Hindi News »Madhya Pradesh News »Indore News» Rainfall Likely In Eastern Mp

मममम

मममम

Rajeev Tiwari | Last Modified - Feb 13, 2018, 04:48 PM IST

इंदौर।बेमौसम बारिश ने प्रदेशभर के किसानों की कमर तोड़ दी है। मंगलवार रात मावठे और ओलों के साथ चली आंधी ने बची फसलों को भी चौपट कर दिया। खेताें में खड़ी पकी गेहूं और चने की फसल जमीन पर बिछ गईं। मौसम विभाग की माने तो प्रदेश के कई जिलों में बुधवार को भी बारिश की संभावना है। इस खबर से किसानों की नींद उड़ा दी है। कई जगह किसान सड़क पर उतर आए हैं और मुआवजे की मांग कर रहे हैं। उधर सीएम ने अधिकारियों के साथ आपात बैठक की।


प्रदेशभर में बेमौसम बारिश और ओले गिरे
- देवास, बैतूल इटारसी, शिवनी मालवा, होशंगाबाद, खंड़वा, विदिशा, भोपाल, टीकमगढ़, छतरपुर, रीवा, शहडोल, जबलपुर सहित प्रदेश के कई जिलों में सैकड़ों गांव में फसल तबाह हो गई है।
- खंड़वा में मंगलवार रात तेज हवा और आंधी के साथ बादलों की गड़गड़ाहट शुरू हुई। तेज बारिश के साथ ओले पड़े। पंधाना ब्लाक के गांधवा, बड़गांव पिपलोद, सिंगोट, चांदपुर, पिपलिया, विश्रामपुर, लुन्हार में तेज बारिश के साथ चने के आकार के ओले गिरे। खालवा ब्लाक के ग्राम जामन्या कला, जामन्या खुर्द में ओले गिरने से गेहूं-चना फसल प्रभावित हुई।

टीकमगढ़ में किसानों ने किया चक्काजाम
- टीकमगढ़ और छतरपुर में 100 से ज्यादा गांवों में खड़ी फसल पूरी तरह से बर्बाद हो चुकी है। वहीं बैतूल और देवास जिले में 80 फीसदी फसल तबाह हो चुकी है। किसानों ने बताया कि गन्ना, चना, गेहूं, मसूर की फसल चौपट हुई है। प्रशासन का कहना है कि बर्बादी का आंकलन किया जा रहा है। टीकमगढ़ में गुस्साए किसान बर्बाद फसल ट्रॉली में भरकर हाईवे पर पहुंचे और चक्काजाम कर दिया। उनकी मांग थी कि उन्हें फसल का उचित और शीघ्र मुआवजा दिया जाए। प्रशासन की टीम ने उन्हें समझाइश दी इसके बाद वे सड़क से हटे।

- मौसम विभाग की माने तो राजस्थान की ओर चक्रवात बना है। वहीं बंगाल की खाड़ी से पूर्वी हवा आ रही है। ऐसे में प्रदेश के पश्चिमी और पूर्वी हिस्सों में बारिश हाे सकती है। इस खबर ने किसानों की नींद उड़ा दी है।

सीएम ने बैठक में कहा, फसल का हो वास्तिवक आंकलन

-सीएम ने ओलावृष्टि को देखते हुए बुधवार को कृषि विभाग और राजस्व विभाग के अधिकारियों के साथ आपात बैठक की। सीएम ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि जहां भी फसल बर्बाद हुई है। उसका वास्तविक आंकलन किया जाए। किसी भी किसान को आपदा की इस घड़ी में परेशान ना होना पड़े।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Indore

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×