--Advertisement--

मरने के 4 साल बाद भी सामने नहीं आ सकी इस महिला की मौत की वजह, सहेलियों ने पति पर लगाया था आरोप, सुसाइड नोट में एक कागज के टुकड़े पर लिखीं थी 4 लाइनें

Dainik Bhaskar

Jan 14, 2019, 01:18 PM IST

बेटी ने कहा था- उस दिन मां का व्यवहार बदला सा था, मुझे बड़े लाड़ से स्कूल भेजा था, लौटी तो खुद को गोली मार ली

Komal Gupta death after 4 years and 40 days

इंदौर सांघी कॉलोनी में रहने वाली 39 वर्षीय कोमल गुप्ता द्वारा खुद को गोली मारने की वजह चार साल 40 दिन में भी सामने नहीं आ सकी। बताते हैं कि मूल रूप से गुजरात की रहने वाली कोमल हाई प्रोफाइल परिवार से थीं। पति मनोज गुप्ता का रेलवे ट्रांसपोर्ट और कार्गो का बड़ा कारोबार है। पुलिस ने जांच की थी तो ये आरोप सामने आए थे कि कोमल को पति प्रताड़ित करते थे। हालांकि पति को लेकर एमआईजी थाना पुलिस ने न कभी गंभीरता से पूछताछ की न सख्ती दिखाई। कोमल का एक सुसाइड नोट पति ने पुलिस को दिया था। इसमें कोमल ने मर्जी से जान देने की बात कही थी।


कोमल की सहेलियों ने तत्कालीन एएसपी सिमाला प्रसाद को मौखिक बयान दिया था कि कोमल उनके पति से प्रताड़ित थीं। सहेलियों ने पति के चरित्र को लेकर भी कई तरह के आरोप लगाए थे, लेकिन पुलिस को ऐसा कोई सबूत नहीं मिल पाया। कई लोगों ने पुलिस पर भी सांठगांठ कर ठीक से जांच नहीं करने के आरोप लगाए थे। इधर, पति मनोज खुद पर लगे आरोपों को कई बार नकार चुके हैं। उन्होंने घर में किसी भी तरह के तनाव या विवाद की बात नहीं कही थी। कोमल के पिता ने भी दामाद पर शंका नहीं जताई और आरोप भी नहीं लगाए थे। इसके बाद पुलिस ने पति को शंका के दायरे से बाहर कर दिया था।


बेटी ने कहा था- उस दिन मां का व्यवहार बदला सा था


कोमल ने 5 दिसंबर 2014 को घर में खुद को गोली मार ली थी। तब पति जिम और बच्चे स्कूल चले गए थे। बेटी ने पुलिस को बयान दिया था कि उस दिन मां का व्यवहार बदला सा था। उन्होंने सुबह उठकर मुझे अच्छे से तैयार किया। खुद की बालियां मुझे पहनाई थीं। गाल और सिर पर कई बार हाथ फेरकर बड़े लाड़ से स्कूल भेजा था। जब मैं लौटी तो पता चला कि मां ने खुद को गोली मार ली। कुछ दिन तक बच्चे भी सदमे में रहे थे।

एक कागज के टुकड़े पर ये चार लाइनें ही लिखी थीं...

कोमल का एक सुसाइड नोट पति ने ही पुलिस को उपलब्ध करवाया था। एक कागज के टुकड़े पर ये चार लाइनें ही लिखी थीं- 'मैं मेरी मर्जी से जान दे रही हूं। इसमें किसी का दोष नहीं है। मैं जीना नहीं चाहती। प्लीज, मेरे ससुराल वाले या पति और कोई रिश्तेदार या दोस्तों से पूछताछ नहीं की जाए। - कोमल' इस सुसाइड नोट को सहेलियों ने संदेहास्पद बताते हुए कहा था कि वह ज्यादातर गुजराती में लिखती थीं। हालांकि इसकी भी गंभीरता से पड़ताल नहीं हो सकी। सिर्फ हैंड राइटिंग मिलाकर पुलिस ने कोमल द्वारा ही इसे लिखा होना बताया था।

X
Komal Gupta death after 4 years and 40 days
Astrology

Recommended

Click to listen..