Hindi News »Madhya Pradesh »Indore »News» Dps School Bus Road Accident, Funeral Of 4 Students Indore Mp

माता की चुनरी में दी बेटी को अंतिम विदाई, 20 साल की मन्नतों के बाद हुआ था जन्म

बायपास पर शुक्रवार को हुए बस एक्सीडेंट में मृत चारों बच्चों की अंतिम यात्रा खातीवाला क्षेत्र से निकली।

Rajeev Tiwari | Last Modified - Jan 08, 2018, 09:19 AM IST

    • रीजनल पार्क मुक्तिधाम पर सभी का अंतिम संस्कार किया गया। श्रृति की अंतिम यात्रा कार में निकली। श्रुति के शव पर माता की चुनरी डाल कर अंतिम विदाई दी गई।

      इंदौर.शनिवार का दिन इंदौर के लिए शायद सबसे दुखद रहा। बायपास पर शुक्रवार को हुए बस एक्सीडेंट में मृत चारों बच्चों की अंतिम यात्रा खातीवाला क्षेत्र से निकली। एक के बाद एक चार बच्चों की अंतिम यात्रा निकलते देख हर आंख नम हो गई। हजारों लोग रीजनल पार्क स्थित मुक्तिधाम पर बच्चों को अंतिम विदाई देने पहुंचे। यात्रा में शामिल लोग परिजनों को सांत्वना देते रहे। नम आंखों से लोगों ने मासूमों को विदाई दी।



      20 साल की मन्नतों के बाद हुई थी श्रुति, माता की चुनरी पहनाकर किया विदा
      - हादसे में मृत मासूम श्रुति के चाचा मोहन लुधियानी ने बताया कि वह परिवार में इकलौती बेटी थी। उसका जन्म 20 साल की मन्नतों के बाद हुआ था। रात में पीएम के बाद जब बॉडी आई तो घर में चीख पुकार मच गई। रातभर घर में भजन कीर्तन चलता रहा और मां बेटी के पास बैठ उसे बस निहारती रही। परिजनों ने बताया कि उसे कार में घूमने का बहुत शौक था इसलिए उसकी अंतिम यात्रा कार में निकाली गई। कार को फूलों से सजाया गया और मासूम को मां की चुनरी ओढ़ाकर उसे विदा किया।

      19 दिन पहले ही मनाया था जन्मदिन
      हादसे में मृत स्वस्तिक का 17 दिसंबर को जन्मदिन था। मां ने फेसबुक पर उसके साथ का फोटो भी पोस्ट किया था। गॉड ब्लेस यू बेटा...अच्छे इंसान बनना भी लिखा था। शनिवार को जब स्वस्तिक की अंतिम यात्रा निकली तो पूरे मोहल्ले में मातम छा गया।


      पिता बोले- आंखें दान कर दो, ताकि कृति देखती रहे
      बेटी कृति को खो चुके पिता प्रशांत अग्रवाल ने मौत के बाद उसकी आंखें और त्वचा दान करने का निर्णय किया। पोस्टमार्टम से पहले उन्होंने डाॅक्टरों से कहा कि बेटी की आंखें किसी को दान कर दो ताकि उसकी आंखें किसी और को रोशनी दे सके। वाट्सएप पर उन्होंने लिखा कि यातायात कर्मियों और आरटीओ को हेलमेट और नो पार्किंग से पैसा कमाने से फुरसत मिल जाए और आज हुए एक्सीडेंट से थोड़ी शर्म आए तो कल से सारी स्कूल बसों में स्पीड गर्वनर और सुरक्षा उपकरणों की जांच कर लेना।

      मां बोली- मत करो मेरी लाड़ली का पीएम
      - मासूम हरमीत उर्फ खुशी की मौत ने मां पिता सहित पूरे परिवार को झकझोर दिया। मां बेटी से मिलने के लिए बेचैन है बोली- मत करो मेरी लाड़ली का पीएम। तबीयत खराब होने के कारण पिता चल नहीं पाते हैं। बेटी का शव घर पहुंचा तो वे बदहवास हो गए। सुबह बड़ी संख्या में लोग बेटी को विदा करने पहुंचे।

