• Hindi News
  • Mp
  • Indore
  • Even though the figures are not helping the customers in the bank, some experts in physiotherapy and others are keeping accounts on the computer

भास्कर खास / आंखाें की राेशनी नहीं फिर भी बैंक में ग्राहकों की कर रहे हैं मदद, कोई फिजियोथैरेपी में माहिर तो कोई कम्प्यूटर पर रख रहा हिसाब

Even though the figures are not helping the customers in the bank, some experts in physiotherapy and others are keeping accounts on the computer
Even though the figures are not helping the customers in the bank, some experts in physiotherapy and others are keeping accounts on the computer
Even though the figures are not helping the customers in the bank, some experts in physiotherapy and others are keeping accounts on the computer
X
Even though the figures are not helping the customers in the bank, some experts in physiotherapy and others are keeping accounts on the computer
Even though the figures are not helping the customers in the bank, some experts in physiotherapy and others are keeping accounts on the computer
Even though the figures are not helping the customers in the bank, some experts in physiotherapy and others are keeping accounts on the computer

  • देवास की विभिन्न संस्थाओं में आम लोगों की तरह ही काम कर रहे हैं दृष्टिहीन

Dainik Bhaskar

Dec 03, 2019, 12:09 PM IST

जाहिद खान | देवास . आज विश्व दिव्यांग दिवस है। कहते हैं जिनमें ऊपर वाले ने कोई कमी रखी, उन्हें कोई न कोई विशेष गुण जरूर दिया। कुछ ऐसे ही उदाहरण शहर में भी हैं। ये दृष्टिहीन हैं लेकिन आम लोगों की तरह मेहनत कर अपनी रोटी-रोजी कमाते हैं। किसी की आंख में 19 साल पहले दर्द आया तो दिखना बंद हो गया। फिजियोथैरेपी कर लोगों के दर्द दूर कर रहे हैं। कोई बैंक में ग्राहक सहायक के पद पर कार्य करते हुए ग्राहकों की परेशानियों को सुनते ही उसका निराकरण कर देते हैं, तो कोई रेस्टोरेंट में बिलिंग का काम करते हैं। 

उपभोक्ताओं को बैंकिंग में आ रही परेशानी दूर करते हैं राजकुमार
लाल गेट चौराहे स्थित भारतीय स्टेट बैंक में ग्राहक सहायक के पद पर राजकुमार नागर निवासी खटाम्बा 7 साल से काम कर रहे हैं। ग्राहक दूर से ही उन्हें आवाज लगाते हैं राजकुमार भैया मेरा कार्ड काम नहीं कर रहा है, कैश डिपोजिट मशीन में पैसा डलवा देना। राजकुमार तत्काल उसका निराकरण करते हैं। उन्होंने बताया ब्रेल लिपि से कक्षा 1 से 10वीं तक स्पेशल स्कूल इंदौर से पढ़ाई की, 11 व 12वीं नंदानगर शासकीय स्कूल इंदौर, बीए आर्ट-एंड कॉमर्स कॉलेज इंदौर, केपी कॉलेज देवास से इतिहास में एमए किया और दिल्ली यूनिवर्सिटी से विशेष क्षेत्र में बीएड भी कर रखा है।

फिजियोथैरेपी सेंटर चला रहे महेंद्रसिंह पंजाबी ऑडियो सुन कम्प्यूटर चलाते हैं
मोतीबंगला क्षेत्र में महेंद्रसिंह पंजाबी 2009 से फिजियोथैरेपी सेंटर चला रहे हैं। मरीज थैरेपी के लिए आता है तो उसे पता भी नहीं चलता कि पंजाबी की आंखों से दिखता नहीं, वह इतनी सफाई से काम करते हैं कि लोगों के दर्द दूर हो रहे हैं। पंजाबी ने बताया वर्ष 2000 में टाइफाइड बिगड़ने से दोनों आंखों की रैटिना खराब हो गई थी, जिससे दिखना बंद हो गया। मैंने ऑडियाे टेक्नोलॉजी से फिजियोथैरेपी, तीन साल का एडवांस डिप्लोमा कोर्स अहमदाबाद से, कम्प्यूटर सीखा फिर गीता भवन ट्रस्ट हॉस्पिटल इंदौर में प्रैक्टिस करने के बाद देवास में काम शुरू किया।

रेस्टोरेंट में 8 दिव्यांग कर रहे काम, दिलीप बनाते हैं बिल
अपना रोस्टोरेंट पर 8 दिव्यांग करीब 4 साल से काम कर रहे हैं। इनमें से एक दिव्यांग दिलीप जायसवाल कम्प्यूटर पर बिलिंग का काम करते हैं। दिलीप ने बताया, होटल पर पार्टटाइम काम कर रहा हूं, मैंने बैंकिंग की परीक्षा दी है और तैयारी भी ब्रेल लिपि के माध्यम से कर रहा हूं। उम्मीद है कि इस बार मेरा चयन बैंक में किसी न किसी पद के लिए हो जाएगा। होटल में संजय सोलंकी, धर्मेंद्र सेंधव, सीताराम प्रजापत, महेश शिंदे, सुरेश शर्मा, मीथून सिसौदिया व  लक्ष्मी टांक सभी प्रकार के काम कर रहे हैं।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना