--Advertisement--

Dainik Bhaskar

Nov 26, 2017, 02:07 PM IST
बाेरिंग के दौरान अचानक निकलने बाेरिंग के दौरान अचानक निकलने

इंदौर। मंदसौर के सेमली दीवान गांव में एक किसान के खेत में किया गया, बोरिंग पिछले 10 दिनों से पानी की जगह आग उगल रहा है। इसका खुलासा उस समय हुआ जब बोरिंग करने वाली कंपनी ने बोर में डाले गए पाइप्स जोड़ने के लिए वेल्डिंग करना शुरू किया। कर्मचारी ने जैसे ही वेल्डिंग मशीन चालू की बोरिंग से आग का शोला भभक उठा। घबराकर उसने वेल्डिंग करना बंद कर दिया। इसके बाद बोरिंग में मिट्टी डालने या माचिस की तीली जलाने पर लगातार आग निकल रही है। किसान के खेत पर ग्रामीणों का जमावड़ा लग गया है। मंगलवार सुबह विशेषज्ञों की टीम जांच के लिए पहुंची और उन्होंने मिथेन गैस निकलने की बात कही।

यह है पूरा मामला

- मंदसौर बोलिया रोड पर सेमली दीवान के उदयसिंह चौहान (सौंधिया) के बताया कि उन्होंने 17 नवंबर को खेत पर ट्यूबवेल खुदवाया था। सुबह से शुरू हुई खुदाई रात 9 बजे तक चली। 500 फीट गहरी खुदाई के बाद पानी का संकेत मिलने पर बोरिंग कंपनी के कर्मचारी ने उसमें केसिंग पाइप डाल दिए। इसके बाद जैसे ही उसने पाइप जोड़ने के लिए वेल्डिंग शुरू की वैसे ही बोर में से आग का शोला भभक उठा और ऊंची-ऊंची लपटें उठने लगीं। इस पर उसने वेल्डिंग बंद कर दी अगले दिन सुबह वेल्डिंग करने पर फिर ऐसा ही हुआ।

- अंतरसिंह ने बताया कि बोरवेल करने वालों ने कहा था यह गैस 4-5 दिन में उड़ जाएगी, इसके बाद आकर हम फिर काम कर देंगे। शनिवार को कर्मचारियों ने वापस ड्रिलिंग पाइप ट्यूबवेल में उतारा, शुरू में 2-3 बाल्टी पानी निकला। गैस उड़ी या नहीं यह जांचने के लिए कंपनी के लोग जैसे ही माचिस की तीली जलाकर पाइप के पास लाए वहां आग भभक गई। आग इतनी तेज थी कि लपटें 8 फीट ऊंचाई तक उठने लगीं। इसके बाद पानी डालकर ट्यूबवेल का मुंह बर्तन से ढका तब आग बुझी। रविवार को आसपास के लोगों ने सरपंच को पूरी बात बताई। उनकी मौजूदगी में फिर से बोरिंग चेक किया, लेकिन ट्यूबवेल से पानी की जगह आग ही निकली।

ट्यूबवेल से आ रही ऐसी आवाजें...

- इसके बाद ग्रामीणों ने ट्यूबवेल को गीले कपड़े से ढंक दिया था, लेकिन इसे हटाते ही अन्दर से अंदर पानी गिरने और उबलने जैसी आवाज आने लगती है। इसके पास माचिस की तीली जलाकर ले जाने पर आग भभक जाती है। इतना ही नहीं मिट्टी डालने पर लपटें और ऊंची उठने लगती हैं।

प्राकृतिक गैस के लिए हुआ था सर्वे

- ओएनजीसी ने इसी साल जनवरी से अप्रैल के बीच नीमच व मंदसौर जिले में प्राकृतिक गैस के लिए सर्वे किया था। नीमच में ये सर्वे अभी भी चल रहा है, वहां की सर्वे टीम के साइट इंचार्ज भंवरसिंह भाटी ने बताया मंदसौर के गरोठ, शामगढ़ व सुवासरा में अल्फा जियो कंपनी ने सर्वे किया था। इसमें सकारात्मक संकेत मिले थे। रिपोर्ट आने में काफी समय लगता है। सेमली दीवान में गैस होने की संभावना से इंकार नहीं कर सकते।

प्रारंभिक जांच में मिथेन गैस होना पाया गया

- गरोठ एसडीएम आर. पी. वर्मा ने बताया कि ज्वलनशील गैस निकलने की सूचना के बाद पटवारी काे भेजकर ट्यूबवेल बंद करवा दिया था। मंगलवार को विशेषज्ञों की टीम यहां जांच के लिए पहुंची और प्रारंभिक जांच में मिथेन गैस निकलने की बात सामने आई है।

- जिला खनिज अधिकारी का कहना है कि यह प्राकृतिक मिथेन गैस हो सकती है। मिथेन एक रंगहीन तथा गंधहीन होती है। यह ईंधन के रूप में उपयाेग में आती है। केंद्र सरकार का मानना है कि देश के अन्य हिस्सों सहित मंदसौर व नीमच जिले के कई क्षेत्रों में प्राकृतिक गैस और ऑइल जैसे हाइड्रोकॉर्बन हैं। कनेरिया के अनुसार उज्जैन-इंदौर संभाग के कुछ जिलों में इस प्रकार की ज्वलनशील गैस निकली है।

X
बाेरिंग के दौरान अचानक निकलने बाेरिंग के दौरान अचानक निकलने
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..