Hindi News »Madhya Pradesh News »Indore News» Police Arrested Five Accused In Murder Case Indore Mp

गैराज मालिक की पत्नी पर रखने लगा बुरी नजर, पति ने सबक सिखाने उठाया ये कदम

गैराज मालिक की पत्नी पर रखने लगा बुरी नजर, पति ने सबक सिखाने उठाया ये कदम

Rajeev Tiwari | Last Modified - Feb 07, 2018, 06:58 PM IST

इंदौर।तेजाजी नगर में 2016 में हुए एक ट्रक ड्राइवर के अंधे कत्ल का खुलासा क्राइम ब्रांच ने बुधवार को किया। टीम ने हत्या करवाने वाले गैराज संचालक सहित पांच बदमाशों को गिरफ्तार किया है। पकड़ाए बदमाशों में दो के पुराने आपराधिक रिकार्ड भी हैं। गैराज संचालक ने ड्राइवर के पत्नी के साथ अवैध संबंध की शंका के बाद सुपारी देकर करवाई थी।



- डीआईजी हरिनारायणाचारी मिश्र ने बताया दिसंबर 2016 में तेजाजी नगर में बायपास पर एक ट्रक में पंजाब के रहने वाले दर्शन पिता प्रीतम सिंह की लाश मिली थी। दर्शन बीते चार सालों से इंदौर में ही रह रहा था। घटना को लेकर पहले देवास के कंजर गिरोह के बदमाशों पर शक गया था कि लूट के लिए उन्होंने इसे यहां लाकर मारा होगा, लेकिन ऐसे कोई सुराग नहीं मिले। बाद में मुखबीर से सूचना मिली की हत्याकांड को गब्बर उर्फ अमरजीत ने मारा है। इस पर टीम ने उस पर नजर रखी और घटना को लेकर पड़ताल की तो शंका सही साबित हुई।


- पूछताछ में उसने कबूला कि उसी ने अपने साथी शेलेंद्र उर्फ कन्नू, मनोज पाठक और इशाक के साथ मिलकर की थी। इसके लिए उन्हें स्कीम नंबर 114 में रहने वाले गैराज संचालक गुरुचरण सिंह उर्फ भोला पिता गुरुदेव सिंह ने 3 लाख रुपए की सुपारी दी थी। यही नहीं सुपारी के डेढ़ लाख रुपये भी नगद दे दिए थे। टीम ने गब्बर की निशान देही पर एक-एक कर सभी बदमाशों को उठाया तो हत्याकांड का खुलासा हो गया।


पत्नी से अवैध संबंध की शंका में करवाई हत्या
- आरोपी गुरुचरण सिंह ने पूछताछ में बताया उसका निरंजनपुर चौराहे पर गैराज है। जहां ट्रक व सभी छोटे बड़े वाहनों की रिपेयरिंग की जाती है। उसके दोस्त अमरजीत के ट्रांसपोर्ट के ट्रक उसी के यहां सुधरते थे। मृतक दर्शनसिंह का उसके गैराज पर आना-जाना था और दर्शन उसकी पत्नी पर बुरी नजर रखने लगा। कई बार उसे समझाइश देने के बाद भी वह नहीं माना तो उसकी हत्या की ठान ली।


- आरोपी गब्बर से संपर्क किया तो वह राजी हो गया। उसने अपने साथी इशाक, मनोज पाठक और शैलेंद्र उर्फ कन्नू को बुलाया, तीनों ने दर्शन को शराब पार्टी के बहाने बुलाया। एक ढाबे पर शराब पिलाई और फिर उसे तेजाजी नगर बायपास पर लाकर नशे में ट्रक के केबिन में पड़ी रस्सी से गला घोंटकर मार दिया। बाद में वे उसकी लाश को वहीं छोड़कर भाग गए। हत्या के बाद गब्बर ने गुरुचरण सिंह से शेष डेढ़ लाख रुपये की राशि मांगी तो वह आनाकानी करने लगा। उसने कई बार मोबाइल तक बंद कर लिए। इसी को लेकर इनकी आपस में तनातनी होने लगी।


- इनके बीच पड़ी फूट से पुलिस को गब्बर के हत्या में होने की जानकारी मिली और पुलिस ने गब्बर के जरिए सभी हत्या के आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। आरोपी कन्नू उर्फ शैलेंद्र वर्तमान में सोम ग्रुप में काम करता है। उसके खिलाफ देवास में चोरी, मारपीट, चाकूबाजी, लूट के 15 से ज्यादा अपराध दर्ज हैं। वहीं इशाक के उपर थाना हीरानगर में मारपीट, चाकूबाजी, आर्म एक्ट के करीब 10 अपराध हैं। वह गब्बर का करीबी रहा है। गब्बर ने सभी को हत्या के लिए 10 से 20 हजार रुपये दिए थे। बाकी राशि खुद रखी थी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Indore

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×