--Advertisement--

क्राइम

क्राइम

Dainik Bhaskar

Jan 08, 2018, 04:10 PM IST
अधीक्षक रामलाल की शर्ट की जेब अधीक्षक रामलाल की शर्ट की जेब

इंदौर। मल्हारगढ़ बालक छात्रावास मेलखेड़ा के अधीक्षक ने अपने पैतृक गांव चंगेरी में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। टीआई बी.एल. सोलंकी ने बताया चंगेरी के रामलाल पिता रामस्वरूप (56) ने पैतृक घर में फांसी लगा ली। उसके परिजन नारायणगढ़ में थे। टीआई के अनुसार रामलाल की शर्ट की जेब से एक तीन पेज का सुसाइड नोट मिला है। आदिम जाति कल्याण विभाग से मिली जानकारी के अनुसार रामलाल पुराने कर्मचारी थे। पिछले दो माह से उन्हें वेतन नहीं मिला था। इसका कारण उपस्थिति नहीं होना था।



यह लिखा है सुसाइड नोट में
प्रिय पुत्र राहुल-राजेश, बड़े दु:ख के साथ लिख रहा हूं। मैं बहुत परेशान था कई लोगों के ताने सुनकर। किसी से लड़ाई मत करना, किसी का विश्वास मत करना। मां को दुख मत देना। बहनों की अच्छी तरह से देखभाल करना। लेन-देन वालों से समझौता कर लेना। बुआ को भूलना नहीं। उनके लड़कों काे भी साथ रखना। मेरे इतने ही दिन तेरे साथ थे। धीरे-धीरे तेरे सभी काम ठीक हो जाएंगे। हर तीज-त्योहार पर पिताजी को जरूर याद करना। मैं तुझे कुछ भी देकर नहीं जा रहा हूं परंतु शासन जरूर देगी। जल्दबाजी मत करना, अपना काम ईमानदारी से करना। पत्र को फाड़ना मत, इसे जीवनभर संभालकर रखना। जहां तक हो सके मेरा अंतिम संस्कार मेरे पैतृक गांव में करना। विभाग के अन्य कर्मचारियों से मिलकर काम करना। बहनों का साथ मत छोड़ना अधिकारी से लड़ाई नहीं नम्रता का व्यवहार करना। पुलिस प्रशासन कई प्रकार के सवाल-जवाब करेंगे। उनका जवाब देना मेरे पिता की किसी से कोई दुश्मनी नहीं थी। मेरे पिता एक सरल व ईमानदार व्यक्ति थे। सामाजिक जीवन उनका सरल व सहज था

X
अधीक्षक रामलाल की शर्ट की जेब अधीक्षक रामलाल की शर्ट की जेब
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..