Hindi News »Madhya Pradesh News »Indore News» Indore Polise Arrested A Gang Makig Arm License On Foge Doccuments

देवास

देवास

Rajeev Tiwari | Last Modified - Nov 11, 2017, 04:10 PM IST

इंदौर।नागालैंड से हथियारों के फर्जी लाइसेंस बनाने वाले अंतरराज्यीय गिरोह के सरगना प्रदीप सागवान और संदीप सोनगरा के खिलाफ क्राइम ब्रांच ने धोखाधड़ी का केस दर्ज किया है। वहीं गिरोह से शस्त्र लाइसेंस बनवाने वाले पांच लोगों को गिरफ्तार किया है। गिरोह का सरगना प्रदीप फरार है ये खुद को एसपी रैंक का अफसर बनकर लोगों से धोखाधड़ी भी कर चुका है। क्राइम ब्रांच को उसके पुलिस की वर्दी पहने फोटो भी मिले हैं।

- एएसपी क्राइम ब्रांच अमरेंद्र सिंह चौहान ने बताया नागालैंड से शस्त्र लाइसेंस बनाकर शहर में घूमने वाले आरोपी संदीप पिता श्याम सोनगरा, अमन उर्फ अमरदीपसिंह खैरा, राजेश सिंह बैस, नवल किशोर गर्ग, जगदीश चौधरी को गिरफ्तार किया है। इनके कब्जे से नागालैंड से बने 32 बोर की एक रिवॉल्वर व 4 पिस्टल व उनके लाइसेंस जब्त हुए हैं।

आरोपियों में कोई प्रॉपर्टी ब्रोकर तो कोई सिक्युरिटी गार्ड

- आरोपी संदीप एक न्यूज चैनल में सिक्युरिटी गार्ड है। वहीं अमरदीप तरन तारन पंजाब का रहने वाला है जो कि वर्ष-2003 से इंदौर में है। ये प्रॉपर्टी ब्रोकर गुरदीप चावला के प्रायवेट सुरक्षा गार्ड के रूप में काम कर रहा है। आरोपी नवल किशोर गर्ग मूलतः मुरैना सबलगढ़ का रहने वाला है ये 2002 में इंदौर में रहने आया था । ये पूर्व नेशनल बोर्ड ऑफ ट्रेड में आइल ब्रोकर का काम करता था, लेकिन अभी प्रॉपर्टी डीलिंग का काम कर रहा है। आरोपी राजेश सिंह मूलतः समस्तीपुर बिहार का रहने वाला है ये ट्रांसपोर्टर है और अनाज की दलाली भी कर रहा है। आरोपी जगदीश चौधरी किसान है और निरंजनपुर में रहता है।

मुंहमांगी कीमत देते हैं लोग
- बंदूक का लायसेंस कई लोगों के स्टेटस सिम्बोल होता है, इसे बनवाना आसान नहीं होता।लिहाजा लोग इसके लिए मुंहमांगी कीमत देने को तैयार हो जाते है। इसी बात को फ़ायदा उठाकर यह गैंग ने फर्जी दस्तावेजों के जरिए सीमावर्ती राज्य नागालैंड से बन्दूक के लायसेंस बनवाने का गौरखधंधा शुरू कर दिया। ये लोग लायसेंस लेने वाले लोगों के फर्जी दस्तावेज बनवाकर उन्हें नागालैंड का स्थायी निवासी साबित कर देते थे और फिर वहां से बन्दूक का लायसेंस बनवा लेते थे। इसका खुलासा तब हुआ जब पूणे के एक बार में गोलीबारी की घटना हुई। इस मामले में पुलिस ने इंदौर केदो लोगों को गिरफ्तार किया था। इन आरोपियों से पूछताछ के आधार पर पूरे गोरखधंधे का खुलासा हुआ। इनका जाल इतना गहरा था कि एक रिटायर्ड डीएसपी के बेटे ने भी इसी गिरोह से बन्दूक का लाइसेंस बनवाया था।
आगे की स्लाइड्स में देखें और फोटोज...
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Indore

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×