• Home
  • Mp
  • Indore
  • Wedding At Old Age Home Bride And Groom Get Blessing From Old Women
--Advertisement--

अपनी ही शादी में जमकर नाची थी ये दुल्हन, आप नहीं जानते होंगे इनसे जुड़ी ये बात

अपनी ही शादी में जमकर नाची थी ये दुल्हन, आप नहीं जानते होंगे इनसे जुड़ी ये बात

Danik Bhaskar | Dec 19, 2017, 10:50 AM IST
वृद्धाश्रम में शादी के दौरान द वृद्धाश्रम में शादी के दौरान द

इंदौर। फाइन आर्ट्स कॉलेज की फैकल्टी और चित्रकार गुंजन लड्ढा ने हाल ही में वृद्धाश्रम की महिलाओं के बीच शादी कर मिशाल पेश ही है। अपनी शादी में जमकर नाचने वाली गुजन एक बेहतरीन चित्रकार हैं और वे अपनी पेंटिंग्स और इंस्टॉलेशंस के जरिए लोगों की खुशी बयां करती रही हैं। वे कहती हैं कि मैं अपनी कला में स्त्री की ख्वाहिश और सपनों को रचने की कोशिश करती हूं। मुझे तितलियां हमेशा से आकर्षित करती रही हैं, क्योंकि पंख आने के बाद न केवल वह अपने को रंगीन बनाती हैं, बल्कि दूसरों की ज़िंदगी में भी खूबसूरत रंग भरती हैं। तितली से प्रेरणा लेकर ही मैंने वृद्धाश्रम में शादी करे का फैसला किया था।

आय एम द ब्लू स्काय, बटरफ्लाय और वट सावित्री में रूपायित इच्छाएं
- वे अपनी एक पेंटिंग्स में तितली को महीन कल्पनाशीलता से रचती हैं और पांसे के रूप में मानवीय रिश्तों को प्रतीकात्मक रूप से रूपायित करती हैं। उन्होंने आई एम द स्काय इंस्टॉलेशन बनाया है जो स्त्री की असीमित ताकत और इच्छाओं का वितान रचती है।


- उन्होंने एक इंस्टॉलेशन रचा है जिसे शीर्षक दिया है वट सावित्री। इसमें उन्होंने बरगद के पेड़ का छोटा रूप बनाकर उसके चारों तरफ रंगीन धागे लपेटे हैं और आंखें बनाकर उनमें लाइट्स पैदा की हैं। यह इंस्टॉलेशन यह खूबसूरती से व्यक्त करता है कि धागे स्त्रियों की इच्छाओं के प्रतीक हैं कि उनका पति दीर्घायु हो और टिमटिमाती आंखें उनकी अनवरत स्पंदित होती रहने वाली मनोकामनाओं का प्रतीक हैं। वे कहती हैं कि मैं अपनी पेंटिंग्स और इंस्टॉलेशन में अपने आसपास की स्त्री दुनिया को ही बिम्बों-प्रतीकों में अभिव्यक्त करने की कोशिश करती हूं।

इसी महीने वृद्धाश्रम में की थी शादी
- फाइन आर्ट कॉलेज में कार्यरत गुंजन लड्‌ढा और नितिन योगी ने इसी माह परदेशीपुरा स्थित वृद्धाश्रम में शादी की थी। बुजुर्गों ने भी परिवार की तरह इस शादी में शामिल होकर हर रस्म अदा की। शहनाई की धुन पर दूल्हा-दुल्हन के साथ वे खूब नाचे और दुल्हन को बेटी की तरह विदा करते समय उनके आंसू भी छलके। शादी के दौरान घराती और बराती दोनों ही रूप में आश्रम के वृद्ध मौजूद थे। शादी के दौरान वृद्धों ने जमकर डांस किया। इस दौरान दूल्हा और दुल्हन ने भी डांस किया था।