Hindi News »Madhya Pradesh »Indore »News» Namrata Damor Case, Closure Report On The Mysterious Death Of The CBI Presented In Court

रेलवे ट्रैक पर मिली थी मेडिकल स्टूडेंट की लाश, अब सीबीआई ने बताई ये कहानी

30 दिसंबर 2017 को सीबीआई ने इंदौर में सीबीआई की स्पेशल कोर्ट में क्लोजर रिपोर्ट प्रस्तुत कर दी।

dainikbhaksar.com | Last Modified - Jan 09, 2018, 12:04 PM IST

  • रेलवे ट्रैक पर मिली थी मेडिकल स्टूडेंट की लाश, अब सीबीआई ने बताई ये कहानी
    +6और स्लाइड देखें
    मेघनगर की रहने वाले एमजीएम मेडिकल कॉलेज की छात्रा नम्रता डामोर की 2012 में रेलवे ट्रैक पर लाश मिली थी।

    झाबुआ (इंदौर).मेघनगर की रहने वाली एमजीएम मेडिकल कॉलेज की छात्रा नम्रता डामोर की रहस्यमयी मौत के मामले में ढाई साल की जांच के बाद सीबीआई ने स्पेशल कोर्ट में क्लोजर रिपोर्ट प्रस्तुत कर दी है। रिपोर्ट को लेकर नम्रता के पिता मेहताबासिंह बिलकुल संतुष्ट नहीं हैं। वे 18 जनवरी को सीबीआई कोर्ट में अपना पक्ष रखेंगे। व्यापमं से जुड़ी मौतों में सबसे रहस्यमय मौत नम्रता की ही थी। इसमें पहले पुलिस ने और बाद में सीबीआई ने हत्या का मामला दर्ज किया था।


    - सीबीआई की स्पेशल कोर्ट में उन्होंने फॉरेंसिक रिपोर्ट और मेडिको लीगल एक्सपर्ट की रिपोर्ट के हवाले से यह बताया है कि नम्रता की हत्या के सबूत नहीं मिले हैं। जब इसकी जानकारी नम्रता के पिता मेहताबसिंह को लगी तो वे हतप्रभ रह गए। चूंकि उन्हें विशेष न्यायिक मजिस्ट्रेट सीबीआई एवं आर्थिक अपराध इंदौर द्वारा 18 जनवरी को पेश होने के लिए समन जारी किया है लिहाजा अब वे वहां अपनी बात रखेंगे।

    मैं अब बुरी तरह थक गया हूं
    - नम्रता डामोर के पिता मेहताबसिंह ने बताया सीबीआई की क्लोजर रिपोर्ट से मैं बिलकुल भी सहमत नहीं हूं। मेरी बेटी की हत्या हुई थी। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट और फॉरेंसिक रिपोर्ट में यह बात सामने आई थी। पांच नामजद मुजरिमों के नाम भी बताए थे, लेकिन ना तो पुलिस ने और ना ही सीबीआई ने उनसे ठीक से पूछताछ की। मैं अब बुरी तरह थक चुका हूं। ना पुलिस ने बात सुनी और ना सीबीआई ने। सीबीआई तो मप्र में हुई सारी हत्याओं को हत्या न मानते हुए क्लोजर रिपोर्ट लगा दी। एक भी केस में कुछ सामने नहीं आया। यह समझ से परे हैं। इस बारे में सीबीआई डायरेक्टर को भी पत्र लिखूंगा। 18 जनवरी को सीबीआई कोर्ट में पहले जो बात कही वही कहूंगा। मेरी बेटी की हत्या हुई है।

    ये है पूरा मामला...
    - महात्मा गांधी मेडिकल कॉलेज की एमबीबीएस द्वितीय वर्ष की छात्रा नम्रता की लाश 7 जनवरी 2012 को उज्जैन जिले के कायथा के समीप शिवपुरा-भेरुपुर रेलवे ट्रैक पर मिली थी। वह इंदौर-बिलासपुर ट्रेन से जबलपुर जा रही थी। 22 दिन बाद उसके भाई दीपेंद्र ने उसकी शिनाख्त की थी। नम्रता की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में चिकित्सकों ने मुंह दबाकर हत्या होने की बात लिखी थी। पुलिस ने इस मामले में पहले हत्या का प्रकरण दर्ज किया आैर बाद में इसे दुर्घटना बताकर केस खत्म कर दिया था।

