--Advertisement--

सूदखोरों ने मुंह काला करने की दी धौंस, व्यापारी ने लगा ली फांसी

सूदखोरों से परेशान होकर दो महीने पहले खजराना मंदिर परिसर में जहर खाकर आत्महत्या की कोशिश करने वाले सियागंज के 69...

Dainik Bhaskar

Jun 11, 2018, 02:45 AM IST
सूदखोरों से परेशान होकर दो महीने पहले खजराना मंदिर परिसर में जहर खाकर आत्महत्या की कोशिश करने वाले सियागंज के 69 वर्षीय व्यापारी ने रविवार सुबह अनूप नगर स्थित अपने घर में फांसी लगा ली। 6 दिन पहले रुपए वसूलने के लिए चार सूदखोर व्यापारी गुंडे लेकर उनके घर में घुस गए थे। चारों व्यापारियों ने प|ी और बेटी के सामने व्यापारी को मुंह काला करने और जुलूस निकालने की धमकी दी थी। इससे वे परेशान थे। इस घटना के बाद एमआईजी पुलिस ने चार लोगों के खिलाफ केस भी दर्ज किया था।

एमआईजी पुलिस के मुताबिक खुदकुशी करने वाले व्यापारी जुगल किशोर पाहवा ने खिड़की पर कपड़े से फंदा बनाया और उस पर लटक गए। जिस समय उन्होंने यह कदम उठाया, घर में प|ी उषा पाहवा नीचे काम कर रही थीं। काफी देर तक जब वह नीचे नहीं आए तो उनका साला उन्हें देखने ऊपर पहुंचा। पाहवा फांसी के फंदे पर लटके मिले। एमआईजी पुलिस ने एमवाय अस्पताल में उनका पोस्टमॉर्टम कराया। परिजन के मुताबिक सोमवार को उनका अंतिम संस्कार होगा।

सिर्फ वो ही नकारात्मक खबर, जो अापको जानना जरूरी है।

सियागंज के व्यापारियों से 11 करोड़ लिए थे उधार, 30% ब्याज से वसूली

व्यापारी जुगल किशोर पाहवा के दामाद सुधीर ने बताया कि परिवार में उनकी दो बेटियां ऋषिका अरोरा और मोनिका बहल हैं। जुगल किशोर की सियागंज में किराने की थोक व्यापार की दुकान है। कुछ वर्षों पूर्व व्यापार में आए उतार-चढ़ाव में उन्होंने कुछ व्यापारियों से 11 करोड़ रुपए ब्याज पर उधार लिए थे। उसी के बाद से कई बड़े व्यापारी 20 से 30 प्रतिशत ब्याज जोड़कर उनसे वसूली कर रहे थे। पैसा चुकाने के लिए उन्हें लगातार धमका रहे थे। 8 अप्रैल को व्यापारियों की वसूली की धमकियों से तंग आकर उन्होंने खजराना मंदिर परिसर में जहर खा लिया था। उनकी जेब से पत्र भी मिला था, जिसके आधार पर पुलिस ने मोतीराम सिंघानी, हीरानंद नासा, अनिल भमोरी और गौरव गर्ग के खिलाफ केस दर्ज किया था। दामाद ने आरोप लगाया कि 4 जून को सियागंज के व्यापारी पुरुषोत्तम अग्रवाल, सुरेश गर्ग (अग्रवाल नगर), दीपक अक्षपाल अपने कुछ साथियों के साथ घर गए थे। एमआईजी पुलिस ने इनके खिलाफ केस भी दर्ज किया था, लेकिन लगातार मिल रही धमकियों से जुगल किशोर परेशान थे। इसी कारण उन्होंने यह कदम उठाया।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..