Hindi News »Madhya Pradesh »Indore »News» Vidarbha Champions In Ranji Final Indore

83 साल में पहली बार विदर्भ बना रणजी चैम्पियन, हैट्रिक लेने वाले गुरबानी बने प्लेयर ऑफ द मैच

होलकर स्टेडियम में विदर्भ ने एक नया कीर्तिमान रच दिया है। 83 साल में पहली बार विदर्भ रणजी चैम्पियन बन गया है।

Rajeev Tiwari | Last Modified - Jan 01, 2018, 06:02 PM IST

  • 83 साल में पहली बार विदर्भ बना रणजी चैम्पियन, हैट्रिक लेने वाले गुरबानी बने प्लेयर ऑफ द मैच
    +4और स्लाइड देखें
    रणजी ट्रॉफी जीतने के बाद ट्रॉफी के साथ चैम्पियन विदर्भ की टीम।

    इंदौर.होलकर स्टेडियम में खेले गए रणजी फाइनल में विदर्भ की टीम ने इतिहास रच दिया। 83 साल में पहली बार विदर्भ ने रणजी चैम्पियनशिप जीती। विदर्भ ने दिल्ली को 9 विकेट से हराया। अक्षय वकरे ने दिल्ली के छह बल्लेबाजों को आउट किया। विदर्भ के 547 के जवाब में दिल्ली की दूसरी पारी 280 रनों पर ऑल आउट हो गई।

    दिल्ली ने 32 रनों का टारगेट दिया

    - चौथे दिन विदर्भ ने दूसरी इनिंग में 547 रन बनाए। इसके बाद दिल्ली की टीम दूसरी पारी में 280 पर आलआउट हो गई। उसने विदर्भ को जीत के लिए 32 रनों को अासान टारगेट दिया। विदर्भ ने पांच ओवर में एक विकेट खोकर ये टारगेट हासिल किया। दिल्ली की ओर से कुलवंत ने फैज फजल का विकेट लिया।

    रजनीश गुरबानी बने प्लेयर ऑफ द मैच

    - फाइनल में हैट्रिक लेने वाले रजनीश गुरबानी को प्लेयर ऑफ द मैच चुना गया। उन्होंने इस मैच में टोटल 8 विकेट लिए। अक्षय वडकर ने विदर्भ की ओर से पहली इनिंग में 133 रनों की पारी खेली थी।

    दूसरी बार रणजी के फाइनल में लगी हैट्रिक

    - गुरबानी से पहले 1972/73 के फाइनल में मुंबई के खिलाफ तमिलनाडु के बी कल्याण सुंदरम ने हैट्रिक ली थी। उस वक्त मुंबई टीम का नाम बॉम्बे था। सुंदरम के शानदार प्रदर्शन के बाद भी तमिलनाडु की टीम 123 रन से हार गई थी।
    - सेमीफाइल में गुरबानी के प्रदर्शन की बदौलत ही विदर्भ ने कर्नाटक को हराकर फाइनल में जगह बनाई थी। इस मैच में गुरबानी ने कुल 12 विकेट लिए थे, दूसरी पारी में दूसरी इनिंग में 7 विकेट झटके थे। उनके इस परफॉर्मेंस की बदौलत विदर्भ ने कर्नाटक को हराया था।

    मौजूदा रणजी सीजन में लगीं 2 हैट्रिक
    - मौजूदा रणजी सीजन की दो हैट्रिक लगी। कर्नाटक के तेज गेंदबाज विनय कुमार ने क्वार्टर फाइनल में मुंबई के खिलाफ हैट्रिक ली थी।

    83 साल के इतिहास में पहली बार एक साल में एक ही ग्राउंड पर दो रणजी फाइनल
    -83 साल के रणजी ट्रॉफी इतिहास में ये पहला मौका है, जब एक साल में दो रणजी फाइनल हो रहे हैं और वो भी एक ही ग्राउंड पर।
    - इससे पहले 2016-17 का रणजी फाइनल मुकाबला भी इंदौर के होल्कर स्टेडियम में गुजरात और मुंबई के बीच हुआ था। 10 से 14 जनवरी तक हुए इस मुकाबले में गुजरात चैम्पियन बना था।

  • 83 साल में पहली बार विदर्भ बना रणजी चैम्पियन, हैट्रिक लेने वाले गुरबानी बने प्लेयर ऑफ द मैच
    +4और स्लाइड देखें
    वसीम जाफर ने विदर्भ की ओर से विजयी चौका लगाया।
  • 83 साल में पहली बार विदर्भ बना रणजी चैम्पियन, हैट्रिक लेने वाले गुरबानी बने प्लेयर ऑफ द मैच
    +4और स्लाइड देखें
    जीत का जश्न मनाते विदर्भ के खिलाड़ी।
  • 83 साल में पहली बार विदर्भ बना रणजी चैम्पियन, हैट्रिक लेने वाले गुरबानी बने प्लेयर ऑफ द मैच
    +4और स्लाइड देखें
    दिल्ली की टीम 280 रनों पर ऑल आउट हो गई।
  • 83 साल में पहली बार विदर्भ बना रणजी चैम्पियन, हैट्रिक लेने वाले गुरबानी बने प्लेयर ऑफ द मैच
    +4और स्लाइड देखें
    रजनीश गुरबानी ने पहली इनिंग में हैट्रिक लगाई थी।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×