• Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Indore News
  • News
  • पेमेंट नहीं मिला तो अधूरा छोड़ दिया मूसाखेड़ी का पुल, एक लेन बनाई, उसकी एप्रोच रोड बाकी
--Advertisement--

पेमेंट नहीं मिला तो अधूरा छोड़ दिया मूसाखेड़ी का पुल, एक लेन बनाई, उसकी एप्रोच रोड बाकी

मूसाखेड़ी में फीडर रोड का धीमा काम लोगों के लिए मुश्किल का कारण बन गया है। ठेकेदार ने सड़क का बड़ा हिस्सा तो बना दिया,...

Dainik Bhaskar

Jun 11, 2018, 02:45 AM IST
पेमेंट नहीं मिला तो अधूरा छोड़ दिया मूसाखेड़ी का पुल, एक लेन बनाई, उसकी एप्रोच रोड बाकी
मूसाखेड़ी में फीडर रोड का धीमा काम लोगों के लिए मुश्किल का कारण बन गया है। ठेकेदार ने सड़क का बड़ा हिस्सा तो बना दिया, लेकिन पुल का काम अधर में छोड़ दिया। ठेकेदार पैसों की कमी को कारण बताकर बहुत धीमी रफ्तार से काम कर रहा है और इधर लोगों को बारिश की चिंता सता रही है, क्योंकि अधूरे काम से यहां बहुत परेशानी आएगी। दरअसल, मूसाखेड़ी में यह रोड रिंग रोड चौराहे से डेली कॉलेज बिजली जोन दफ्तर तक बन रही है। करीब डेढ़ किमी का ये हिस्सा आगे रेसीडेंसी एरिया, नेहरू स्टेडियम होते हुए जीपीओ चौराहे से जुड़ेगा। इसका काम फरवरी 2016 में शुरू हुआ था, लेकिन अब तक पूरा नहीं हो सका है। जिस हिस्से में नाले के ऊपर पुल बनना है, वहां ठेकेदार और निगम अफसरों के बीच भुगतान की खींचतान में काम नहीं हो पा रहा। अब स्थिति यह है कि ठेकेदार के सिर्फ दो मजदूर आते हैं, थोड़ा बहुत काम कर चले जाते हैं।

ट्रांसफॉर्मर भी नहीं किए शिफ्ट

यह पुल बिजली कंपनी जोन से महज 300 मीटर दूर बन रहा है, मतलब इसके बनते ही सड़क का काम लगभग पूरा हो जाएगा। यहां ठेकेदार ने नाले के ऊपर एक लेन बनाई, वह भी अधूरी। दूसरी लेन जहां बनना है, वहां से बिजली के खंभे और ट्रांसफॉर्मर ही शिफ्ट नहीं हुए हैं। दूसरी तरफ भी सड़क लेवलिंग का काम बाकी है। ऐसे में अभी पूरा ट्रैफिक 15 फीट चौड़े बने अधूरे पुल पर चल रहा है। इस डेढ़ किमी की सड़क के निर्माण पर निगम 12 करोड़ रुपए खर्च कर रहा है।

रिंग रोड के ट्रैफिक का दबाव बढ़ेगा

एक लेन पर रिंग रोड को रेसीडेंसी एरिया से जोड़ने वाले भारी ट्रैफिक का दबाव है। लोक परिवहन वाहनों के साथ स्कूल-कॉलेज की बसें भी यहीं से गुजरती हैं। इसके अलावा मूसाखेड़ी और रिंग रोड से लगी करीब दो दर्जन कॉलोनियों के रहवासियों के लिए आवाजाही का यही विकल्प है। निगम इंजीनियर नरेश जायसवाल ने बताया कि जो बाधाएं आ रही थीं, उन्हें दूर कर काम को जल्दी पूरा करने की कोशिश कर रहे हैं।

मूसाखेड़ी मेनरोड



इस हिस्से में पुल की दूसरी लेन बनना है, लेकिन अभी निगम ने यहां से ट्रांसफॉर्मर ही शिफ्ट नहीं किए हैं।

विवादित कॉलोनी के बीच से निकाल दी नई ड्रेनेज लाइन

इंदौर | अन्नपूर्णा रोड की कॉलोनियों की ड्रेनेज समस्या दूर करने के चक्कर में नगर निगम ने नई परेशानी पैदा कर दी है। निगम अफसरों ने अन्नपूर्णा की ड्रेनेज लाइन को केसरबाग की मेन लाइन से जोड़ने के लिए एक विवादित जमीन पर से नई लाइन बिछा दी। उक्त जमीन के स्वामित्व सहित कई बिंदुआें पर कोर्ट में मामला चल रहा है, काम करने के बाद सवाल उठ रहे हैं तो निगम उलझन में फंस गया है। जिस जमीन को लेकर विवाद हो रहा है, वह अन्नपूर्णा मंदिर के पास वाली है। विनय नगर के लिए जाने वाले इस रास्ते पर ही निगम ने करीब 48 लाख रुपए खर्च कर नई ड्रेनेज लाइन बिछाई है। इसके लिए फीडर रोड प्रोजेक्ट में बनी अन्नपूर्णा रोड के एक हिस्से को भी काट दिया। हालांकि उसे तो निगम का ठेकेदार ही रिपेयर करेगा, पर सवाल यह है कि भविष्य में उस जमीन से जुड़ा विवाद आया तो क्या होगा?

अन्नपूर्णा मंदिर के पास फीडर रोड काट दी

काट दिए प्लॉट : ट्रस्ट और कॉलोनाइजर के बीच चल रहा विवाद


अभी बमुुश्किल 15 फीट चौड़ा रास्ता मिल रहा, जिस पर रिंग रोड से जीपीओ चौराहे को लिंक करने वाली रोड का ट्रैफिक चल रहा है।

फूटेगी लाइन : जहां बनेगी सड़क, वहीं किया काम

बचाव की मुद्रा में आए निगम अफसरों का कहना है कि उन्होंने विवादित जमीन का नक्शा देखने के बाद लाइन बिछाने का काम किया। लाइन उस भाग में डाली है, जहां प्रस्तावित कॉलोनी की सड़क बन रही है, पर उनके पास इस बात का जवाब नहीं कि भविष्य में वहां कोई और प्रोजेक्ट आ गया तो क्या करेंगे। जब जमीन का मालिक ही तय नहीं तो किस नक्शे को आधार बनाकर लाइन डाली गई, यह भी स्पष्ट नहीं। अगर वहां कॉलोनी बनी तो निर्माण कार्यों के लिए बार-बार खुदाई होगी, तब ड्रेनेज लाइन भी फूटेगी।


X
पेमेंट नहीं मिला तो अधूरा छोड़ दिया मूसाखेड़ी का पुल, एक लेन बनाई, उसकी एप्रोच रोड बाकी
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..