Hindi News »Madhya Pradesh »Indore »News» केबल लगाने में ठीक से नहीं लगाए पोल, झुकने लगे

केबल लगाने में ठीक से नहीं लगाए पोल, झुकने लगे

नगर में विद्युत वितरण कंपनी द्वारा केबलीकरण का कार्य जारी है। शासन की आईपीडीएस योजना के तहत होने वाले कार्य की...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 12, 2018, 02:10 AM IST

केबल लगाने में ठीक से नहीं लगाए पोल, झुकने लगे
नगर में विद्युत वितरण कंपनी द्वारा केबलीकरण का कार्य जारी है। शासन की आईपीडीएस योजना के तहत होने वाले कार्य की लागत लगभग 1 करोड़ रुपए है। लेकिन ठेकेदार के कार्य के तरीके और लापरवाही से आमजन त्रस्त है।

अभी ठेकेदार ने कार्य पूर्ण भी नहीं किया है और बिजली के पोल झुकने लगे हैं। जबकि नगर में 1960 के दशक में बिजली आई थी। तब से लगे पोल अभी भी तारों का बोझ सह रहे हैं। नगर के वार्ड 11-12 में स्थित श्रीमुकुंदजी महाराज मंदिर के पीछे लगा पोल अभी से झुक रहा है। जिसे सपोर्ट के लिए पीपल के वृक्ष पर रस्सी से बांध रखा है। साथ ही नगर में स्थित कई पोल हिल रहे हैं। रहवासी मुकेश बम, श्रीराम पाटीदार, कमलेश खारड़िया व जितेंद्र तंवर ने बताया कि पोल लगाते समय भर्ती ठीक से नहीं की गई। लापरवाही बरतते हुए मिट्टी डाली गई। इसलिए पोल मजबूत नहीं है और केबल के बोझ से हिलते हैं।

रोज होती है 4 घंटे बिजली कटौती : काम के चलते रोज 4 घंटे की बिजली कटौती हो रही है। कई बार तो शाम के सत्र में भी दोपहर 3 से शाम 6 बजे तक 3 घंटे की बिजली कटौती होती है। जिस कारण भीषण गर्मी के दौर में आमजन व बच्चों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है।

जलापूर्ति में अवरोध

झुका हुआ नया बिजली पोल।

परेशानी है तो दुरुस्त करेंगे

इन दिनों जल संकट के चलते पुरानी नल जल योजना में वार्ड 11 में स्थित हाथीकुएं में टैंकर से पानी डालकर उसे टंकी में चढ़ाया जाता है और फिर जलप्रदाय होता है। सुबह व शाम को बिजली कटौती होती है। साथ ही कई बार 1 फेस नहीं रहता। जिस कारण पानी आदमी से चढ़ाया नहीं जा पा रहा है। सोमवार को हुई जलापूर्ति में केवल 8 मिनट ही नल चल सके।

पानी की मोटर और पंखे जले : विगत दिनों वार्ड 13 में केबल का काम चल रहा था। ठेकेदार के कर्मचारियों ने कनेक्शन में गड़बड़ की जिस कारण सुनील शर्मा की पानी की मोटर, छात्रपालसिंह जोधा के घर के दो पंखे और संतोष दाधीच के कूलर की मोटर जल गई।

केबलीकरण का काम जारी है। यदि कहीं पर कोई परेशानी है तो उसे दुरुस्त करवाया जाएगा। बारिश से पहले काम खत्म हो जाए। इसलिए केबल डालते समय कटौती की जाती है। - डीके छिपा, कार्यपालन यंत्री विद्युत वितरण कंपनी बागली

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×