Hindi News »Madhya Pradesh »Indore »News» Mahashivratri Special, Interesting Story Of Omkareshwar

यहां हर रात चौसर खेलते है शिव और पार्वती, साल में एक बार बदलती है बिसात

ममलेश्वर नाम से प्रसिद्ध चौथे नंबर के इस ज्योर्तिलिंग के दर्शन के बिना चारों धाम की यात्रा अधूरी मानी जाती है।

dainikbhaksar.com | Last Modified - Feb 13, 2018, 12:16 PM IST

  • यहां हर रात चौसर खेलते है शिव और पार्वती, साल में एक बार बदलती है बिसात
    +6और स्लाइड देखें
    ओंकारेश्वर मंदिर में मान्यता है कि यहां भगवान शिव और पार्वती रोज रात में यहां आकर चौसर-पांसे खेलते हैं।

    इंदौर/ओंकारेश्वर। वैसे तो दुनियाभर में भगवान शिव के कई प्राचीन और प्रसिद्ध मंदिर हैं, लेकिन इस मंदिर की बात कुछ अलग ही है। मान्यता के अनुसार इस मंदिर में रोज को भगवान शिव और पार्वती यहां आकर चौसर-पांसे खेलते हैं। यह सिलसिला सदियों से चला आ रहा हैं। पुजारी रात में बिछाते हैं चौसर-पांसे की बिसात, सुबह उल्टे मिलते है पांसे ...


    नर्मदा किनारे ऊंकार पर्वत पर बना ओंकारेश्वर मंदिर बारह ज्योर्तिलिंगों में से एक है। ममलेश्वर नाम से प्रसिद्ध चौथे नंबर के इस ज्योर्तिलिंग के दर्शन के बिना चारों धाम की यात्रा अधूरी मानी जाती है। मंदिर के मुख्य पुजारी डंकेश्वर दीक्षित के अनुसार मान्यता है कि भगवान शिव और पार्वती रोज रात में यहां आते हैं और चौसर-पांसे खेलते हैं। शयन आरती के बाद ज्योतिर्लिंग के सामने रोज चौसर-पांसे की बिसात सजाई जाती है। ये परंपरा सदियों से चली आ रही है। वे बताते हैं कि रात में गर्भगृह में परिंदा भी पर नहीं मार सकता, लेकिन कई बार वहां पांसे उल्टे मिलते हैं।

    होती है गुप्त आरती ...

    ओंकारेश्वर ज्योर्तिलिंग शिव भगवान का अकेला ऐसा मंदिर है जहां रोज गुप्त आरती होती है।इस दौरान पुजारियों के अलावा कोई भी गर्भगृह में नहीं जा सकता। पंडित डंकेश्वर दीक्षित के अनुसार इसकी शुरुआत रात 08:30 बजे रुद्राभिषेक से होती है। अभिषेक के बाद पुजारी पट बंद कर शयन आरती करते हैं फिर पट खोले जाते हैं और चौसर-पांसे सजाकर फिर से पट बंद कर देते हैं। हर साल शिवरात्रि को भगवान के लिए नए चौसर-पांसे लाए जाते हैं।

    सोलह सोमवार की कथा में भी है चौसर-पांसे का उल्लेख...
    शिवजी को प्रसन्न करने के लिए आदिकाल से सोलह सोमवार की परंपरा चली आ रही है। सोलह सोमवार की व्रत कथा में भी शिव और पार्वती के चौसर खेलने का उल्लेख मिलता है।


  • यहां हर रात चौसर खेलते है शिव और पार्वती, साल में एक बार बदलती है बिसात
    +6और स्लाइड देखें
    रात में शयन आरती के बाद पुजारी बिसात सजाते हैं।
  • यहां हर रात चौसर खेलते है शिव और पार्वती, साल में एक बार बदलती है बिसात
    +6और स्लाइड देखें
    भोलेनाथ को लगाया जाता है भोग।
  • यहां हर रात चौसर खेलते है शिव और पार्वती, साल में एक बार बदलती है बिसात
    +6और स्लाइड देखें
    ओंकारेश्वर ज्योर्तिलिंग।
  • यहां हर रात चौसर खेलते है शिव और पार्वती, साल में एक बार बदलती है बिसात
    +6और स्लाइड देखें
  • यहां हर रात चौसर खेलते है शिव और पार्वती, साल में एक बार बदलती है बिसात
    +6और स्लाइड देखें
  • यहां हर रात चौसर खेलते है शिव और पार्वती, साल में एक बार बदलती है बिसात
    +6और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Indore News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Mahashivratri Special, Interesting Story Of Omkareshwar
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×