पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Former Lok Sabha Speaker Mahajan Said CAA Center Has Created And It Will Have To Accept The State, The Opposition Should Stop Provoking People

सुमित्रा महाजन ने कहा- सीएए केन्द्र ने बनाया है और उसे राज्य को मानना ही पड़ेगा, विपक्ष लोगों को भड़काना बंद करे

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सुमित्रा महाजन ने शुक्रवार को इंदौर में सीएए पर बयान दिया।
  • इंदौर में प्रदेश सरकार की वादाखिलाफी और अफसरों की मनमानी के विरोध में आयोजित भाजपा के प्रदर्शन में बोलीं महाजन
  • माकपा की पोलित ब्यूरो की सदस्य और पूर्व सांसद सुभाषिनी अली को कहा- भूली बिसरी नेता, संसद में इनकी पार्टी का नामोनिशान तक नहीं

इंदौर. पूर्व लोकसभा अध्यक्ष और भाजपा की पूर्व सांसद सुमित्रा महाजन ने शुक्रवार को कहा कि नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) केन्द्र ने बनाया है और इस कानून को राज्य को मानना ही पड़ेगा, विपक्ष लोगों को भड़काना बंद करे। महाजन ने माकपा की पोलित ब्यूरो की सदस्य और पूर्व सांसद सुभाषिनी अली को भूली बिसरी नेता बताते हुए कहा कि उनकी पार्टी का अब नामोनिशान तक नहीं हैं और वह इंदौर में जनता को भड़काने आ गईं।

प्रदेश सरकार की वादाखिलाफी और अफसरों की मनमानी के विरोध में शुक्रवार को कलेक्टर कार्यालय के बाहर आयोजित भाजपा के विरोध प्रदर्शन में सुमित्रा महाजन ने कहा कि सीएए के बारे में बहुत बातें हो रही है, इनको लगता है कि कानून के खिलाफ कार्रवाई हो गई है। पहली बात तो यह मैं आपको बताना चाहूंगी कि संविधान ने यह अधिकार दिया है कि केन्द्र को कौन सा कानून बनाना है और राज्य को कौन सा। उस अधिकार के तहत ही केन्द्र सरकार ने यह कानून बनाया है तो राज्य को यह अधिकार नहीं है कि वह इस कानून को मानने से इंकार कर सके।

भाजपा को जनता ने कानून बनाने का अधिकार दिया
महाजन ने कहा कि केन्द्र सरकार ने सीएए तब बनाया जब उसे दो तिहाई बहुमत प्राप्त है, जनता ने उन्हें यह कानून बनाने का अधिकार दिया है। यदि कल जनता ने तुम्हें (विपक्ष) भी दो तिहाई बहुमत देकर कानून बनाने का अधिकार दिया तो तुम उस कानून को निरस्त कर सकते हो। इस तरह विरोध प्रदर्शन से कानून को बदला नहीं जा सकता। भारत के संविधान में संसद, न्यायपालिका और कार्यपालिका सबके अधिकार तय है। यदि आपकों (विपक्ष) कुछ गलत लगता है तो आप सुप्रीम कोर्ट जाइये...और गए हैं तो कोर्ट के निर्णय का इंतजार करें। इस तरह से लोगों को भड़काएं नहीं।

जिनकी पार्टी का नामोनिशान तक नहीं वह भड़काने आ रहे हैं
महाजन ने माकपा की पोलित ब्यूरो की सदस्य और पूर्व सांसद सुभाषिनी अली पर निशाना साधते हुए कहा कि लोगों को भड़काने भूले बिसरे नेता आ रहे हैं। वो परसो आई थी सुभाषिनी जी, थी मेरे साथ संसद में..अब इनकी पार्टी का नामों निशान तक नहीं है लेकिन वह लोगों को भड़काने आ रहे है। 

गौरतलब है कि इंदौर में चल रहे सीएए के विरोध प्रदर्शन में 21 जनवरी को पूर्व सांसद सुभाषिणी अली भी शामिल हुई थी। इंदौर में सुभाषिणी ने केन्द्र सरकार पर जमकर निशाना साधते हुए कहा था कि हमारे संविधान को बदला जा रहा है, देश को बांटने की कोशिशें हो रही है। अब यह जनता की लड़ाई है जो आसानी से खत्म नहीं होगी। यह बुनियादी सवालों की लड़ाई है, पानी-बिजली की नहीं। प्रधानमंत्री मोदी विकास की बात नहीं करते हैं, गृहमंत्री शाह नौकरी के सवाल से बचते हैं। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ गरीबों की बात नहीं करते हैं।

पटवारी नए-नए मंत्री बने हैं, लेकिन सही और गलत को समझना होगा
महाजन ने मप्र के खेल मंत्री जीतू पटवारी पर भी निशाना साधते हुए कहा कि वे नए-नए मंत्री बने हैं लेकिन उनहें यह समझना होगा कि सही क्या है और गलत क्या। जिला योजना समिति में स्थानीय सांसद का स्थान उपाध्यक्ष का होता है और उन्हें कोई बैठक से बाहर नहीं निकाल सकता। गौरतलब है कि पिछले दिनों देवास जिला योजना समिति की बैठक में देवास के प्रभारी मंत्री जीतू पटवारी और देवास से भाजपा सांसद महेन्द्र सिंह सोलंकी के मध्य जमकर बहसबाजी हो गई थी। बहसबाजी के दौरान मंत्री पटवारी ने सांसद सोलंकी से कहा था कि मैं नियमों के तहत आपकों बैठक से बाहर कर सकता हूं। बाद में दोनों के मध्य हुई बहस का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था।