--Advertisement--

पद्मावत का विरोध कर रहे लोगों ने पुलिस पर बरसाए पत्थर, सख्ती के बाद हाईवे से हटे

पद्मावत का विरोध कर रहे लोगों ने पुलिस पर बरसाए पत्थर, सख्ती के बाद हाईवे से हटे

Danik Bhaskar | Jan 24, 2018, 01:54 PM IST
फिल्म के विरोध में करणी सेना स फिल्म के विरोध में करणी सेना स

इंदौर। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद भी फिल्म पद्मावत का विरोध कम होने का नाम नहीं ले रहा है। विरोधस्वरूप बुधवार को महू में राजपूत समाज सड़क पर उतर आए और जमकर नारेबाजी कर फिल्म को रिलीज़ नहीं होने देने की धमकी दी। हाईवे जाम के दौरान पुलिस जब उन्हें हटाने पहुंची तो उन्होंने पथराव कर दिया और गाड़ियों पर भी पत्थर फेंके। पुलिस ने सख्ती दिखाते हुए उन्हें हाईवे से हटाया।

- मिली जानकारी अनुसार राऊ-खलघाट फोरलेन स्थित पिगडंबर चौराहे पर सुबह करीब साढ़े 11 बजे सैकड़ों की संख्या में राजपूत समाज के लोग जमा हो गए। फिल्म पद्मावत को रिलीज नहीं होने देने की धमकी देते हुए उन्होंने जमकर नारेबाजी की और लोगों को चेताया कि टॉकीज मालिक फिल्म रिलीज नहीं करें और लोग देखने भी ना जाएं।


- हाईवे जाम की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने उन्हें हटने के लिए कहा तो वे उग्र हो गए। इस पर पुलिस जवानों ने युवाओं को सड़क से हटाने की कोशिश की तो अन्य लोगों ने पथराव कर दिया। गुस्साए लोगों ने हाईवे से गुजर रही गाड़ियों पर भी पथराव किया।


- प्रदर्शनकारियों ने इस दौरान संजय लीला भंसाली का पुतला भी दहन किया। इसके अलावा कुछ लोगों ने यशवंत सागर डेम पर टायर जलाकर चक्काजाम किया है। पथराव होता देख पुलिस ने सख्ती बरती तो सभी वहां से भाग निकले। करीब आधे घंटे तक ट्रैफिक जाम रहा।


फिल्म को लेकर विवाद क्या है?
- राजस्थान में करणी सेना, बीजेपी लीडर्स और हिंदूवादी संगठनों ने इतिहास से छेड़छाड़ का आरोप लगाया है। राजपूत करणी सेना का मानना है कि ​इस फिल्म में पद्मिनी और खिलजी के बीच सीन फिल्माए जाने से उनकी भावनाओं को ठेस पहुंची।


- फिल्म में रानी पद्मावती को भी घूमर डांस करते दिखाया गया है। जबकि राजपूत राजघरानों में रानियां घूमर नहीं करती थीं। हालांकि, भंसाली साफ कर चुके हैं कि ये ड्रीम सीक्वेंस फिल्म में है ही नहीं।