकता है
    +4और स्लाइड देखें
    हरमीत की मां बोली, स्कूलवालों का खुद का बच्चा होता तो उन्हें मेरा दर्द समझ आता।
  • माताओं का दर्द,  जिनके कलेजे के टुकड़े चले गए, उनका दर्द कौन समझ सकता है
    +4और स्लाइड देखें
    मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान खातीवाला टैंक स्थित हरमीत के घर पहुंचे तो हरमीत की मां ने उन्हें खूब खरी-खोटी सुनाई।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Indore News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: BPS Bus Accident, Cm Arrives Death Of Innocents, Parents Say: Reform This System
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      रिजल्ट शेयर करें:

      More From News

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×