--Advertisement--

मध्यप्रदेश / बगावत जारी; भाजपा बोली- नहीं माने तो नहीं रोकेंगे, कांग्रेस में कमलनाथ करेंगे बात

Dainik Bhaskar

Nov 11, 2018, 04:27 AM IST


Congress and BJP will talk to rebel leaders
X
Congress and BJP will talk to rebel leaders

  • कांग्रेस-भाजपा  से टिकट न मिलने पर नेताओं ने भरा  निर्दलीय पर्चा 
  • दोनों ही दल इनसे पार्टी के पक्ष में काम करने की लगा चुकी है गुहार

इंदौर. कांग्रेस में प्रीति अग्निहोत्री, कमलेश खंडेलवाल तो भाजपा में ललित पोरवाल, जगदीश धनेरिया के बगावती तेवर कायम हैं। वरिष्ठ नेता भी इन्हें नहीं मना पाए। भाजपा ने कहा है कि बागी नहीं माने तो उन्हें रोकेंगे नहीं। उधर, कांग्रेस में खुद कमलनाथ आकर बागियों से बात करेंगे।

 

भाजपा : नाम वापस नहीं लेंगे पोरवाल व धनेरिया

इंदौर भाजपा में बागी के तौर पर फॉर्म भरने वाले विधानसभा क्षेत्र 3 के दो प्रत्याशी जगदीश धनेरिया और ललित पोरवाल अब भी अड़े हुए हैं। वहीं, राऊ के बागी ओम यादव ने भी नाम वापसी के संकेत नहीं दिए हैं। पोरवाल का कहना है कि मैंने तय कर लिया है कि चुनाव लडूंगा। वंशवाद के खिलाफ पूरी ताकत झोंक दूंगा। उन्होंने क्षेत्र के रहवासी संघों से मिलकर समर्थन भी मांगा। उधर, धनेरिया ने तो साफ कह दिया कि मेरे पास बातचीत के लिए कोई नहीं आया। मैं चुनाव लड़ूंगा। 

 

संगठन ने कहा- बागियों ने नाम वापस नहीं लिए तो पार्टी उन्हें रोकेगी नहीं 
भाजपा नगर अध्यक्ष गोपीकृष्ण नेमा का कहना है कि चुनाव को लेकर भाजपा संगठन बागी प्रत्याशियों को मनाने के प्रयास करेगा। पूरे संभाग में जितने भी बागी हैं, सभी से संगठन के लोग बात करेंगे। इसके बाद भी अगर वे नाम वापसी के लिए तैयार नहीं हुए तो पार्टी उन्हें रोकेगी नहीं।

 

कांग्रेस : जोशी बोले- पिंटू मान गए, अब तुम भी मान जाओ, कमलेश ने कहा- सोचूंगा

इंदौर-1 में कांग्रेस के दो बागियों को मनाने की पहली कोशिश नाकाम रही। यहां संजय शुक्ला मैदान में हैं, लेकिन बागी के रूप में कांग्रेस से ही कमलेश खंडेलवाल और प्रीति गोलू अग्निहोत्री ने नामांकन जमा किया है। शनिवार को वरिष्ठ कांग्रेस नेता महेश जोशी और पं. कृपाशंकर शुक्ला खंडेलवाल के घर पहुंचे।

जोशी ने खंडेलवाल से कहा- हम तो पार्टी के सिपाही हैं। पिंटू भी अश्विन के लिए मान गया। इस पर खंडेलवाल बोले- काका, क्षेत्र के हजारों लोगों की आज्ञा से मैदान में उतरा हूं, उनसे चर्चा के बाद बताऊंगा। जब खंडेलवाल नहीं माने तो दोनों वापस आ गए। इधर, शहर अध्यक्ष विनय बाकलीवाल गोलू के घर पहुंचे। कार्यकर्ताओं ने उन्हें देख नारेबाजी शुरू कर दी तो वे लौट गए। अब प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ खुद इनसे बात करेंगे। 
 

 

 

Astrology
Click to listen..