--Advertisement--

बेटे ने की लव मैरिज, लड़की वालों ने किया लड़के के पिता को बना लिया बंधक

बेटे ने की लव मैरिज, लड़की वालों ने किया लड़के के पिता को बना लिया बंधक

Dainik Bhaskar

Mar 07, 2018, 02:02 PM IST
संदीप के पिता दामोदर तिवारी, ज संदीप के पिता दामोदर तिवारी, ज

इंदौर/उज्जैन। अपहरण और फिरौती के कई मामले आपने सुने होंगे, लेकिन उज्जैन में पुलिस ने एक ऐसे अपहरण का खुलासा किया, जिसे सुन सब सोच में पड़ गए। यहां बेटी के लवमैरिज से नाराज उनके परिजनों ने लड़के के पिता को बंधक बना लिया। अपहरण के बाद बेटे को कॉल कर कहा कि हमारी बेटी को ले आओ और अपने पिता को ले जाओ। सात दिनों तक पिता पीटते रहे और लड़के को फोन पर शर्त भी याद दिलाते रहे। परेशान बेटे ने पुलिस की मदद ली तब जाकर उसे झारड़ा के मकला गांव से छुड़वाया गया। पुलिस ने लड़की के दो भाइयों को गिरफ्तार किया है।

ये है पूरा मामला...
- देवास रोड नागझिरी की श्रीनगर काॅलोनी निवासी दामोदर तिवारी के बेटे संदीप पड़ोसी चंदा से तीन महीने पहले लव मैरिज कर इंदौर आ गया था। लड़की के परिजनों को जब इसका पता चला तो उन्होंने लड़के के माता-पिता पर दबाव बनाया कि बेटी को वापस लौटा दो। लड़के के पिता ने यह कहते मना कर दिया कि वे दोनों बालिग हैं, मैं क्या कर सकता हूं।


- गुस्साए परिजनों ने 28 फरवरी को देवास रोड पर दामोदर का अपहरण कर लिया। परिजनों ने तलाश के बाद एसपी सचिन अतुलकर से शिकायत की। माधवनगर पुलिस ने कॉल डिटेल और लोकेशन को ट्रेस किया तो मकला गांव का पता चला। यहां खेत पर बने मकान में उसे बंधक बनाकर रखा गया था। पुलिस ने मौके से लड़की के भाई ओमप्रकाश और प्रेम को हिरासत में लिया, जबकि पिता व मां फरार हैं।

मुझसे कहा था- तेरे बेटे से बोल हमारी लड़की दे जाएं, तभी तू जिंदा जा सकेगा
- पिता ने बताया कि मैं डिवाइन वैली में सिक्योरिटी गार्ड हूं। 28 फरवरी को लड़की के पिता नारायण उनकी पत्नी रेशमबाई, पुत्र ओमप्रकाश व प्रेम मेरे पास आए। बोले एक साइड चलो बात करनी है। गाड़ी के पास ले गए व अंदर धकेल दिया। इतने में गाड़ी वहां से भगा ली व खेत में जाकर रुके जहां एक कमरे ले जाकर बैठा दिया। रोज मुझे वहीं रखते व बाहर से ताला लगा देते। दो-तीन बार मेरे मोबाइल से घरवालों से बात भी कराई। बस इतना ही बोलने देते कि मैं ठीक हूं, तुम संदीप से बोलो चंदा को उसके घर भिजवा दो तो मैं भी लौट आऊंगा। इतना बुलवा फोन काट देते थे। सोमवार तड़के पुलिस की जीप खेत के पास आकर रुकी तो नारायण के लड़के मुझे कालर पकड़ घसीटकर ले जाने लगे। मैने विरोध किया। मैं काफी डरा हुआ था। पुलिस बोली घबराओ मत कुछ नहीं होगा अब गए हैं।

X
संदीप के पिता दामोदर तिवारी, जसंदीप के पिता दामोदर तिवारी, ज
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..