    पुलिस इन्वेस्टिगेशन: जांच से खात्मे तक की कहानी

    - नम्रता 7 जनवरी 2012 को इंदौर-बिलासपुर ट्रेन से जबलपुर जा रही थी, जबकि पुलिस का कहना है कि जबलपुर में उसका कोई परिचित या रिश्तेदार नहीं था।
    - नम्रता इंदौर के महात्मा गांधी मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस द्वितीय वर्ष की छात्रा थी।
    - 7 जनवरी 2012 को ही नम्रता का शव कायथा के समीप शिवपुरा-भेरुपुर रेलवे ट्रैक पर मिला था।
    - पोस्टमार्टम रिपोर्ट में डॉ. बी.बी. पुरोहित ने नम्रता की मौत का कारण मुंह दबाकर हत्या करना बताया था।
    - 7 जनवरी 2012 को नम्रता ने मोबाइल पर शाम 7.45 बजे तक दोस्तों से बातचीत की थी। उज्जैन पहुंचने के बाद ट्रेन से वह लापता हो गई। उसका मोबाइल भी ट्रेन में उसके सामने बैठी श्रद्धा केसवानी नामक महिला के पास मिला। श्रद्धा के भी पुलिस ने बयान लिए थे।
    - 29 जनवरी 2012 को नम्रता के भाई दीपेंद्र ने उज्जैन पहुंच कर उसकी शिनाख्त की थी। पीएम रिपोरट के आधार पर पुलिस ने मामले में अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ हत्या का प्रकरण दर्ज किया था।
    - कायथा थाने के तत्कालीन एसआई व जांच अधिकारी माधव शर्मा ने नम्रता के परिजन, इंदौर में उसके होस्टल के वार्डन व 3 सहेलियों के बयान लिए थे। इसके अलावा ट्रेन में सवार केरल फुटबॉल टीम के सदस्य, टीसी आदि के भी बयान हुए थे।
    - नम्रता के परिजन ने उसके दोस्तों पर हत्या का शक जताया था, जिस पर पुलिस ने उसके दोस्त डॉ. विशाल वर्मा (राजपुरा-बड़वानी) यश दिसावल (होशंगाबाद) देव सिसौदिया (झाबुआ) और आलेख दवे (रतलाम) के भी बयान लिए थे लेकिन घटना के समय किसी की भी उज्जैन के आसपास की लोकेशन नहीं मिली।
    - पुलिस ने इसके बाद मेडिको लीगल इंस्टीट्यूट से जांच करवाई, जिसमें दुर्घटना में चोट लगना पाया गया।
    - जांच के बाद पुलिस ने दिसंबर 2012 में केस का खात्मा कर दिया गया।
    - सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद सीबीआई ने 15 जुलाई 2015 को व्यापमं मामले की जांच करते हुए नम्रता की मौत के मामले में हत्या की एफआईआर दर्ज की थी।
    - 30 दिसंबर 2017 को सीबीआई ने इंदौर में सीबीआई की स्पेशल कोर्ट में क्लोजर रिपोर्ट प्रस्तुत कर दी। कहा नहीं मिले हत्या के कोई सबूत।

  • रेलवे ट्रैक पर मिली थी मेडिकल स्टूडेंट की लाश, अब सीबीआई ने बताई ये कहानी
    +6और स्लाइड देखें
    22 दिन बाद भाई ने लाश की पहचान की थी।
  • रेलवे ट्रैक पर मिली थी मेडिकल स्टूडेंट की लाश, अब सीबीआई ने बताई ये कहानी
    +6और स्लाइड देखें
    क्लोजर रिपोर्ट को लेकर नम्रता के पिता ने जताई असहमति।
  • रेलवे ट्रैक पर मिली थी मेडिकल स्टूडेंट की लाश, अब सीबीआई ने बताई ये कहानी
    +6और स्लाइड देखें
    व्यापमं घोटाले से जुड़ा था नम्रता का नाम।
  • रेलवे ट्रैक पर मिली थी मेडिकल स्टूडेंट की लाश, अब सीबीआई ने बताई ये कहानी
    +6और स्लाइड देखें
    इंदौर में रहकर मेडिकल की पढ़ाई कर रही थी।
  • रेलवे ट्रैक पर मिली थी मेडिकल स्टूडेंट की लाश, अब सीबीआई ने बताई ये कहानी
    +6और स्लाइड देखें
    अब तक रहस्य बनी है मौत।
  • रेलवे ट्रैक पर मिली थी मेडिकल स्टूडेंट की लाश, अब सीबीआई ने बताई ये कहानी
    +6और स्लाइड देखें
    नम्रता
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Indore News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Namrata Damor Case, Closure Report On The Mysterious Death Of The CBI Presented In Court
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×