--Advertisement--

कर्नाटक का नाटक : कांग्रेसियों ने इंदौर में फूंका मोदी का पुतला, कहा भाजपा ने की लोकतंत्र की हत्या

गुरुवार को राहुल गांधी ने दिए थे देश भर में प्रदर्शन करने के निर्देश।

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 12:55 PM IST
कांग्रेसियों ने फूंका भाजपा का पुतला। कांग्रेसियों ने फूंका भाजपा का पुतला।

इंदौर। कर्नाटक में राज्यपाल द्वारा भारतीय जनता पार्टी को सरकार बनाने का न्योता देने का विरोध कांग्रसे पार्टी द्वारा किया जा रहा है। गुरुवार को कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने पत्र लिखकर सभी राज्यों में पार्टी संगठन को निर्देश दिए थे कि कनार्टक में हो रहे राजनैतिक घटनाक्रम के विरोध में शुक्रवार को प्रदर्शन किया जाए। दिल्ली से मिले निर्देश के बाद इंदौर शहर कांग्रेस द्वारा शुक्रवार सुबह भाजपा का पुतला जलाया गया।

  • कर्नाटक घटनाक्रम के विरोध में कांग्रेसी सुबह से ही पार्टी के मुख्यालय गांधी भवन पहुंचने लगे थे। कांग्रेसियों द्वारा भाजपा के साथ ही नरेन्द्र मोदी के खिलाफ नारे लगाए जा रहे थे। कांग्रेसियों का कहना हैै कि कर्नाटक में हुए घटनाक्रम ने लोकतंत्र को कमजोर किया है। कांग्रेसजनों ने काली-पट्टी बांधकर व मानव श्रंखला बनाकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का पुतला जलाया।

पुतला जल गया तब पहुंची पुलिस
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का पुतला कांग्रेसियों द्वारा जलाए जाने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची। जब पुलिस पहुंची तब तक पुलता लगभग पूरा जल गया था तब जाकर पुलिस ने वीडियोग्राफी शुरू की। इस पर पुलिस का कहना है कि पुतला दहन के समय छीना झपटी में विवाद भी हाेता है और आग के कारण कोई झुलस भी सकता है, इसलिए पुलिस पुतला दहन से दूर रही।


कांग्रेस ने कहा- राज्यपाल ने दिनदहाड़े लोकतंत्र की हत्या कर डाली
गौरतलब है कि गुरुवार को येदियुरप्पा के शपथ लेने के पहले राहुल गांधी ने ट्वीट किया था कि "कर्नाटक में बहुमत बगैर भाजपा की सरकार बनाने की मांग बेतुकी है। यह संविधान का मखौल है।"

  • गुरुवार शाम को कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, "एक दिन के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने केवल 104 विधायकों के आधार पर सरकार बनाने का दावा पेश किया है। मौजूदा समय में 222 विधायक चुनकर आए हैं। 212 का आंकड़ा बहुमत का है। सुप्रीम कोर्ट ने राज्यपाल की चिट्ठी दिखाने को कहा है। सुप्रीम कोर्ट इस पर विचार करेगा। वजूभाई ने दिनदहाड़े लोकतंत्र की हत्या कर डाली। पहले मोदीजी के लिए विधानसभा की सीट का त्याग किया था, अब प्रजातंत्र का त्याग कर डाला। हम मोदी और अमित शाह को बहुमत साबित करने की चुनौती देते हैं।"

शनिवार शम 4 बजे सदन में साबित करना होगा बहुमत

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक विधानसभा में शनिवार शाम 4 बजे फ्लोर टेस्ट कराने के निर्देश दिए हैं। शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने यह फैसला दिया है। इस तरह शीर्ष अदालत ने राज्यपाल वजूभाई वाला के उस फैसले को पलट दिया, जिसमें उन्होंने बीएस येदियुरप्पा को बहुमत साबित करने के लिए 15 दिन का वक्त दिया था। अब कल शाम यह फैसला हो जाएगा कि बिना बहुमत के दूसरी बार मुख्यमंत्री बने बीएस येदियुरप्पा की कुर्सी रहेगी या जाएगी। कर्नाटक में अभी भाजपा के पास 104, कांग्रेस के पास 78 और जेडीएस+बसपा के पास 38 विधायक हैं। बहुमत के लिए 112 का आंकड़ा जरूरी है। राज्यपाल ने भाजपा को मौका दिया था। इसके लिए खिलाफ कांग्रेस आधी रात को सुप्रीम कोर्ट पहुंची थी। लेकिन कोर्ट ने शपथ पर रोक लगाने से इनकार कर दिया था और सुनवाई शुक्रवार सुबह तक टाल दी थी।

कांग्रेसियों ने फूंका भाजपा का पुतला। कांग्रेसियों ने फूंका भाजपा का पुतला।