• Hindi News
  • Mp
  • Indore
  • Heavy rains in Mandsaur, Professor's wife and daughter got swept away in the drain

मप्र / मंदसौर में भारी बारिश, 3500 से ज्यादा लोग रेस्क्यू, सेल्फी लेते वक्त प्रोफेसर दंपती और बेटी पानी में बही



Heavy rains in Mandsaur, Professor's wife and daughter got swept away in the drain
Heavy rains in Mandsaur, Professor's wife and daughter got swept away in the drain
Heavy rains in Mandsaur, Professor's wife and daughter got swept away in the drain
Heavy rains in Mandsaur, Professor's wife and daughter got swept away in the drain
Heavy rains in Mandsaur, Professor's wife and daughter got swept away in the drain
Heavy rains in Mandsaur, Professor's wife and daughter got swept away in the drain
X
Heavy rains in Mandsaur, Professor's wife and daughter got swept away in the drain
Heavy rains in Mandsaur, Professor's wife and daughter got swept away in the drain
Heavy rains in Mandsaur, Professor's wife and daughter got swept away in the drain
Heavy rains in Mandsaur, Professor's wife and daughter got swept away in the drain
Heavy rains in Mandsaur, Professor's wife and daughter got swept away in the drain
Heavy rains in Mandsaur, Professor's wife and daughter got swept away in the drain

  • रातभर में 5 इंच से ज्यादा बारिश के बाद मंदसौर और मल्हारगढ़ के एक दर्जन गांव जलमग्न हुए
  • गांधी नगर और शिक्षक कॉलोनी को जोड़ने वाली पुलिया के धंसने से प्रो. की पत्नी की मौत, बेटी की तलाश जारी
  • मल्हारगढ़ में 800 और मंदसौर में 2500 से ज्यादा लोगों को राहत कैंपों में ठहराया गया

Dainik Bhaskar

Aug 14, 2019, 04:03 PM IST

मंदसौर. मंदसौर जिले में मंगलवार रात हुई भारी बारिश के बाद मंदसौर और मल्हारगढ़ तहसील के कई गांव डूब गए हैं। भारी बारिश के चलते चार लोग बह गए हैं, जबकि जलमग्न हुए गांव में फंसे 35 सौ से ज्यादा लोगों को एनडीआरएफ की टीम ने निकालकर राहत कैंपों में पहुंचाया है। वहीं सेल्फी ले रही प्रो. की पत्नी और बच्ची पुलिया धंसने से पानी में बह गए। पत्नी का शव मिल गया है, जबकि बच्ची की तलाश जारी है। पशुपतिनाथ मंदिर में भी कमर तक पानी भर गया है।

 

मंगलवार रात करीब साढ़े 11 बजे तेज बारिश शुरू हुई, जो सुबह करीब साढ़े 6 बजे तक चली। रात के पहर धीरे-धीरे बढ़ रहा था, लेकिन बारिश लगातार तेज हो रही थी। देर रात मंदसौर और मल्हारगढ़ तहसील में जैसे बादल फट गए हों। कुछ ही घंटों की बारिश के बाद एक दर्जन के करीब गांव जलमग्न हो गए और लोग पानी में डूबने लगे। तेज बारिश के बाद प्रशासन और एनडीआरएफ की टीम लोगों को राहत शिविर में पहुंचाने लगी। सुबह तक 35 सौ से ज्यादा लोगों को सुरक्षित बचा लिया गया।

 

ी

 

सेल्फी लेते समय पुलिया धंसी, प्रो. का परिवार बहा
मिली जानकारी अनुसार तेज बारिश के बाद कर्मचारी कॉलोनी के समीप पुलिया उफान पर थी। उफनी पुलिया देखने प्रो. आरडी गुप्ता पत्नी पत्नी बिंदु के साथ सुबह गए थे। इसके बाद वे वापस घर आए तो बेटी आश्रुति ने भी उफनी पुलिया को देखने की जिद की। इसके बाद तीनों फिर से पुलिया पर पहुंचे और सेल्फी लेने लगे। इसी दौरान पुलिस तेज आवाज करती हुई धंस गई और बेटी पानी में बहने लगी, इस पर बेटी को पकड़ने मां आगे बढ़ीं तो वे भी बहने लगीं। उन्हें पकड़ने प्राे. गुप्ता बढ़े, लेकिन उन्हें लोगों ने बचा लिया।लेकिन बेटी ओर पत्नी दोनों तेज बहाव में बह गईं। बचाव दल ने मेघदूत नगर के पास नाले से उनकी पत्नी को बाहर निकाला गया। हॉस्पिटल ले जाते वक्त उनकी मृत्यु हो गई। लेकिन बेटी का पता नहीं चल पाया। यह पुलिया गांधी नगर और शिक्षक कॉलोनी को जोड़ती है।

