• Home
  • Mp
  • Indore
  • Kalu Baba Fair, the price of rajkumar bulls 7 lakhs khandwa mp
--Advertisement--

हैरत में डाल देगी इन बैलों की कीमत, काजू-बादाम, अंडा और पीते हैं दूध-घी

हैरत में डाल देगी इन बैलों की कीमत, काजू-बादाम, अंडा और पीते हैं दूध-घी

Danik Bhaskar | Jan 16, 2018, 03:00 PM IST
खंडवा के कालू बाबा मेले में आए खंडवा के कालू बाबा मेले में आए

इंदौर/खंडवा। खंडवा से करीब 42 किमी दूर राजोरा में लगने वाले कालू बाबा मेले में 70 साल से हो रही छकड़ा रेस में दौड़ने वाले बैल सामान्य नहीं होते। रेस में 2.20 लाख रुपए कीमत की शंभू और बादल की जोड़ी भी दौड़ी। अपने मालिक रामलाल के साथ सिंगोट से आई यह बैल जोड़ी सभी के आकर्षण का केंद्र रही। इनके सहित रेस में दौड़ने वाले अन्य बैलों की खुराक भी हैरत में डालती है। ये बैल चारा और भूसा नहीं, बल्कि देशी घी, दूध, काजू-बादाम, दाल-बाटी और अंडा सहित अन्य पोषण आहार खाते हैं। यही नहीं इन बैलों से रेस के अलावा अन्य कोई काम नहीं लिया जाता।

- रामलाल ने बताया शंभू की कीमत 1.5 लाख और बादल की कीमत 70 हजार है। ये जब रेस में सरपट दौड़ते हैं तो मानो हवा से बातें करते हैं। बैलों की अजब कीमत यही नहीं थमती। होशंगाबाद के राजकुमार पटेल (टाकलखेड़ा) के बैल की कीमत जीतने के बाद करीब 7 लाख रुपए आंकी गई।
- रेस के जानकारों ने बताया इसमें प्रथम पुरस्कार भले ही 11 हजार रुपए का हो, लेकिन रेस के बैलों पर सालभर में लाखों रुपए खर्च किए जाते हैं। यही नहीं जीतने वाले बैल की बोली ही तीन लाख रुपए ज्यादा से शुरू होती है।


इस्लामपुर की जोड़ी दूसरे व भीलखेड़ी गांव की तीसरे स्थान पर रही
- छकड़ा रेस जीतकर राजौरा के मालसिंग की बैल जोड़ी ने 11 हजार रुपए का प्रथम पुरस्कार पाया। मालसिंग को पंधाना विधायक योगिता बोरकर ने पुरस्कृत किया। 5 हजार रु. का दूसरा इस्लामपुर के हफीज बाबा की बैल जोड़ी अाैर तीन हजार रुपए का तीसरा पुरस्कार भीलखेड़ी के भायला बारेला की बैल जोड़ी ने जीता। दो हजार का चौथा पुरस्कार राजौरा के सुखलाल बारिया की बैल जोड़ी ने जीता। इस दौरान सरपंच शिवराम कोचल आदि मौजूद थे।