मजदूरी करते कंपनी बनाने का सपना देखा, मकान गिरवी रख लोन लिया, महिला उद्योगपति की आज अपनी फैक्टरी, सालाना टर्नओवर 4 से 5 करोड़ / मजदूरी करते कंपनी बनाने का सपना देखा, मकान गिरवी रख लोन लिया, महिला उद्योगपति की आज अपनी फैक्टरी, सालाना टर्नओवर 4 से 5 करोड़

Bhaskar News

Jan 14, 2019, 09:09 AM IST

इंदौर न्यज: महेंद्र सिंह धोनी हैं इनकी कंपनी के ब्रांड एंबेसडर

Indore News Success  story is Lakshmi Modya

इंदौर। घर का खर्च चलाने के लिए और मजदूर पति का हाथ बंटाने के लिए उन्होंने भी 1984 में पैकेजिंग कंपनी में मजदूरी शुरू कर दी। 16 साल तक काम करते हुए सपना देखा कि खुद की भी पैकेजिंग इंडस्ट्री खोली जाए। साल 2001 में अपना मकान गिरवी रखकर बैंक से लोन लिया और एक छोटे कमरे को किराए पर लेकर वहां पैकेजिंग इंडस्ट्री शुरू की। आज छोटी-छोटी दो यूनिट खोलकर वे महिला उद्योगपति बन चुकी हैं और खुद 40 लोगों को रोजगार दे रही हैं।

आज उनका सालाना टर्नओवर 4 से 5 करोड़ है


यह कहानी है लक्ष्मी मोदिया की। आज उनकी कंपनी का सालाना टर्नओवर चार से पांच करोड़ रुपए है। उन्हें रविवार रात को एसोसिएशन ऑफ इंडस्ट्री मप्र (एआईएमपी) द्वारा अपने सालाना सम्मान समारोह में सम्मानित किया गया। मोदिया ने कहा- वह मुश्किल समय था, जब घर भी देखना था, बच्चों को भी पढ़ाना था, लेकिन सभी के सहयोग से यह हो गया। पति मोहन और बड़े बेटे गणेश भी साथ में काम संभालते हैं।

15 लोगों के साथ शुरू किया था काम, आज उनके साथ 600 लोग काम करते हैं

कार्यक्रम में उद्योगपति प्रकाश अग्रवाल को भी सम्मानित किया गया। उनका अगरबत्ती बनाने का काम है और उनकी कंपनी के लिए क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी भी ब्रांड एंबेसडर हैं। वह अपने क्षेत्र में नई तकनीक का उपयोग करने के लिए जाने जाते हैं। पीथमपुर में स्थापित कई बड़ी ऑटो कंपनी के लिए पार्ट्स बनाने वाले उद्योगपति नरसिंग धनोतिया, फार्मा उद्योग के लिए डिजाइन बनाने वाले प्रदीप जैन, इलेक्ट्रॉनिक इंस्ट्रूमेंट बनाने वाले व अपने उत्पादों का पेटेंट कराने वाले उद्योगपति अनिरुद्ध केला के साथ ही 24 साल पहले केवल 15 लोगों के साथ काम शुरू करने वाले उद्योगपति दिलीप देव को भी सम्मानित किया गया। देव की यूनिट में आज 600 लोग काम करते हैं और उन्हें छह नेशनल अवॉर्ड मिल चुके हैं।

एक फोटोकॉपी मशीन से शुरू किया था अपना कॅरियर


आईटी सेक्टर में काम करने वाले युवा नरेंद्र सेन को भी सम्मानित किया गया। उन्होंने अपना कॅरियर एक फोटोकॉपी मशीन से शुरू किया था। बाद में आईटी की एक कंपनी स्थापित कर ली, जिसका दफ्तर क्रिस्टल आईटी पार्क में है। महिला उद्यमी नूपुर सिंह को भी सम्मानित किया। वे सेवानिवृत्त कुशल सेवा कर्मियों का डाटा बैंक बनाती हैं, फिर जिस कंपनी को जरूरत होती है, उन्हें वहां काम दिलाती हैं। सभी उद्योगपतियों को स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट ने सम्मानित किया। उन्होंने कहा काम करने वालों के लिए केवल एक अवसर की जरूरत होती है। सभी ने खुद ही अपने अवसर तलाशे हैं। हमारी सरकार की कोशिश होगी कि सभी उद्योगों की मदद कर सकें। कार्यक्रम में एआईएमपी के अध्यक्ष आलोक दवे, सचिव योगेश मेहता उपस्थित थे।

X
Indore News Success  story is Lakshmi Modya
COMMENT