राजेश हत्याकांड / हत्या के बाद शव को जलाकर खाई में फेंका था, मृतक की पत्नी ने कहा था उसे मार दो हम शादी कर लेंगे



Indore mp news Rajesh murder case: Crime Branch unveils
X
Indore mp news Rajesh murder case: Crime Branch unveils

  • क्राइम ब्रांच ने किया राजेश हत्याकांड का खुलासा, तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया
  • चंदननगर से गुम हुए राजेश परिहार की गोली मारकर की गई थी हत्या
  • हादसा दिखाने के लिए लाश को कार में जलाने के बाद खाई में फेंका था
  • पुलिस ने आरोपियों से पिस्टल और खाली कारतूस सहित घटना में उपयोग वाहन जब्त किया
  • मृतक को धन वर्षा का लालच देकर अमावस्या की रात में जंगल में ले जाकर की थी हत्या
  • मृतक की पत्नी के साथ चंदननगर थाने में गुमशुदगी दर्ज कराने साथ गए थे आरोपी

Dainik Bhaskar

Mar 16, 2019, 04:39 PM IST

इंदौर. क्राइम ब्रांच और खुड़ैल पुलिस ने राजेश परिहार हत्याकांड का शनिवार को खुलासा कर दिया। मृतक की पत्नी से शादी और उसकी प्रॉपर्टी के लालच में आरोपी ने अपने सगे और मौसेर भाई के साथ मिलकर युवक की गोली मारकर हत्या कर दी थी। हत्या के बाद शव को ड्राइवर सीट पर रखने के बाद जलाकर खाई में कार सहित फेंक दिया था। पुलिस ने मामले में तीनों आरोपियों और पिस्टल जब्त कर ली है।

 

 

एसपी पश्चिम सूरज वर्मा ने बताया कि फरवरी 2019 में देवास के उदयनगर थाना क्षेत्र स्थित खाई में कार में एक जली हुई मिली थी। पुलिस ने अवशेषों का पोस्टमार्टम करवाते हुए केस की डायरी थाना खुडै़ल को भेज दी। खुडै़ल पुलिस जांच शुरू की तो पता चला कि हडि्डयां किसी पुरुष की हैं। इसके बाद मामले में क्राइम ब्रांच को पता चला कि 4 फरवरी को राजेश परिहार पिता बद्रीलाल परिहार निवासी स्कीम - 71 इंदौर लापता है, जिसकी गुमशुदगी चंदननगर थाने में दर्ज है।

 

पुलिस हत्या कांड के बारे में जानकारी देती हुई।

आरोपी कर रहा था पुलिस को गुमराह : राजेश को उक्त कार में बैठकर दो-तीन लोगों के साथ जाते हुए एक व्यक्ति ने देखा था। सूचना के बाद खुडै़ल पुलिस और क्राइम ब्रांच ने पड़ताल की तो उक्त कार प्रेम पिता भुजराम प्रजापत निवासी ऋषि नगर हवा बांगला इंदौर की होना पता चली। इस आधार पर संदेही प्रेम से पूछताछ की गई तो उसने पुलिस को गुमराह करते हुए बताया कि कार उसके नाम से ही पंजीकृत है, लेकिन चंदननगर में गुमशुदा राजेश परिहार से उसकी कोई जान पहचान नहीं है।

 

हत्या के बाद खाई में फेंका था शव : सख्ती दिखाने पर उसने बताया कि उसके भाई अज्जू उर्फ अशोक प्रजापत पिता भुजराम प्रजापत निवासी ऋषि नगर हवा बांगला और मौसेरे भाई गज्जू उर्फ गणेश उर्फ गजानन पिता लखन प्रजापत निवासी प्रजापत नगर इंदौर के साथ मिलकर 4 फरवरी की रात को राजेश परिहार की गोली मारकर हत्या कर उसके शव और कार को पेट्रोल डालकर जलाने के बाद खुडै़ल के पास 250 फीट गहरी खाई में फेंक दिया था।

 

मृतक की पत्नी और आरोपी के थे संबंध : आरोपी प्रेम ने बताया कि वह प्रोपर्टी ब्रोकर और कन्सट्रक्शन का काम करता है। राजेश से उसकी मुलाकात करीब 4 साल पहले हुई थी। राजेश का घर उसके दोस्त योगेश के घर के पास ही था, इसलिए उसका आना-जाना लगा रहता था। जान-पहचान बढ़ी तो प्रेम की मृतक राजेश की पत्नि से बातचीत शुरू हो गई। बाद में इनके बीच संबंध बन गए। राजेश ने कई लोगों से उधार रुपए ले रखे थे। रुपए चुकाने के लिए वह अपना स्कीम नं 71 स्थित घर बेचना चाहता था, लेकिन राजेश की पत्नि घर बेचने से मना कर रही थी।

 

आरोपियों में दो सगे भाई जबकि एक मौसी का लड़का है।


हत्या हादसा लगे, इसलिए खाई में शव फेंका : राजेश की पत्नि ने प्रेम को बताया की राजेश जो घर बेचना चाहता है, उस पर भी बैंक लोन है। लोन माफ होने की एक ही शर्त है, जब राजेश की मौत एक्सीडेंटल हो। यह सुन आरोपी प्रेम ने राजेश की मौत की प्लानिंग शुरू कर दी। पत्नी ने प्रेम से कहा कि वह राजेश की हत्या कर दे तो वह उससे शादी कर लेगी और मकान पर उसका कब्जा हो जाएगा। प्रेम तलाकशुदा है, इसलिए उसने सोचा की पत्नी के साथ उसे सारी संपत्ति भी मिल जाएगी।

 

धनवर्षा का लालच देकर जंगल में ले गए : आरोपी ने अपने भाई अशोक और मोसेरे भाई गजानंद के साथ मिलकर राजेश की हत्या का षडयंत्र रचा। उसने मौसेरे भाई गजानंद को यह पता करने के लिए कहा कि किन परिस्थितियों में मकान का लोन माफ होगा। इस पर गज्जू ने मौत को हादसा दिखाने की सलाह दी। इन्होंने राजेश पर नजर रखी तो पता चला कि वह कर्ज चुकाने के लिए जादू टाेने का भी सहारा ले रहा है। इसी का फायदा उठाकर वे उसे अमावस्या की रात जंगल में यज्ञ कर धनवर्षा का लालच देकर साथ ले गए।

 

8 दिन पहले कर ली थी हत्या की प्लानिंग : 8 दिन पहले हत्या की प्लानिंग करने वाले प्रेम ने आरोपी गज्जू और अज्जू से कहा कि तुम दोनों राजेश को लेकर मुहाड़ा घाट के पास मिलो, जबकि वह वहां अपनी बाइक से पहुंचा। इस दौरान रास्ते में दोनों से राजेश को शराब भी पिलाई। मुहाड़ा घाट पर आरोपी प्रेम भी कार में बैठ गया और थाेड़ा आगे जाकर बाथरूम के बहाने कार को रुकवाया। इसी दौरान कार में पीछे बैठे आरोपी अज्जू ने राजेश के सिर में देशी पिस्टल से दो गोलियां मार दी, जिससे राजेश की मौके पर ही मौत हो गई।

 

हत्या के बाद पेट्रोल डाल शव को जलाया था : हत्या को हादसा दिखाने के लिए इन्होंने ड्राइवर सीट पर शव रख पेट्रोल छिड़ककर आग लगा दी और कार को खाई में धकेल दिया। इसके बाद तीनों वहां से भागकर देवास चले गए और अगले दिन वापस इंदौर लौट आए। पुलिस ने बताया कि वारदात के समय इन्होंने मोबाइल फोन का उपयोग नहीं किया। हत्या करने के बाद देवास पहुंचे के बाद इन्होंने अपना मोबाइल चालू किया। इंदौर लौटने के बाद ये मृतक की पत्नी के साथ गुमशुदगी दर्ज करवाने चंदननगर थाने भी पहुंचे थे। पुलिस ने आरोपी प्रेम के कब्जे से पिस्टल से चली गोली के खाली कारतूस भी जब्त किए हैं। आरोपी प्रेम पर धोखाधड़ी, घर में घुसकर मारपीट का केस भी दर्ज है।

 

प्राॅपर्टी के लालच में दिया साथ : पूछताछ में आरोपी अशोक ने बताया कि वह निजी बस में ड्राइवर है। प्रेम ने उसे लालच दिया था कि राजेश को मारने के बाद जब वह उसकी पत्नी से शादी कर लेगा तब राजेश का मकान आरोपी अज्जू के नाम कर देगा। पुलिस ने राजेश की हत्या में उपयोग की गई पिस्टल आरोपी के कब्जे बरामद की है। आरोपी पर मारपीट, झगड़ा आदि के चार केस दर्ज हैं।

 

आरोपी गजानंद बताया कि वह फाइनेंस का काम करता है। प्रेम ने उसे लालच दिया था कि अगर वह राजेश की हत्या करने में उसकी मदद करेगा तो उसे प्रॉपर्टी में हिस्सा मिलेगा। आरोपी गज्जू की एक माह बाद शादी होने वाली थी, उसे पैसों की जरूरत थी। वहीं बड़वानी के अंजड का रहने वाला राजेश 15 सालों से अपनी अन्नपूर्णा और दो बच्चों के साथ इंदौर में रह रहा था। वह यहां चाय की दुकान चलाता था।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना