--Advertisement--

दोस्त ने ४०० फीट खाई में इसलिए बांध कर फेंका था इसे, ऐसी है इसके पीछे की कहानी

दोस्त ने ४०० फीट खाई में इसलिए बांध कर फेंका था इसे, ऐसी है इसके पीछे की कहानी

Dainik Bhaskar

Jan 13, 2018, 12:34 PM IST
परदेशीपुरा से पांच दिन पहले ला परदेशीपुरा से पांच दिन पहले ला

इंदौर। शहर के परदेशीपुरा से पांच दिन पहले लापता BSC में पढ़ रहे 20 साल के स्टूडेंट मृदुल पिता मोहित भल्ला निवासी क्लर्क कॉलोनी मूल निवासी शाहगढ़ बंडा (सागर) का प्रेम प्रसंग के चलते उसी के क्षेत्र के तीन लड़कों ने अपहरण किया। दोस्त को शक था कि जिस लड़की से वह प्यार करता है। मृदुल का भी उससे प्रेम प्रसंग चल रहा है। उसे इंदौर से 31 किमी दूर कंपेल के उदयनगर में मुआरा घाट ले जाकर मारपीट की फिर रस्सी से हाथ बांधकर फेंक दिया। हत्या की नीयत से ऊपर से पत्थर भी फेंके।


खाई से ऐसे निकाला बाहर
- SP अवधेश गोस्वामी और ASP प्रशांत चौबे ने बताया शुक्रवार सुबह 7 बजे ग्रामीणों के साथ पुलिस जवान पहाड़ी रास्ते से 1 किमी दूर नीचे पेड़ की डालियां व टहनियां पकड़कर घटनास्थल पर पहुंचे। कम्पैल चौकी प्रभारी वीरेंद्र सिंह सिकरवार ने बताया घटनास्थल से 400 फीट गहराई में मृदुल के कपड़े नजर आए। 45 मिनट का सफर तय कर खाई में उतरे तो मृदुल पहाड़ियों के बीच से बहने वाले झरने की सूखी नाली में औंधे मुंह पड़ा था। उसे सीधा किया तो उसके मुंह से तेजी से हवा निकली। जिंदा देख मौके पर डॉक्टरों को बुलाया। दोपहर 12 बजे ऊपर लाकर उसे इंडेक्स मेडिकल कॉलेज पहुंचाया। पुलिस ने जब बताया कि 7 जनवरी की दोपहर 2 बजे मृदुल को फेंका था और 12 जनवरी को उसे जीवित निकाला तो डॉक्टर भी हैरत में पड़ गए।


नाश्ता करने के लिए निकला था रूम से
- मुख्य आरोपी आकाश पिता राजू रत्नाकर (24) क्वींस टॉवर नौलखा है। उसे शंका थी कि मृदुल उसकी प्रेमिका से बात करता है। उसने साथी विजय पिता सीताराम परमार (20) निवासी राजदरा कम्पैल रोड और रोहित उर्फ पीयूष पिता सुरेश परेता (23) निवासी कुशवाह नगर बाणगंगा के साथ मिलकर अपने ही भाई की स्विफ्ट कार में अपहरण किया था। मृदुल के रूममेट सौरभ सेन ने बताया वह 7 जनवरी को नाश्ता कर आने का बोलकर निकला था। उसे आकाश ने किसी दूध वाले की गाड़ी रुकवाकर उसके मोबाइल से फोन कर प्रेमिका का चाचा बनकर मिलने बुलाया था। वह जैसे ही बताए स्थान पर पहुंचा उसे अगवा कर लिया। पुलिस ने जांच की तो पलासिया चौराहे के कैमरे में संदिग्ध कार दिख गई।



खाई में फेंकने के पीछे की ये है कहानी...
- पिता के अनुसार आरोपी आकाश साथ पढ़ने वाली एक लड़की से प्यार करता था। जिस लड़की से आकाश प्यार करता है। वह मृदुल की अच्छी दोस्त है, इसलिए अकसर बातचीत होती रहती है। छात्र जोंटी को लगता है कि मृदुल का उस लड़की से प्रेम प्रसंग चल रहा है। इसी बात से नाराज छात्र ने मृदुल का अपने 3 दोस्तों के साथ मिलकर पहले अपहरण किया और फिर उसे खुड़ैल के जंगलों में ले जाकर फेंक दिया। पुलिस ने मुख्य आरोपी जोंटी और अन्य आरोपियों को हिरासत में ले लिया है।



आज तक कोई नहीं लौटा यहां से जिंदा
- डॉक्टरों ने बताया मृदुल के हाथ-पैर ठंड से अकड़ गए थे। उसके फेफड़े, दिल, लिवर में ज्यादा चोट नहीं थी। पत्थर से घाव हुए लेकिन औंधा मुंह नाली में फंसने से ब्लिडिंग रुक गई थी। घावों में इंफेक्शन भी नहीं हुआ था। सांस लेने में भी परेशानी नहीं हुई। यही वजह है कि वह बच गया।ग्रामीण राजेंद्र ठाकुर ने बताया खाई से 3 लोगों के शव निकाल चुका हूं। जहां से मृदुल को फेंका, वहां से किसी का भी जिंदा बचना नामुमकिन है। ये चमत्कार है।


X
परदेशीपुरा से पांच दिन पहले लापरदेशीपुरा से पांच दिन पहले ला
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..