      ऐसे हुआ हादसा
      - शुक्रवार को डीपीएस (दिल्ली पब्लिक स्कूल) में छुट्‌टी के बाद बस 12 बच्चों को घर छोड़ने जा रही थी। बायपास पर बस का स्टयरिंग फेल होने से चालक का संतुलन बस पर से हट गया। बस डिवायडर फादते हुए गलत दिशा में घुस गई और सामने से आ रहे ट्रक से टकरा गई। हादसे में बस चालक स्टेयरिंग पर फंस गया जससे उसने वहीं पर दम तोड़ दिया। हादसे के बाद आसपास गुजर रहे लोगों ने पुलिस और एम्बुलेंस को सूचना दी। बच्चों की फैमिली को जैसे ही इस हादसे की जानकारी मिली जो जिस हाल में था वैसे ही घटनास्थल की ओर दौड़ पड़ा।

    • माता की चुनरी में दी बेटी को अंतिम विदाई, 20 साल की मन्नतों के बाद हुआ था जन्म
      +12और स्लाइड देखें
      मुक्तिधाम में जैसे ही श्रुति की चिता को अग्नि दी गई कई लोग जोर-जोर से रोने लगे।
    • माता की चुनरी में दी बेटी को अंतिम विदाई, 20 साल की मन्नतों के बाद हुआ था जन्म
      +12और स्लाइड देखें
      जैसे ही श्रुति के शव पर माता की चुनरी डाली गई वहां खड़े लोग आंसू नहीं रोक पाए।
    • माता की चुनरी में दी बेटी को अंतिम विदाई, 20 साल की मन्नतों के बाद हुआ था जन्म
      +12और स्लाइड देखें
      बेटी के शव को गोद में लेकर रोते रहे पिता।
    • माता की चुनरी में दी बेटी को अंतिम विदाई, 20 साल की मन्नतों के बाद हुआ था जन्म
      +12और स्लाइड देखें
      अंतिम विदाई देने बड़ी संख्या में पहुंचे लोग।
    • माता की चुनरी में दी बेटी को अंतिम विदाई, 20 साल की मन्नतों के बाद हुआ था जन्म
      +12और स्लाइड देखें
      कार से निकली अंतिम यात्रा।
    • माता की चुनरी में दी बेटी को अंतिम विदाई, 20 साल की मन्नतों के बाद हुआ था जन्म
      +12और स्लाइड देखें
      श्रुति को अंतिम विदाई देने के लिए सड़क के दोनों और हजारों लोग हाथ जोड़े खड़े थे।
    • माता की चुनरी में दी बेटी को अंतिम विदाई, 20 साल की मन्नतों के बाद हुआ था जन्म
      +12और स्लाइड देखें
      घर के बाहर उमड़ा जन सैलाब।
    • माता की चुनरी में दी बेटी को अंतिम विदाई, 20 साल की मन्नतों के बाद हुआ था जन्म
      +12और स्लाइड देखें
      श्रुति की अंतिम यात्रा में शामिल लोग।
    • माता की चुनरी में दी बेटी को अंतिम विदाई, 20 साल की मन्नतों के बाद हुआ था जन्म
      +12और स्लाइड देखें
      श्रुति के घर के बाहर खड़ी महिलाएं।
    • माता की चुनरी में दी बेटी को अंतिम विदाई, 20 साल की मन्नतों के बाद हुआ था जन्म
      +12और स्लाइड देखें
      श्रुति के घर के बाहर जमा हुए लोग।
    • माता की चुनरी में दी बेटी को अंतिम विदाई, 20 साल की मन्नतों के बाद हुआ था जन्म
      +12और स्लाइड देखें
      अंतिम संस्कार के समय मुक्तिधाम में बैठे लोग।
    • माता की चुनरी में दी बेटी को अंतिम विदाई, 20 साल की मन्नतों के बाद हुआ था जन्म
      +12और स्लाइड देखें
      मुक्तिधाम में शोकसभा आयोजित की गई।
    आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
    दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Indore News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
    Web Title: Dps School Bus Road Accident, Funeral Of 4 Students Indore Mp
    (News in Hindi from Dainik Bhaskar)

    More From News

      Trending

      Live Hindi News

      0

      कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
      Allow पर क्लिक करें।

      ×