--Advertisement--

लोकायुक्त पुलिस ने आरोपी एइ पंचोलिया और इंस्पेक्टर शर्मा के खिलाफ पेश किया चालान

लोकायुक्त पुलिस ने आरोपी एइ पंचोलिया और इंस्पेक्टर शर्मा के खिलाफ पेश किया चालान

Danik Bhaskar | Jan 29, 2018, 06:20 PM IST

इंदौर। नगर निगम के विद्युत एवं यांत्रिकी विभाग के सहायक यंत्री (एई) रजनीश पंचोलिया एवं इंस्पेक्टर मोहनलाल शर्मा ने ठेकेदार से बिजली कार्य के बकाया 17 लाख रुपए के बिल भुगतान के बदले 10 प्रतिशत रिश्वत के रूप में रुप में एक लाख 60 हजार रुपए की मांग की थी। रिश्वत लेते सहायक यंत्री पंचोलिया पकड़ा गया था और इंस्पेक्टर ने भी रिश्वत मांगी थी और उसने फरियादी की डायरी में 10 प्रतिशत के मान से बनने वाली राशि लिख कर दी थी। लोकायुक्त पुलिस इंदौर ने यह बात इन दोनों आरोपियों के खिलाफ चालान में कही।

लोकायुक्त पुलिस ने दोनों आरोपियों को 17 फरवरी 2014 को 20 हजार रुपए की रिश्वत लेते नगर निगम में उनके ऑफिस में रंगेहाथ पकड़ा था। कांट्रेक्टर राजेश गावड़े निवासी बजरंग नगर ने शिकायत की थी कि वह नगर निगम की तरफ से दीपावली, नवरात्रि, अनंत चतुर्दशी, स्वतंत्रता दिवस, गणतंत्र दिवस आदि त्यौहारों पर लाइटिंग करता है। इस कार्य का 17 लाख रुपए नगर निगम पर बकाया हो गए हैं। वह इस राशि का बिल नगर निगम के विद्युत विभाग में दे चुका है किंतु सहायक यंत्री पंचोलिया बिल भुगतान के बदले एक लाख 60 हजार रुपए मांग रहा है। साथ ही इंस्पेक्टर शर्मा ने उसकी डायरी में हिसाब लिखा था कि 10 प्रतिशत राशि के मान से एक लाख 60 हजार रुपए बनते हैं। शिकायत के बाद लोकायुक्त पुलिस ने आरोपियों को रंगेहाथ पकड़ने की योजना बनते हुए फरियादी की पंचोलिया से बात कराई जिसमें पहली किश्त के 20 हजार रुपए और शेष राशि बाद में लेने का तय हुआ। घटना के दिन सुबह 11.40 बजे फरियादी रुपए लेकर पंचोलिया के नगर निगम स्थित कक्ष में पहुंचा और उसने जैसे ही 20 हजार रुपए पंचोलिया को दिए, लोकायुक्त टीम ने उसे रंगेहाथ पकड़ लिया। चूंकि रिश्वत की य निरीक्षक मोहनलाल शर्मा ने भी मांगी थी। इसलिए उसे भी आरोपी बनाया गया था। दोनों के खिलाफ रिश्वत मांगने और रिश्वत लेने के मामले में प्रकरण दर्ज किया गया था।