--Advertisement--

छात्र की कंपा देने वाली हत्या, हत्यारे ने पेड़ में पोंछे खून से सने हाथ, मौके से मिला ये सामान

छात्र की कंपा देने वाली हत्या, हत्यारे ने पेड़ में पोंछे खून से सने हाथ, मौके से मिला ये सामान

Danik Bhaskar | Jan 24, 2018, 10:55 AM IST
झाबुआ में रविवार से लापता 9वीं झाबुआ में रविवार से लापता 9वीं

इंदौर/झाबुआ। 9वीं के छात्र पार्श्व शाह पिता चेतन शाह (15) के अंधे कत्ल की गुत्थी पुलिस ने 24 घंटे में ही सुलझा ली। मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। उसमें से एक नाबालिग है। पुरानी रंजिश के चलते नाबालिग आरोपी ने अपने एक और साथी की मदद से इस वारदात को अंजाम दिया था। आरोपियों ने युवक का सिर कुचलकर शव को खींचकर झाड़ियों में फेंका था। इसके बाद खून से सने हाथों को पेड़ पर पोंछकर बहन के यहां धार भाग गए थे।


पार्थ ने की थी मारपीट इसलिए खुन्नस पाले बैठा था आरोपी
- एसपी महेशचंद जैन ने बताया पार्थ की हत्या करने वाले आरोपियों का पता करने के लिए पुलिस ने उसके घर से निकलने से लेकर आखिरी तक की पूरी कड़ियों को जोड़ा। 21 जनवरी को दोपहर डेढ़ बजे पार्थ घर से एलआईसी कॉलोनी में रहने वाले अपने दोस्त आशीष के साथ पढ़ने का कहकर निकला था। पार्थ और आशीष किशनपुरी में रहने वाले सत्यम अहिरवार के यहां पहुंचे। जहां नरेश पिता प्रेमसिंह वसुनिया निवासी किशनपुरी व विजय पिता दरियावसिंह मकवाना निवासी रातीतलाई पहले से मौजूद थे। आखिरी बार नरेश व विजय के साथ ही पार्थ को देखा गया था। पुलिस ने आशीष से पूछताछ की तो उसने बताया वह पार्थ को सत्यम के घर छोड़कर चला गया था। जब सत्यम को पकड़ा तो उसने कहा रविवार को अत्यधिक शराब पी लेने के कारण मुझे उल्टियां होने लगी थी तो मैं अपने घर सो गया। इसके बाद नरेश को हिरासत में लिया तो हत्या की कहानी सामने आई।

- दरअसल नरेश और पार्थ के बीच दो बार पहले विवाद हुआ था। उस वक्त पार्थ ने अपने साथियों के साथ मिलकर नरेश को मारा था। तब से वह पार्थ के प्रति मन में खुन्नस पाले बैठा था। नरेश ने ही पार्थ को शराब पीने को कहा और अपने एक साथी विजय के साथ बीयर लेकर वे उसे देवझिरी ले गए। जहां गुफा के पास बैठकर उन्होंने बीयर पी। इसी दौरान नरेश ने कहा इससे पुराना हिसाब-किताब चुकता करना है और यह कहते हुए पार्थ के साथ मारपीट शुरू कर दी। जब पार्थ ने विरोध किया तो नरेश और विजय डर गए और उन्हें लगा कि अब ये हमारी रिपोर्ट करेगा तो उन्होंने पत्थर से उसके सिर पर हमला कर दिया। उसे सिर में तब तक पत्थर से मारा जब तक कि उसकी मौत न हो गई। इसके बाद शव को झाड़ियों में फेंककर दोनों भाग निकले।


ये है मामला

रविवार शाम से लापता 9वीं के छात्र पार्थ पिता चेतन शाह (15) का शव तीन दिन बाद देवझिरी के जंगल में लहूलुहान हालत में मिला था। आरोपियों ने पार्थ का सिर कुचलकर शव को खींचकर झाड़ियों में फेंक दिया था। इसके बाद उसने खून से सने अपने हाथ पेड़ पर पोछे थे। पार्श्व का स्कूल बैग कंधे पर ही लटका था। पत्थर से कुचलने से सिर की हड्डी तक टूट गई और बांये कान के पास करीब दो इंच का छेद हो गया। शव को घसीटकर करीब 50 मीटर दूर झाड़ियों में फेंक दिया था। पुलिस को मौके पर खून से सना एक पत्थर भी मिला था। पेड़ के पास ही पार्श्व की चप्पल और एक शराब की बोतल पड़ी मिली है।


पिता की तबीयत बिगड़ी, आईसीयू में भर्ती
- इकलौते बेटे का शव देखकर पिता चेतन शाह बदहवास हो गए। उनकी तबीयत बिगड़ गई। ऐसे में उन्हें जिला अस्पताल के आईसीयू में भर्ती कराना पड़ा। पार्श्व पूरे परिवार का लाड़ला था। मौसी रवीना को जब अपने भतीजे की हत्या की जानकारी लगी तो वे सीधे देवझिरी पहुंच गई। पार्श्व का शव देखकर वे बदहवास सी हो गई। गौरतलब है कि श्री शाह मूलत: सूरत के रहने वाले हैं और तीन-चार साल पहले ही परिवार के साथ झाबुआ आए थे।