 

उफने नाले में सेल्फी लेते प्रोफेसर गुप्ता।

 

रातभर में 5 इंच से ज्यादा बारिश से गांव बादरी, काचरिया चंद्रावत, गुजरदा, बाजखेड़ी, जूना हेडा, हेदरवास जलमग्न जलमग्न हो गए हैं। वहीं शिवना नदी के उफान पर आने से पशुपति नाथ मंदिर में भी चार से पांच फीट पानी घुस गया है। अमलावद गांव स्थित पुलिस में एक युवक उफान में बह गया, जिसकी तलाश की जा रही है।

 

पशुपतिनाथ का शिवना ने किया जलाभिषेक, स्कूलों की छुट्‌टी
रातभर हुई तेज बारिश के बाद शिवना नदी का जल स्तर अचानक बढ़ गया और इसका पानी पशुपतिनाथ मंदिर के गर्भगृह तक जा पहुंचा, जहां शिवना ने भोलेनाथ का जलाभिषेक किया। इस सीजन में यह दूसरी बार है जब पानी गर्भगृह तक पहुंचा है। तेज बारिश के बाद कलेक्टर मनोज पुष्प ने मंदसौर जिले के मल्हारगढ़ और मंदसौर तहसील के स्कूलों की बुधवार को छुट्‌टी घोषित कर दी। 

 

ह

 

उफने नाले को पार करते समय बहा युवक
तेज बारिश के बाद विधायक यशपालसिंह सिसोदिया के निवास पर भी पानी घुसा। तो गीताभवन अंडर ब्रिज में भी कमर तक पानी जमा हो गया। ग्राम थडोद नई आबादी क्षेत्र में लोग छतों पर चढ़कर पानी से बचे। ग्राम बादरी में चार भैंसों की मौत हो गई, जबकि पांच मकान गिर गए। नाहरगढ़ के भूखी गांव, लुनाहेड़ा, बैलारा और देवरी के बीच का तालाब टूट गया है, जिसमें बापूलाल धाकड़ निवासी बड़वन के नाले में बहने की खबर है।

 

र

 

मल्हारगढ़ में करीब 800 कैंप में ठहरे 
मल्हारगढ़ क्षेत्र बादरी, काचरिया चन्द्रावत, बही और लूनाहैड़ा के ग्रामीणाें काे एनडीअारएफ की टीम ने रेस्क्यू कर बाहर निकाला और राहत शिविर कैंप में पहुंचाया। स्कूल और सरकारी भवनों में लगाए गए राहत शिविरों में 700 से 800 लोगों को ठहराया गया है। इनके लिए पकड़े, खाने की सामग्री सहित अन्य सुविधाएं उपलब्ध करवाई गई है। वहीं काचरिया चंद्रावत में डेढ़ दर्जन लोगों को पानी से बाहर निकाला गया।

 

मंदसारै में करीब 2500 से ज्यादा को राहत शिविर में भेजा
भारी बारिश के बाद डूब प्रभावितों के लिए 3 राहत शिविर कैंप लगाए गए हैं, जिनमें 2500 से ज्यादा लोगों को ठहराकर उनके लिए मूलभूत सुविधाओं का इंतजाम किया गया है। मंदसौर में पशुपतिनाथ मंदिर परिसर, धोबी समाज धर्मशाला और यश नगर में  राहत शिविर लगाए गए हैं। अब तक चार लोगों के बहने की सूचना मिली है, जिसमें से एक को बचा लिया गया, वहीं दो लापता और एक की लाश मिली है।

 

ी

 

 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना