सुविधा / शहर में कहीं भी संपत्ति खरीद रहे हैं तो 7 दिन में पता चल जाएगा वैध है या अवैध



सिंबोलिक इमेज सिंबोलिक इमेज
X
सिंबोलिक इमेजसिंबोलिक इमेज

Dainik Bhaskar

Mar 16, 2019, 05:19 PM IST

दिनेश जोशी, इंदौर. मनी सेंटर और तुलसीयाना रेसीडेंसी जैसे मामले सामने आने के बाद निगम लोगों को ऐसी अवैध प्रॉपर्टी में फंसने से बचाने के लिए इसी महीने से सिंगल विंडो सिस्टम शुरू करेगा। इससे लोगों को सात दिन में पता चल जाएगा कि जो संपत्ति वे खरीद रहे हैं, वह वैध है या नहीं। 

 

 

अपर आयुक्त और उपायुक्त स्तर के अधिकारी जांचेंगे प्रॉपर्टी :
निगम अपर आयुक्त और उपायुक्त स्तर के अधिकारी को जिम्मेदारी सौंपेगा। 10 से ज्यादा तकनीकी जानकारों की टीम रहेगी। हर जोन के एक अफसर को इसी काम में लगाया जाएगा। जिन संपत्तियों का रिकॉर्ड या जानकारी मौजूद नहीं होगी, उनके बारे में अन्य विभागों से पत्र व्यवहार के जरिये जानकारी जुटाई जाएगी। 

 

विवादित बिल्डरों की संपत्ति की सूची बनेगी :
विवादित और घपलेबाज बिल्डरों, कॉलोनाइजर और प्रॉपर्टी ब्रोकर की पूरी सूची निगम के पास अलग से रहेगी। जैसे ही आवेदन आएगा, निगम सबसे पहले यही देखेगा कि संबंधित संपत्ति किसके जरिये बेची जा रही है। निगम भूमाफियाओं के तमाम प्रोजेक्ट की जानकारी भी लोगों को देगा, ताकि उनसे जुड़ी कोई संपत्ति लोग नहीं खरीदें। 

 


 

 

फॉर्म में देनी होगी पूरी जानकारी :
 

  • शहर के जिस हिस्से में संपत्ति खरीद रहे हैं, वहां की विस्तृत जानकारी के साथ निगम की सिंगल विंडो पर फॉर्म जमा करना होगा। 
  • फॉर्म पर नाम, पता और मोबाइल नंबर लिखना होगा। 
  • सात दिन में निगम की टीम पता करेगी कि संपत्ति वैध है या अवैध। आठवें दिन संबंधित को फोन पर या बुलाकर पूरी जानकारी दी जाएगी। 
     

संपत्ति के बारे में ये जान सकेंगे :
 

  •  प्लॉट, मकान-फ्लैट या दुकान का नक्शा पास है या नहींं? बिल्डर के पास सारी अनुमतियां हैं या नहीं? कॉलोनाइजर, बिल्डर के खिलाफ कोई शिकायत तो दर्ज नहीं है? 
  •  भविष्य में उस जगह सरकार की कोई योजना (सड़क या कोई अन्य प्रोजेक्ट) तो प्रस्तावित नहीं है? 
  •  प्रॉपर्टी ग्रीन बेल्ट या मास्टर प्लान के दायरे में तो नहीं आ रही? 
     

ए, सी व डी ब्लॉक पर कार्रवाई नहीं होगी :

तुलसीयाना रेसीडेंसी के बी ब्लॉक पर कार्रवाई कर पांच परिवारों को बेदखल करने के बाद अब निगम ने फैसला किया है कि बिल्डिंग के ए, सी और डी ब्लॉक पर कार्रवाई नहीं होगी। तीनों ब्लॉक में 150 से ज्यादा परिवार हैं। बी ब्लॉक के बचे हिस्से को निगम सोमवार से हथौड़े और गैस कटर से तोड़ेगा।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना