• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Indore News
  • News
  • मप्र में नौ स्थानों पर बनेंगे सुपर स्पेशिएलिटी अस्पताल, 2000 करोड़ रुपए खर्च कर स्वास्थ्य केंद्र भी सुधारेंगे
--Advertisement--

मप्र में नौ स्थानों पर बनेंगे सुपर स्पेशिएलिटी अस्पताल, 2000 करोड़ रुपए खर्च कर स्वास्थ्य केंद्र भी सुधारेंगे

इंदौर | मध्यप्रदेश में हम नौ स्थानों पर सुपर स्पेशिएलिटी सेंटर शुरू करेंगे, ताकि प्रदेश के हर व्यक्ति को आधुनिक...

Danik Bhaskar | Jun 11, 2018, 02:45 AM IST
इंदौर | मध्यप्रदेश में हम नौ स्थानों पर सुपर स्पेशिएलिटी सेंटर शुरू करेंगे, ताकि प्रदेश के हर व्यक्ति को आधुनिक चिकित्सा सुविधा मिल सके। केंद्र सरकार स्वच्छ भारत के बाद अब स्वस्थ भारत पर काम कर रही है। 2022 तक इस मिशन को पूरा करेंगे। इसी के तहत प्रधानमंत्री सुरक्षा योजना आयुष्मान भारत को लागू किया गया है। यह बात केंद्रीय स्वास्थ एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अश्विनी चौबे ने रविवार को भाजपा कार्यालय में संवाददाताओं से चर्चा में कही। उन्होंने कहा कि देश में 7 लाख 50 हजार छोटे स्वास्थ्य केंद्र हैं। इन्हें और सुविधा देने का प्रयास करेंगे। साथ ही 2 हजार करोड़ रुपए खर्च कर इन्हें आधुनिक बनाने पर जोर दिया जाएगा। यही नहीं, इनमें 1356 तरह के पैकेज भी तैयार किए जा रहे हैं, जो मरीजों के लिए बेहद महत्वपूर्ण साबित होंगे।

अश्विनी चौबे

1007 व्यक्ति पर होना चाहिए 1 डॉक्टर, अभी 1600 पर एक

केंद्रीय मंत्री ने कहा देश में 1007 व्यक्तियों पर कम से कम एक डॉक्टर होना चाहिए, लेकिन अभी हालत यह है कि 1600 व्यक्तियों पर एक डॉक्टर था। जब से देश में आयुष मंत्रालय का गठन हुआ है, तब से हमने आयुर्वेदिक और होम्योपैथिक डॉक्टरों को भी इसमें शामिल किया है। अब हम जल्द ही 1007 वाली स्थिति से भी आगे निकल जाएंगे। हमने पिछले चार साल में 49 हजार डॉक्टर सरकारी संस्थाओं को दिए हैं।

प्रदेश में जल्द शुरू होंगे 5 नए मेडिकल कॉलेज

उन्होंने कहा मध्य प्रदेश में जो मेडिकल कॉलेज मंजूर हुए हैं, उनमें पांच जल्द शुरू होंगे। प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओं की स्थिति बेहतर करने के लिए राज्य शासन के साथ मिलकर कदम उठा रहे हैं। चौबे भाजपा कार्यालय पर कार्यकर्ताओं से भी मिले। उनके साथ आईडीए अध्यक्ष शंकर लालवानी, भाजपा महामंत्री नानूराम कुमावत, मीडिया प्रभारी डीएन तिवारी, नगर मंत्री सविता पटेल, वीणा शर्मा और राष्ट्रीय कार्यसमिति सदस्य विनय जांगिड़ भी मौजूद थे।