--Advertisement--

गुलफ्शां मर्डर केस...

गुलफ्शां मर्डर केस...

Danik Bhaskar | Dec 28, 2017, 06:31 PM IST

इंदौर। अमिताभ बच्चन का ये डॉयलाग तो अाने सुना ही होगा... डॉन को पकड़ना मुश्किल ही नहीं नमुमकिन है... शनिवार को बुरहानपुर में भी एक ऐसा ही डॉन ट्रेन में सवार लड़कियों को छेड़ रहा था। वह बार बार खुद को डॉन बता रहा था। घटना दिल्ली से बैंग्लुरु जा रही कर्नाटक एक्सप्रेस की है। रेलवे स्टेशन पर उतरते ही लड़कियों ने डॉन की जमकर धुनाई कर दी। पिटाई के बाद उससे पूछा कि अब बता तू कौन सा और कहां का डॉन है। ट्रेन में तो बहुत भाई गिरी बता रहा था। डॉन के हाथ में सेना के जवानों का बेल्ट देखकर पुलिस जवान उससे डर गए, लेकिन युवतियों ने उसे बदतमीजी का मजा चखाया। पिटाई के बाद डॉन गाल मसलते हुए वापस ट्रेन में बैठ गया।

मिली जानकारी अनुसार दोपहर 12.55 बजे कर्नाटक एक्सप्रेस प्लेटफार्म नंबर एक पर रुकी। यहां आरपीएफ चौकी के सामने एसी कोच से लगे डिब्बे से एक युवक उतरा। उसकी हेयर स्टाइल जवानों जैसी थी और उसके हाथ में हरे रंग का बेल्ट था। उसने बोगी से उतरते ही बेल्ट को फिल्मी स्टाइल में लहराया, जिससे प्लेटफार्म पर खड़े लोग घबरा गए। उन्हें लगा कि कहीं वह किसी की बेल्ट से पिटाई न कर दे। युवक के पीछे ही दो युवतियां चिल्लाते हुए बाहर निकलीं और लोगों से कहा इसने (डॉन) खंडवा से बुरहानपुर के बीच एक घंटे के सफर में परेशान कर दिया। इसके बाद उन्होंने डॉन को पीटना शुरू कर दिया। पीटने के बाद उससे पूछा कि अब बता तू कौन सा और कहां का डॉन है।

नहीं मिली तो बैठ गए थे दरवाजे के पास

- युवतियों ने कहा खंडवा जंक्शन पर शनिवार सुबह पहली गाड़ी कर्नाटक दोपहर 12 बजे आई। ट्रेन के किसी भी डिब्बे में खड़े होने तक की जगह नहीं थी। बमुश्किल एस-13 में गेट के पास खड़े रहने की जगह मिलने के बाद कुछ देर बाद हम बैठ गए। हमारे पास ही यह युवक खड़ा हुआ था। उसने बोतल से शराब निकाली और पिया, लेकिन हमने कुछ नहीं कहा फिर वह सिगरेट पीकर धुआं छोड़ने लगा और खुद को डॉन कहकर हमें डॉन के नाम से डराने लगा। हमने विरोध किए तो कहने लगा डॉन का नाम मत लो मैं तुम्हें चलती ट्रेन से फेंक दूंगा और दरवाजा लगा दूंगा। युवक ने कहा बुरहानपुर स्टेशन पर मेरा भाई गब्बर आएगा उसे बुलाया हूं। हम भी देखना चाहते थे कि कौन गब्बर आता है। युवक ने हमारे साथ बहुत ज्यादा बदतमीजी की इसलिए उस पर हाथ उठाना पड़ा।

... और पिटना हो तो स्टेशन पर रुको वर्ना ट्रेन में चढ़ो

- युवतियों के हाथ के चांटें खाने के बाद युवक की खुमारी उतर गई उसे समझ आ गया कि डॉन बनना इतना आसान नहीं है। युवक के हाथ से बेल्ट को सिटी पुलिस के जवानों ने छीन लिया। दो मिनट ट्रेन रुकने के बाद लोगों ने उसे कहा डॉन और पिटना हो तो यहां रुको नहीं तो गाड़ी में बैठ जाओ गाड़ी जैसे ही चली डॉन दौड़ते हुए ट्रेन चढ़ गया।