• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Kashi Mahakal Express welcomed by singing bhajan at railway station, reserved a seat for Lord Shiva in the train

इंदौर / रेलवे स्टेशन पर भजन गाकर किया काशी महाकाल एक्सप्रेस का स्वागत, ट्रेन में भगवान शिव के लिए एक सीट आरक्षित

ट्रेन के काेच बी5 में सीट नंबर 64 काे बाबा महाकाल के लिए आरक्षित रखा गया है। ट्रेन के काेच बी5 में सीट नंबर 64 काे बाबा महाकाल के लिए आरक्षित रखा गया है।
काशी महाकाल एक्सप्रेस सोमवार सुबह इंदौर पहुंची।
इंदौर रेलवे स्टेशन पर इस ट्रेन का स्वागत भजन गाकर किया गया। इंदौर रेलवे स्टेशन पर इस ट्रेन का स्वागत भजन गाकर किया गया।
ट्रेन लखनऊ, कानपुर, बीना, भाेपाल, उज्जैन होते हुए इंदौर तक पहुंची। ट्रेन लखनऊ, कानपुर, बीना, भाेपाल, उज्जैन होते हुए इंदौर तक पहुंची।
X
ट्रेन के काेच बी5 में सीट नंबर 64 काे बाबा महाकाल के लिए आरक्षित रखा गया है।ट्रेन के काेच बी5 में सीट नंबर 64 काे बाबा महाकाल के लिए आरक्षित रखा गया है।
इंदौर रेलवे स्टेशन पर इस ट्रेन का स्वागत भजन गाकर किया गया।इंदौर रेलवे स्टेशन पर इस ट्रेन का स्वागत भजन गाकर किया गया।
ट्रेन लखनऊ, कानपुर, बीना, भाेपाल, उज्जैन होते हुए इंदौर तक पहुंची।ट्रेन लखनऊ, कानपुर, बीना, भाेपाल, उज्जैन होते हुए इंदौर तक पहुंची।

  • ट्रेन वाराणसी से इंदौर के बीच सप्ताह में 3 दिन चलेगी
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र माेदी ने रविवार काे वाराणसी से किया था रवाना

दैनिक भास्कर

Feb 17, 2020, 03:52 PM IST

इंदौर. रविवार को वाराणसी से रवाना हुई काशी महाकाल एक्सप्रेस सोमवार सुबह इंदौर पहुंची। इंदौर रेलवे स्टेशन पर इस ट्रेन का स्वागत भजन गाकर किया गया। इस ट्रेन में भगवान शिव के लिए एक सीट आरक्षित है। उत्तर प्रदेश के काशी और मध्य प्रदेश के उज्जैन, ओंकारेश्वर ज्याेतिर्लिंग तीर्थस्थलाें काे जाेड़ने वाली आईआरसीटीसी की निजी ट्रेन काशी-महाकाल एक्सप्रेस सोमवार सुबह इंदौर रेलवे स्टेशन पर पहुंची।

ट्रेन के काेच बी5 में सीट नंबर 64 काे बाबा महाकाल के लिए आरक्षित रखा गया है। लाेगाें काे इसकी जानकारी रहे, इसके लिए सीट पर मंदिर बनाया है। ऐसा पहली बार है, जब किसी भगवान के लिए सीट आरक्षित की गई है। ट्रेन में भक्ति संगीत, हर कोच में दो निजी गार्ड और केवल शाकाहारी भोजन मिलेगा। ट्रेन के इंदौर पहुंचने पर भक्तों ने भजन गाकर स्वागत किया। वहीं, मामले पर आईआरसीटीसी ने सफाई देते हुए कहा कि मंदिर की स्थापना कर्मचारियों ने अस्थायी रूप से की थी, ताकि नई परियोजना की सफलता के लिए पूजा की जा सके। 20 मार्च को जब यह यात्रियों के साथ दौड़ेगी तो इस प्रकार की कोई आरक्षित बर्थ नहीं होगी।

ट्रेन में 1018 सीटें, किराया 1629 रुपए
यह ट्रेन लखनऊ, कानपुर, बीना, भाेपाल, उज्जैन होते हुए इंदौर तक पहुंची। इस ट्रेन के हर कोच में 5 सुरक्षाकर्मी तैनात हैं। ट्रेन मेंं कुल 1080 सीटें है। न्यूनतम किराया 1629 रु. होगा। यह ट्रेन आम जनता के लिए 20 फरवरी से शुरू होगी।

दो रूट पर सप्ताह में 3 दिन चलेगी
यह ट्रेन सप्ताह में 3 दिन चलेगी। इसके 2 रूट रहेंगे। सुल्तानपुर-लखनऊ रूट पर सप्ताह में 2 दिन और प्रयागराज रूट पर सप्ताह में एक दिन चलेगी।


प्रयागराज रूट

  • हर रविवार दोपहर 3.15 बजे वाराणसी से चलेगी और सोमवार को सुबह 9.40 बजे इंदौर पहुंचेगी।
  • इंदौर से सोमवार सुबह 10.55 बजे चलेगी और मंगलवार को सुबह 5 बजे वाराणसी पहुंचेगी।

यहां-यहां रूकेगी: उज्जैन, संत हिरदाराम नगर (बैरागढ़, भोपाल), बीना, झांसी, कानपुर, इलाहाबाद।


सुल्तानपुर-लखनऊ रूट

  • वाराणसी-इंदौर काशी महाकाल एक्सप्रेस हर मंगलवार और गुरुवार को दोपहर 2.45 बजे वाराणसी से चलेगी और क्रमश: बुधवार और शुक्रवार को सुबह 9.40 बजे इंदौर पहुंचेगी।
  • बुधवार और शुक्रवार को यह इंदौर से सुबह 10.55 बजे चलेगी और क्रमश: गुरुवार और शनिवार को सुबह 6 बजे वाराणसी पहुंचेगी।

यहां-यहां रूकेगी: आने और जाने के दौरान उज्जैन, संत हिरदाराम नगर (बैरागढ़, भोपाल), बीना, झांसी, कानपुर और सुल्तानपुर।

ट्रेन में यह सुविधा होगी

  • ट्रेन में इंदौर का पोहा, काशी की कचौरी, पूड़ी-भाजी और भोपाल के आलूबड़े का स्वाद यात्री ले सकेंगे।
  • ट्रेन में 120 दिन की एडवांस बुकिंग करवाई जा सकेगी।
  • चार्ट तैयार होने के बाद व ट्रेन के चलने से 5 मीनट पहले भी स्टेशन पर आरक्षण केन्द्र से सीट बुक हो सकेगी।
  • यात्री का 10 लाख रुपए का बीमा होगा
  • नेत्रहीन यात्रियों के लिए ब्रेललिपि में सीट नंबर रहेगा। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना